जानिए कैसे फैलता है मंकीपॉक्स और इससे बचने के उपाय?

इंडिया न्यूज, New Delhi News। Monkeypox In India : देश दुनिया में मंकीपाक्स का खतरा तेजी से बढ़ रहा है। अभी बीते दिनों केरल में मंकीपाक्स संक्रमण की चपेट में आने से एक लड़के की मौत हो गई। अब तक देश में मंकीपाक्स के आठ मामले दर्ज हो चुके हैं। बता दें जिस लड़के की केरल में मौत हुई है वह संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में ही मंकीपाक्स से संक्रमित पाया गया था।

बता दें कि देश में मंकीपाक्स के केस मिलने से सरकार की टेंशन बढ़ गई है। अब तक केरल, तमिलनाडु और दिल्ली में मंकीपाक्स संक्रमित मरीज मिले हैं। आइए जानेंगे केरल में मरने वाला मरीज कौन था। मंकीपाक्स के क्या हैं लक्षण हैं।

क्या कहता है डब्ल्यूएचओ?

बता दें कि इस बात के लिए डब्ल्यूएचओ कहता आ रहा है कि समलैंगिक पुरुषों में मंकीपाक्स के संक्रमण की ज्यादा संभावना है। या जिस पुरुष का संबंध दूसरे पुरुष से रहता है उन्हें मंकीपाक्स होने का खतरा ज्यादा है। इस बात को लेकर कम्यूनिटी में हलचल थी।

अब डब्ल्यूएचओ ने नई हेल्थ एडवाइजरी जारी की है जिसमें कहा है कि यह ध्यान रखना जरूरी है कि मंकीपाक्स का खतरा केवल पुरुषों के साथ यौन संबंध यानी सेक्स करने वाले पुरुषों तक ही सीमित नहीं है। कोई भी व्यक्ति, जो किसी संक्रमित व्यक्ति के कान्टैक्ट में है, उसे मंकीपाक्स होने का खतरा ज्यादा है।

मंकीपाक्स के लक्षण क्या हैं?

बुखार आना। शरीर में दर्द होना। ठंड लगना। थकान और सुस्ती बनी रहना। मांसपेशियों में दर्द होना। बुखार के समय बहुत ज्यादा खुजली वाले दाने उभर सकते हैं। चेहरे, हाथ और शरीर के बाकी हिस्सों पर चकत्ते और दाने होना।

मंकीपाक्स से अब तक कितनी मौतें हुई?

अभी तक दुनियाभर में मई के बाद 78 देशों में मंकीपाक्स के लगभग 20,000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। सबसे ज्यादा मौत अफ्रीका में हुई हैं। यहां 75 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। ब्राजील में एक और स्पेन में दो मंकीपॉक्स से मौत हुई है।

केरल में मेडिकल हिस्ट्री क्या है?

मरीज त्रिशूर के पुन्नियूर का रहने वाला था। यूएआई से लौटने के बाद 22 वर्षीय त्रिशूर निजी अस्पताल में भर्ती था। जहां उसकी मौत भी हुई। वह 22 जुलाई को केरल पहुंचा था और 26 जुलाई को बुखार होने के बाद अस्पताल पहुंचा था।

बाद में उसे दूसरे अस्पताल ले जाया गया, जहां लाइफ सपोर्टिंग सिस्टम पर रखा गया था। केरल स्वास्थ्य विभाग ने उसके सैंपल अलाप्पुझा स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ वायरोलॉजी के केरल ब्रांच को भेजे थे।

क्या मौत की वजह मंकीपाक्स है?

बताया जाता है कि पहले इस बात का पता नहीं चल पाया था कि मौत की वजह क्या है। मौत का सही कारण तलाशने के बाद कंफर्म किया गया कि युवक की मौत का असल कारण मंकीपाक्स था। मरीज में इंसेफलाइटिस और थकान के लक्षण भी थे।

किस उम्र के लोगों में मंकीपाक्स का खतरा ज्यादा?

विशेषज्ञ मुताबिक मंकीपाक्स चेचक के जैसी बीमारी है, जो कोरोनावायरस की तरह फैल रही है। कहा जा रहा है जिन लोगों को चेचक का टीका है, उन्हें मंकीपाक्स का खतरा कम है।

दरअसल 1980 के पहले पैदा हुए लोगों को चिकन पाक्स या स्माल पाक्स की वैक्सीन लग चुकी है। उसके बाद जन्मे लोगों को मंकीपाक्स का जोखिम हो सकता है। यानी 42 साल से कम उम्र के लोगों पर मंकीपाक्स का बड़ा खतरा है। साथ ही सबसे अधिक खतरा बच्चों को है।

हेल्थ मिनिस्ट्री गाइडलाइन क्या कहती है?

सभी हेल्थ सेंटर्स ऐसे लोगों पर कड़ी नजर रखें, जिनके शरीर पर दाने दिखते हैं। उन पर नजर रखें, जिन्होंने पिछले 21 दिनों में मंकीपाक्स सस्पेक्टेड देशों की यात्रा की हो।

संदिग्ध केस को हेल्थकेयर फैसिलिटी में आइसोलेट किया जाएगा, जब तक मरीज के शरीर में दानों से पपड़ी नहीं उधड़ जाती। मंकीपाक्स संदिग्ध मरीजों के फ्लूइड या खून का सैंपल एनआईवी पुणे में टेस्ट के लिए भेजा जाएगा।

अगर कोई पाजिटिव केस पाया जाता है, तो फौरन कान्टैक्ट ट्रेसिंग शुरू की जाएगी। विदेश से आने वाले यात्रियों को ऐसे लोगों के संपर्क में आने से बचना चाहिए, जो स्किन की बीमारी से पीड़ित हों।

यात्रियों को चूहे, गिलहरी, बंदर सहित जिंदा और मरे हुए जंगली जानवरों के संपर्क में भी नहीं आना चाहिए। अफ्रीकी जंगली जानवरों से बनाए गए प्रोडक्ट्स जैसे-क्रीम, लोशन और पाउडर का इस्तेमाल करने से बचें।

मंकीपाक्स से बचाव क्या?

  1. सी भी व्यक्ति में मंकीपाक्स जैसे लक्षण दिखें तो तुरंत चिकित्सक को दिखाएं।
  2. मंकीपाक्स से बचाव के लिए चेचक का टीका जरूर लगवाएं।
  3. जो लोग इन्फेक्टेड देशों से लौट रहे हैं, उनके संपर्क में आने से बचें।
  4. साफ सफाई का ख्याल रखें।
  5. संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने पर साबुन से हाथ धोएं।
  6. सैनिटाइजर का उपयोग करें।

ये भी पढ़े : जानिए क्यों तेजी से घूमने लगी है धरती, पृथ्वीवासियों पर होगा क्या असर?

ये भी पढ़े : 2023 तक केंद्रीय सशस्त्र बलों में होगी 84 हजार से अधिक भर्तियां, निर्देश जारी

ये भी पढ़े : दिल्ली में मिला मंकीपॉक्स का तीसरा केस, पहला ठीक होकर लौटा, देश में अब कुल 8 मामले

ये भी पढ़े : कंपनी ने महिंद्रा बोलेरो इलेक्ट्रिक पिकअप का टीजर किया जारी, जल्द होगी लॉन्च

हमे Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

Latest news
Related news