PFI Case: 11 पीएफआई कार्यकर्ता 20 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में

इंडिया न्यूज़, (PFI Case) : राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की विशेष अदालत ने शुक्रवार को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के 11 कार्यकर्ताओं को 21 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। पीएफआई कार्यकर्ता, जिन्हें यूएपीए के तहत बुक किया गया था और पिछले सप्ताह एनआईए द्वारा केरल में विभिन्न स्थानों से गिरफ्तार किया गया था, उनकी सात दिनों की हिरासत समाप्त होने के बाद एनआईए ने अदालत में पेश किया था।

इन आरोपियों को भेजा हिरासत में

जिन आरोपियों को न्यायिक हिरासत में भेजा गया है, वे हैं करमाना अशरफ मौलवी (पीएफआई के राष्ट्रीय प्रभारी, शिक्षा विंग), सादिक अहमद (पीएफआई पठानमथिट्टा जिला सचिव, शिहास (पीएफआई जोनल सचिव), अंसारी पी, एमएम मुजीब, नजुमुद्दीन, सैनुद्दीन टीएस (पीएफआई कोट्टायम जिला सचिव), पीके उस्मान, याहिया कोया (पीएफआई राज्य कार्यकारी सदस्य), के मुहम्मदली (राष्ट्रीय प्रभारी, पीएफआई की विस्तार शाखा), और सीटी सुलेमान (कासरगोड के जिला अध्यक्ष) है।

 पहले 7 दिनों के लिए भेजा गया था हिरासत में

इससे पहले कोर्ट ने उन्हें आज तक 7 दिन के लिए एनआईए की हिरासत में भेज दिया था। पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के खिलाफ अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई से जुड़ी एक बड़ी सफलता में, केंद्रीय जांच एजेंसियों को “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यात्रा के दौरान अशांति पैदा करने के इरादे से बिहार की राजधानी पटना में 12 जुलाई को एक प्रशिक्षण शिविर आयोजित करने के लिए संगठन के खिलाफ इनपुट मिले हैं।

ये भी पढ़ें : दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के बावजूद करना पड़ रहा गरीबी, भुखमरी, बेरोजगारी, महंगाई का सामना : गडकरी

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube
Latest news
Related news