कोर्ट ने आप विधायक अमानतुल्लाह को 4 दिन की हिरासत में भेजा

इंडिया न्यूज, New Delhi News AAP MLA Amanatullah: दिल्ली आम आदमी पार्टी के ओखला से विधायक और वक्फ बोर्ड के चेयरमैन अमानतुल्लाह खान की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। उन्हें दिल्ली वक्फ बोर्ड में करोड़ों रुपये की हेराफेरी के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। शनिवार को खान को एसीबी राऊज एवेन्यू कोर्ट में पेश किया गया। जहां से कोर्ट ने पूछताछ के लिए एंटी कलप्शन ब्रांच (एसीबी) को लिए 4 दिन की हिरासत में सौंप दिया है।

एसीबी चीफ मधुर वर्मा का कहना है कि अमानतुल्लाह खान से पहले पूछताछ की जाएगी। पूछताछ में सामने आए तथ्यों के आधार पर दोबारा उसके अन्य ठिकानों और करीबियों के भी छापेमारी की जाएगी।

एसीबी की शिकायत पर दर्ज प्राथमिकताओं में है मुख्य आरोपी

एसीबी चीफ मधुर वर्मा का कहना है कि शुक्रवार को जामिया नगर थाने में जो 3 अलग-अलग प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। उन सभी में अमानतुल्लाह खान को भी मुख्य आरोपित बनाया गया है। खान के इशारे पर छापेमारी टीम के कार्यों में बाधा डालने और मारपीट करने को कोशिश की गई। तीनों प्राथमिकी एसीबी की शिकायत पर दर्ज की गई है।

अन्य आरोपितों को भी किया जाएगा गिरफ्तार

बता दें कि जो तीन एफआईआर दर्ज कराई गई है उसमें कई लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा। वीडियो और अन्य तरीके से आरोपितों की पहचान करने की कोशिश की जा रही है। मिन्नत, जिसके यहां पिस्टल, कारतूस और 12 लाख नकदी मिले वह भी अमानतुल्लाह खान का सबसे खास बताया जा रहा है। वह ओखला के आसपास रहने वाले बिहार समाज के लोगों का नेता है।

बिल्डिंग बनाकर बेचने का काम करता है हामिद

हामिद पेशे से बिल्डर है। वह ओखला और जामिया में बिल्डिंग बनाकर बेचने का काम करता है। वह पहले आसिफ का खास हुआ करता था। फिर अमानतुल्लाह के साथ बिजनेस करने लगा। इसकी पत्नी सहारनपुर की है। लेकिन, बुलंद शहर में एक गांव की प्रधान है। अमानतुल्लाह के खादर में रहने वाले मिन्नत के यहां भी एसीबी ने छापेमारी की थी, लेकिन उसके यहां कुछ खास नहीं मिला। उमेद और इमरान के यहां से करोड़ो की प्रॉपर्टी के दस्तावेज और बिजनेस ट्रांजेक्शन के सुबूत मिले हैं।

ओखला, सीलमपुर, यूपी के रहने वाले हैं फर्जी बहाली वाले 32 लोग

दिल्ली वक्फ बोर्ड में 2019 में जिन 32 लोगों को फर्जी तरीके से तीन महीने के लिए ठेके पर नौकरी पर रखा गया था। वे लोग ओखला, सीलमपुर, यूपी के रहने वाले हैं। हामिद के यहां से हथियार और पैसे मिले, लेकिन मिन्नत के यहां कुछ खास नहीं मिला। मिन्नत उस इलाके में रहने वाले बिहार समाज के लोगों का बड़ा नेता है।

ये भी पढ़ें : शिवाजी पार्क में दशहरा रैली को लेकर संघर्ष जारी, दोनों में से कोई भी पीछे हटने को तैयार नहीं, असमंजस बरकरार

ये भी पढ़ें : केदारनाथ मंदिर में क्यों सोने की परत नहीं चढ़ाने दे रहे पुरोहित, लगाया रात्रि पहरा?

ये भी पढ़ें : ई-रजिस्ट्रेशन कर खरीदें पीएम को मिले उपहार, नीलामी शुरू

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtub
Latest news
Related news