स्वच्छता सर्वेक्षेण में छठी बार भी इंदौर सबसे स्वच्छ शहर घोषित,किस शहर ने किया दूसरा व तीसरा स्थान प्राप्त,जानें

इंडिया न्यूज,इंदौर, (Indore declared cleanest city for sixth time in the cleanliness survey) : केंद्र सरकार द्वारा प्रत्येक वर्ष किये जाने वाले स्वच्छता सर्वेक्षण में अब फिर छठी बार इंदौर ने स्वच्छ शहर की श्रेणी में प्रथम स्थान प्राप्त किया है । वहीं सूरत और नवी मुंबई ने क्रमश: दूसरा तथा तीसरा स्थान हासिल किया । आपको बता दें कि स्वच्छता सर्वेक्षण के परिणाम को लेकर ही शनिवार को ही घोषणा कर दी थी । स्वच्छ सर्वेक्षण पुरस्कार 2022 में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्यों की श्रेणी में मध्य प्रदेश ने पहला स्थान हासिल किया है । इसके बाद छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र का स्थान है । पिछले साल छत्तीसगढ़ को पहला स्थान मिला था । त्रिपुरा 100 से कम शहरी स्थानीय निकायों वाले राज्य की श्रेणी में पहले स्थान पर है । इसके बाद झारखंड और उत्तराखंड हैं । इंदौर और सूरत ने इस साल बड़े शहरों की श्रेणी में अपना शीर्ष स्थान बरकरार रखा,जबकि विजयवाड़ा ने अपना तीसरा स्थान गंवा दिया और यह स्थान नवी मुंबई को मिला ।

100 शहरों की सूची में आगरा सबसे नीचे

सर्वेक्षण के दौरान इस खंड के 100 शहरों की सूची में एक लाख से अधिक आबादी वाले में आगरा सबसे नीचे है । एक लाख से अधिक आबादी वाले शीर्ष 10 शहर हैं: इंदौर, सूरत, नवी मुंबई, जीवीएम विशाखापत्तनम, विजयवाड़ा, भोपाल, तिरुपति, मैसूर, नयी दिल्ली और अंबिकापुर । एक लाख से कम आबादी वाले शहरों की श्रेणी में मध्य प्रदेश का गाडरवारा सबसे नीचे रहा । राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने शनिवार को यहां एक कार्यक्रम में विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए । इस मौके पर केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी और अन्य भी मौजूद थे ।

1 लाख से कम आबादी मे महाराष्ट्र का पंचगनी प्रथम

एक लाख से कम आबादी वाले शहरों की श्रेणी में महाराष्ट्र का पंचगनी पहले स्थान पर रहा. इसके बाद छत्तीसगढ़ का पाटन (एनपी) और महाराष्ट्र का करहड़ रहा. एक लाख से अधिक आबादी की श्रेणी में हरिद्वार गंगा के किनारे बसा सबसे स्वच्छ शहर रहा. इसके बाद वाराणसी और ऋषिकेश रहे.

एनडीएमसी की भी मिला इनाम

सर्वेक्षण के मिले परिणामों के अनुसार, गंगा के किनारे बसे व एक लाख से कम आबादी वाले शहरों में बिजनौर पहले स्थान पर रहा। इसके बाद क्रमश: कन्नौज और गढ़मुक्तेश्वर का स्थान रहा। सर्वेक्षण में,महाराष्ट्र के देवलाली को देश का सबसे स्वच्छ छावनी बोर्ड चुना गया । नई दिल्ली नगरपालिका परिषद क्षेत्र को देश के सबसे स्वच्छ छोटे शहर श्रेणी में प्रथम स्थान दिया गया, जिसकी आबादी एक लाख से तीन लाख के बीच है । नोएडा 3-10 लाख आबादी की श्रेणी में देश के सर्वश्रेष्ठ आत्मनिर्भर मध्यम शहर (बेस्ट सेल्फ सस्टेनेबल मीडियम सिटी) के रूप में उभरा. तिरुपति ने सफाईमित्र सुरक्षित शहर की श्रेणी में पहला पुरस्कार हासिल किया. चंडीगढ़ ने फास्टेस्ट मूवर स्टेट/नेशनल कैपिटल या यूटी की श्रेणी में पहला स्थान हासिल किया है, जबकि विजयवाड़ा स्वच्छतम राज्य/राष्ट्रीय राजधानी या यूटी की श्रेणी में विजेता रहा ।

2016 में 73 शहरों के साथ हुआ था सर्वेक्षण

सर्वेक्षण 2016 में केवल 73 शहरों के मूल्यांकन के साथ शुरू हुआ था और इस साल 4354 शहरों (62 छावनी बोर्ड और 91 गंगा टाउन सहित) के मूल्यांकन को पूरा करने में कामयाब रहा है ।

स्वच्छता सर्वेक्षण में पश्चिम बंगाल ने नहीं लिया था हिस्सा

पश्चिम बंगाल के 126 यूएलबी ने केंद्र सरकार द्वारा किए गए वार्षिक स्वच्छता सर्वेक्षण में भाग नहीं लिया । अधिकारियों ने बताया कि 19 लाख से अधिक लोगों ने आमने-सामने प्रतिक्रिया दी । उन्होंने बताया कि सर्वेक्षण के दौरान स्वच्छता ऐप,वोट फॉर योर सिटी ऐप और माई गोव ऐप जैसे विभिन्न स्रोतों के माध्यम से नौ करोड़ नागरिकों की प्रतिक्रिया प्राप्त की गई ।

विशाखापत्तनम सबसे स्वच्छ बड़ा शहर

विशाखापत्तनम को 10-40 लाख आबादी की श्रेणी में भारत के सबसे स्वच्छ बड़े शहर के रूप में पहला स्थान मिला । मेरठ 10 लाख से 40 लाख की आबादी की श्रेणी में फास्टेस्ट मूवर बिग सिटी बनकर उभरा है । राष्ट्रपति मुर्मू सहित केंद्रीय मंत्री पुरी ने विजेताओं को बधाई देते हुए कहा कि 35 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ शहरी भारत खुले में शौच से मुक्त हो गया है । केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय के अनुसार,स्वच्छ सर्वेक्षण- 2022 मूल्यांकन के लिए कुल अंक 7,500 थे ।

ये भी पढ़े:- Annu Kapoor हुए ऑनलाइन ठगी का शिकार, बैंक का अधिकारी बन की लाखों की लूट – India News

बैंक ऑफ बड़ौदा कर रहा 346 विभिन्न पदों पर भर्ती, कब तक करें आवेदन,जानें

यूपीएससी कर रहा सीपीएफ व डीएएफ पदों पर भर्ती,कब तक करें आवेदन,कौन कर सकता है आवेदन,जानें

पूर्वी रेलवे ने आरआरसी में निकाली अपरेंटिस की 3115 पदों पर भर्ती, कब तक करें आवेदन जानें

 

Latest news
Related news