नरेंद्र मोदी की राजनीतिक पारी खत्म करना चाहती थी तीस्ता, मौत की सजा दिलाने के लिए जुटाए थे झूठे सबूत

  • संजीव भट्ट और आरबी श्रीकुमार के साथ मिलकर रचा था षड्यंत्र

इंडिया न्यूज, Ahmedabad News। Teesta Setalvad Case: विशेष जांच टीम ने बुधवार को तीस्ता पर गंभीर आरोप लगाए हैं। तीस्ता सीतलवाड़ और दो अन्य के खिलाफ अहमदाबाद की कोर्ट में चार्जशीट फाइल की है। चार्जशीट में कहा गया है कि तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को फंसाने की गहरी साजिश रची गई थी। इसमें तीस्ता के अलावा पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट और आरबी श्रीकुमार शामिल थे। ये तीनों ही चाहते थे कि नरेंद्र मोदी को जेल हो।

एसआईटी ने दायर किया 100 पन्नों का आरोपपत्र

अहमदाबाद सेशन कोर्ट में एसआईटी ने 100 पन्नों का आरोपपत्र दायर किया है। आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 468 (धोखाधड़ी के उद्देश्य से जालसाजी), 194 (मौत की सजा दिलाने के लिए दोष सिद्धि के इरादे से झूठे सबूत देना या गढ़ना) और 218 (लोक सेवक द्वारा लोगों को सजा से बचाने के इरादे से गलत जानकारी दर्ज करना) समेत अन्य प्रविधानों के तहत आरोप लगाए गए हैं।

तीस्ता का साथ न देने पर मिलती थी धमकी

आरोप लगाए गए हैं कि तत्कालीन मुख्यमंत्री को फंसाने के लिए वकीलों की फौज को काम पर लगाया गया था। फर्जी दस्तावेज बनाए गए और काल्पनिक कहानियों पर पीड़ितों के साइन कराए गए। जो लोग तीस्ता का साथ देने को तैयार नहीं होते थे उन्हें धमकाया भी जाता था। पूर्व आईपीएस आरबी श्रीकुमार ने भी एक गवाह को धमकी दी थी।

कांग्रेस के साथ मिलकर काम करती थी तीस्ता

चार्जशीट में कहा गया है कि तीस्ता कांग्रेस के साथ मिलकर काम करती थी और राहत शिविरों में जाकर लोगों को गुमराह करने की कोशिश करती थीं । वह पीड़ितों को मामला राज्य से बाहर की कोर्ट में ले जाने के लिए उकसाती थीं। इसके अलावा यह भी कहा गया है कि पीड़ितों के नाम पर उन्होंने चंदा इकट्ठा किया। तीस्ता और संजीव भट्ट आपस में संपर्क में थे। वे चाहते थे कि तत्कालीन मुख्यमंत्री की राजनीतिक पारी खत्म कर दी जाए।

मौत के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहा है संजीव भट्ट

जून के अंतिम सप्ताह में गिरफ्तार सीतलवाड़ को उच्चतम न्यायालय के दो सितंबर के आदेश के बाद अंतरिम जमानत पर रिहा कर दिया गया था। वहीं, श्रीकुमार इस मामले में जेल में बंद हैं जबकि तीसरा आरोपी भट्ट पालनपुर की जेल में है, जहां वह हिरासत में मौत के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहा है।

पूर्व आईपीएस को भी बना लिया था गवाह

जांच अधिकारी एवं सहायक पुलिस आयुक्त बी.वी. सोलंकी ने कहा कि यहां मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत में आरोपपत्र दाखिल किया गया। उन्होंने बताया कि पूर्व आईपीएस अधिकारी से वकील बने राहुल शर्मा को भी इस मामले में गवाह बनाया गया है।

ये भी पढ़े : सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद गहलोत ने दिया संकेत, कहा-आलाकमान जो जिम्मेदारी सौंपेगी उसे निभाएंगे

ये भी पढ़े : अधिवक्ता की न्यायिक प्रक्रिया के जरिए समाज में फैली कुरीतियों को दूर करने में अहम भूमिका : कार्तिक शर्मा

ये भी पढ़े : हिजाब विवाद: सुप्रीम कोर्ट में कर्नाटक सरकार ने कहा-किसी भी धर्म को मनमाना अधिकार नहीं, संतुलन जरूरी

ये भी पढ़े : नीरा राडिया टेप केस: नीरा राडिया को सीबीआई से क्लीन चिट, सुप्रीम कोर्ट में सौंपनी होगी स्टेटस रिपोर्ट

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

Latest news
Related news