कांग्रेस नहीं तो अब किस पार्टी में शामिल होंगे वरुण?

बीजेपी नेता वरुण गांधी(Varun Gandhi) इन दिनों खबरों में हैं। वरुण गांधी के बारे में सियासी गलियारों में अटकलें लगाई जा रही है कि वह जल्द बीजेपी छोड़ किसी अन्य पार्टी में शामिल हो सकते हैं। बता दें कि वरुण गांधी वर्तमान में बीजेपी से उत्तरप्रदेश के पीलीभीत लोकसभा संसदीय क्षेत्र से सांसद हैं। 2024 का लोकसभा चुनाव में अब कुछ ही महीनों का समय शेष है। ऐसे में बताया जा रहा है कि वरुण बीजेपी में अपने राजनीतिक भविष्य को लेकर चिंतित हैं।

वरुण गांधी का बीजेपी से मोहभंग !

वरुण के द्वारा हाल में दिए गए बयानों को टटोलें तो ऐसा प्रतीत होता है जैसे वरुण गांधी का अब भारतीय जनता पार्टी से मोहभंग हो गया है। हाल के एक बयान में वरुण गांधी ने किसानों और नौजवानों को लेकर भाजपा के नीतियों पर सवाल उठाए। उन्होंने बढ़ती मंहगाई को लेकर भी मौजूदा सरकार पर निशाना साधा। वरुण ने ट्वीट कर लिखा ‘भ्रष्टाचार,महंगाई और आर्थिक नीतिगतअव्यवस्था के कारण बड़ी संख्या में छोटे उत्पादक और दुकानदार काम-धंधा बंद करने पर मजबूर हैं। एमाज़ॉन,वालमार्ट के बजाय अपने पड़ोस के छोटे दुकानदारों से खरीदारी करके इनका साथ दीजिए। वैश्विक मंदी के समय इन्होंने ही देश की अर्थव्यवस्था को सम्भाला था।’ वरुण गांधी बढ़ती बेरोजगारी के लिए भी सरकार को जिम्मेदार ठहराया।

कांग्रेस ने वरुण के लिए दरवाजे किए बंद

पिछले दिनों वरुण गांधी के कांग्रेस में शामिल होने के सवालों पर राहुल गांधी ने प्रतिक्रिया दी। राहुल ने कहा कि वरुण की विचारधारा अलग है और मेरी विचारधारा अलग है। उन्हें यहां दिक्कत होगी। मैं उनसे मिल सकता हूं यहां तक की उन्हें गले लगा सकता हूं, लेकिन हम दोनों की विचारधारा अलग है। वह बीजेपी में हैं अगर वो हमारे साथ आगे चलेंगे तो उन्हें दिक्कत होगी, क्योंकि हमारी विचारधारा अलग है। राहुल गांधी की इस प्रतिक्रिया के बाद ऐसा माना जाने लगा कि वरुण के लिए कांग्रेस में शामिल होना कठिन है।

समाजवादी पार्टी एकमात्र विकल्प

अब बीजेपी के बाद वरुण गांधी के पास समाजवादी पार्टी में जाने का एक मात्र बचा है। बता दें वरुण गांधी लंबे समय से उत्तरप्रदेश की राजनीति कर रहे हैं। उत्तरप्रदेश के किसान और युवा वर्ग वरुण की राजनीति से काफी प्रभावित हैं। विश्लेषकों का मानना है कि उत्तरप्रदेश की राजनीति में वरुण गांधी एक बड़ा चेहरा हैं। ऐसे में अगर वह बीजेपी का साथ छोड़ते हैं तो जाहिर तौर पर उन्हें इसका नुकसान होगा। वहीं एसपी में शामिल होने की तो शिवपाल यादव ने खुले तौर पर कहा है कि जो भी किसानों और युवाओं की राजनीति करने चाहते हैं, उनका समाजवादी पार्टी में स्वागत है।

Latest news
Related news