अरुणाचल प्रदेश में चीन सीमा पर तेजी से हेलीपैड बना रहा भारत

इंडिया न्यूज, Tezu News, (Arunachal Pradesh)। India China Border: अरुणाचल प्रदेश में चीन के साथ लगती भारत की वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) की रक्षा करने वाली सभी अग्रिम चौकियों के पास कम से कम एक बड़ा हेलीपैड बनाया जाएगा। वहीं हेलीपैड बनाने का कार्य शुरू भी कर दिया है। यह निर्माण जोरों पर चल रहा है।

हर 8 से 10 किमी पर होगी ऐसी सुविधाएं

बताया जा रहा है कि हर 8 से 10 किलोमीटर की दूरी पर ऐसी सुविधाएं उपलब्ध कराने का लक्ष्य है। हेलीपैड बनने से बहु-भूमिका वाले चिनूक हेलीकप्टरों का इस्तेमाल कर सैनिकों और सैन्य उपकरणों को जरूरत के समय तीव्रता से एलएसी पर भेजा जा सकेगा।

युद्ध क्षमताओं को बढ़ाने पर दिया जा रहा जोर

वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि क्षेत्र में सेना की युद्ध के लिए तैयार रहने की क्षमताओं को बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। पूर्वी अरुणाचल प्रदेश में माउंटेन ब्रिगेड के कमांडर ब्रिगेडियर टीएम सिन्हा ने बताया, अग्रिम चौकियों पर हेलीपैड बनाए जा रहे हैं ताकि चिनूक 47 (एफ) हेलीकाप्टरों को उड़ान भरने और लैंडिंग में सुविधा हो। इन हेलीकाप्टरों को अमेरिका से खरीदा गया था।

सेना और एनटीपीसी ने किया सौर ऊर्जा समझौता

वहीं दूसरी ओर सेना की पश्चिमी कमान और राष्ट्रीय ताप विद्युत निगम (एनटीपीसी) ने गुरुवार को दीर्घकालिक बिजली खरीद समझौते (पीपीए) पर हस्ताक्षर किए। इसके तहत पश्चिमी कमान को देश के राष्ट्रीय सौर ग्रिड से 25 मेगावाट सौर ऊर्जा मिलेगी।

सेना के एक अधिकारी ने कहा कि पश्चिमी कमान ने अगले 27 वर्षों के लिए देश के राष्ट्रीय सौर ग्रिड से सीधे 25 मेगावाट सौर ऊर्जा प्राप्त करने के लिए एनटीपीसी के साथ एक दीर्घकालिक पीपीए पर हस्ताक्षर किए हैं।

ये भी पढ़ें: जस्टिस चंद्रचूड़ की अदालत: हम नहीं चाहते कि उच्चतम न्यायालय तारीख-पे-तारीख अदालत बने

ये भी पढ़ें: साइरस मिस्त्री डेथ केस: मर्सिडीज-बेंज ने सौंपी रिपोर्ट, कहा-हादसे से 5 सेकेंड पहले लगाए गए थे ब्रेक

ये भी पढ़ें: क्या राजनाथ सिंह को मंगोलिया में उपहार स्वरूप मिला घोड़ा लाया जाएगा भारत, क्या है घोड़ा गिफ्ट के पीछे की वजह?

ये भी पढ़ें: 12 सितंबर तक गोगरा-हॉट स्प्रिंग्स से वापस आ जाएंगे भारत और चीन के सैनिक

ये भी पढ़ें: जानिए त्वचा के लिए कैसे लाभकारी है तुलसी ?

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !
Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

Latest news
Related news