मौलाना बदरुद्दीन अजमल ने कहा-अगर मदरसों में बुरे तत्व मिलते हैं तो सरकार गोली मार दे, हमें कोई सहानुभूति नहीं

इंडिया न्यूज, Guwahati News। Maulana Badruddin Ajmal : ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) के अध्यक्ष मौलाना बदरुद्दीन अजमल ने कहा है कि अगर मदरसों में बुरे तत्व मिलते हैं तो हमें उनसे कोई सहानुभूति नहीं है। सरकार को जहां भी ऐसे तत्व मिलें उन्हें गोली मार देनी चाहिए। यदि मदरसों में एक या दो खराब शिक्षक पाए जाते हैं, तो सरकार को उन्हें हिरासत में लेना चाहिए और जांच पूरी होने के बाद उन्हें उठा लेना चाहिए, उसके बाद चाहे वे जो चाहें करे।

लेकिन पूरे मुस्लिम समुदाय को जिहादी कहना ठीक नहीं

लेकिन अगर उनके कारण पूरे मुस्लिम समुदाय को जिहादी कहा जाता है तो यह ठीक नहीं। मौलाना बदरुद्दीन अजमल ने यह जिहाद नहीं है, यह आतंकवाद है। सरकार को उन्हें रोकना है, उन्हें अपनी सीमाओं की रक्षा करनी चाहिए और अपनी खुफिया जानकारी को मजबूत करना चाहिए। वहीं उन्होंने देश में बढ़ती महंगाई पर सरकार की आलोचना की।

नेताओं को अपनी पत्नियों से पूछना चाहिए महंगाई क्या है

एआईयूडीएफ प्रमुख ने भगवा पार्टी के मंत्रियों और सांसदों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वे स्पष्ट रूप से इस बात से अनजान थे कि बढ़ती कीमतों से जनता कैसे प्रभावित हो रही है।

उन्होंने केंद्रीय मंत्रियों और बीजेपी सांसदों से अपनी पत्नियों से महंगाई के बारे में पूछने के लिए कहा है। उन्होंने कहा, किसी भी मंत्री के लिए कोई महंगाई नहीं है। भाजपा सांसदों को अपनी पत्नियों से पूछना चाहिए कि वे रसोई कैसे चला रहे हैं।

बीजेपी सांसदों को अपनी पत्नियों से पूछना चाहिए कि वे रसोई कैसे चला रही हैं। सरकार को इसपर ध्यान देना चाहिए। ध्यान नहीं देंगे तो महंगाई 2024 में उनकी सरकार को खा जाएगी।

देवबंद के मदरसे से हाल ही में युवक किया था गिरफ्तार

एनआईए ने हाल ही में आतंकी संगठन आईएस से कनेक्शन के मामले में देवबंद के मदरसे में पढ़ाई कर रहे एक युवक को गिरफ्तार किया है। जांच के बाद बताया गया कि वह सोशल मीडिया एप के जरिये संगठन के लिए ट्रांसलेटर का काम करता था।

कर्नाटक में पकड़े गए आईएस माड्यूल से मिले लिंक

एक रिपोर्ट के मुताबिक फारूख नाम का यह युवक कई भाषाओं का जानकार है और वह कई सालों से यहां रह रहा था। उसके लिंक कर्नाटक में पकड़े गए एक आईएस माड्यूल से मिले हैं। टेलीग्राम के जरिये आतंकवाद से जुड़ा हुआ साहित्य फारूख तक आता था और वह अनुवाद करके माड्यूल को मुहैया कराता था।

ये भी पढ़े :  प्रधानमंत्री के निर्देश पर पीजीआई चंडीगढ़ में पंजाब के मरीजों का इलाज फिर शुरू

ये भी पढ़े :  बिहार में तीन लोगों की संदिग्ध मौत, जहरीली शराब पीने से जान जाने की आशंका

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

Latest news
Related news