रोजाना सुबह 5 बजे जग जाते हैं धनखड़, नाश्ते में रात की ठंडी रोटी पसंद

  • 1951 में राजस्थान के झुंझुनूं जिले के किठाना गांव में जन्मे थे धनखड़

इंडिया न्यूज, New Delhi News। Vice President Election-2022 Result : उपराष्ट्रपति चुनाव का परिणाम आ गया है। यह चुनाव NDA के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ ने 528 वोटों के साथ जीत लिया है। चुनाव के परिणाम घोषित कर दिए गए हैं। एम वेंकैया नायडू के बाद अब वे देश के अगले उपराष्ट्रपति होंगे। उनकी जीत के बाद राजस्थान से लेकर दिल्ली तक जश्न मनाया जा रहा है।

योग और व्यायाम के साथ करते हैं दिन की शुरुआत

आपको बता दें कि जगदीप धनखड़ मूल रूप से राजस्थान के झुंझुनूं जिले के किठाना गांव के निवासी हैं। उनका जन्म 1951 में गांव में ही हुआ था। वह साधारण किसान परिवार से संबंध रखते हैं। धनखड़ सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील भी रह चुके हैं। वह रोज सुबह 5 बजे जाग जाते हैं। इसके बाद वह योग और व्यायाम करते हैं। फिर नहाकर ठाकुरजी की पूजा करते हैं।

आज भी सादा जीवन जीते है जगदीप धनखड़

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के अलावा धनखड़ मंत्री भी रह चुके हैं लेकिन वह आज भी सादगी से जीते हैं। उनकी दिनचर्या और खाने-पीने का रुटीन फिक्स रहता है। वह सुबह नाश्ते में हमेशा रात की ठंडी रोटी खाते हैं। साथ में दही और काचरे की चटनी होती है।

किठाना गांव में धनखड़ के फार्म हाउस में काम करने वाले महिपाल का कहना है कि कई साल से जगदीप को वह यही खाते देख रहे हैं। दोपहर के भोजन में धनखड़ चपाती और सब्जी खाते हैं। शाम को खिचड़ी या दलिया खाते हैं। भाभीजी के हाथ का चूरमा भी उन्हें बेहद पसंद है।

अपने फार्म हाउस में खोला है फ्री सिलाई ट्रेनिंग सेंटर

फार्म हाउस में धनखड़ ने पांच कमरे भी बनाए हैं और वहां वह और उनकी पत्नी सुदेश धनखड़ 2008 से जरूरतमंद महिलाओं के लिए फ्री सिलाई ट्रेनिंग सेंटर चला रहे हैं। जरूरतमंद महिलाओं को यहां फ्री सिलाई मशीन भी दी जाती है। धनखड़ ने फार्म हाउस में बच्चों के लिए स्पोकन इंग्लिश क्लासेज व कम्प्यूटर कोर्स भी शुरू करवाए हैं। एक लाइब्रेरी भी बनवाई है।

अपने गांव में अंग्रेजी में बात करने वाले पहले शख्स

महिपाल का कहना है कि यह पूरा काम अब भाभीजी सुदेश धनखड़ देखती हैं। वह हर दूसरे दिन फोन करके स्टाफ से पूरी जानकारी लेती हैं। महिपाल ने बताया कि जगदीप धनखड़ गांव में अंग्रेजी में बात करने वाले पहले शख्स थे और अब उनकी ख्वाहिश है, गांव का हर लड़का धड़ल्ले से अंग्रेजी बोले। इसी सोच के साथ कुछ वर्ष पहले उन्होंने यहां स्पोकन इंग्लिश व कम्प्यूटर ट्रेनिंग सेंटर शुरू करवाया है।

राजनीतिक सफर…

जगदीप धनखड़ ने जनता दल से अपनी राजनीति की शुरुआत की थी। 1989 में वह झुंझनुं से सांसद बने। उन्हें 1989 से 1991 तक वीपी सिंह और चंद्रशेखर की सरकार में केंद्रीय राज्य मंत्री भी बनाया गया।

हालांकि, जब 1991 में हुए लोकसभा चुनावों में जनता दल ने जगदीप धनखड़ का टिकट काट दिया तो वह पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए और अजमेर के किशनगढ़ से कांग्रेस के टिकट पर 1993 में चुनाव लड़ा और विधायक बने।

2003 में उनका कांग्रेस से मोहभंग हुआ और वे कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए। जगदीप धनखड़ को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 30 जुलाई 2019 को बंगाल का 28वां राज्यपाल नियुक्त किया था।

ये भी पढ़े : NDA उम्मीदवार जगदीप धनखड़ बने देश के नए उपराष्ट्रपति, 11 अगस्त को लेंगे शपथ

ये भी पढ़े : उपराष्ट्रपति चुनाव की वोटिंग खत्म, थोड़ी देर में शुरू होगी मतगणना

ये भी पढ़े : मौलाना बदरुद्दीन अजमल ने कहा-अगर मदरसों में बुरे तत्व मिलते हैं तो सरकार गोली मार दे, हमें कोई सहानुभूति नहीं

ये भी पढ़े :  प्रधानमंत्री के निर्देश पर पीजीआई चंडीगढ़ में पंजाब के मरीजों का इलाज फिर शुरू

ये भी पढ़े :  बिहार में तीन लोगों की संदिग्ध मौत, जहरीली शराब पीने से जान जाने की आशंका

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

Latest news
Related news