सेब के किसानों की नाराज़गी, हिमाचल में किस पर पड़ेगी भारी?

इंडिया न्यूज़ (शिमला, apple farmers in himachal elections): हिमाचल प्रदेश में आपको ज्यादातर जगहों पर बड़े-बड़े जाल नज़र आ जाएंगे। यह जाल सेब के खेत को ओलावृष्टि से बचाने के लिए होते है। सेब की खेती के लिए जाल बहुत महत्वपूर्ण होता है जो सेब के खेत को कई चीजों से बचाता है, सेब के खेत हिमाचल के कई इलाकों में आजीविका का मुख्य कारण है। इस साल जुलाई से, राज्य के सेब के किसान कई मुद्दों के अलावा उच्च इनपुट और पैकेजिंग लागत को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे है.

राज्य की राजधानी शिमला के लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वाले इलाकों में सेब के किसान लगातार विरोध-प्रदर्शन कर रहे है। इस साल नवंबर में राज्य में चुनाव है। इसलिए हर पार्टी इन किसानों तक पहुंचने की कोशिश कर रही है.

शिमला लोकसभा क्षेत्र किसान प्रदर्शन का केंद्र

शिमला लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली ठियोग विधानसभा की सीट पर इन किसानों का मुद्दा हार-जीत तय करने के लिए काफी है। यह सीट विरोध-प्रदर्शनों का केंद्र है। वैसे यह सीट कांग्रेस का गढ़ मानी जाती है। इस सीट पर पार्टी की वरिष्ठ नेता विद्या स्टोक्स ने साल 2012 तक लगातार पांच बार जीत दर्ज किया था.

apple farmers
सेब का खेत (File photo):

उनके ससुर सत्यानंद स्टोक्स साल 1900 की शुरुआत में राज्य में सेब की खेती शुरू करने वाले शुरूआती व्यक्तियों में से एक थे। क्षेत्र-विशिष्ट मुद्दों पर ध्यान देने के साथ, स्टोक्स को इस सीट बहुत कम प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ा। 2017 में, जब स्टोक्स परिवार से किसी ने विधानसभा चुनाव नहीं लड़ा, तो सीपीएम के राकेश सिंघा ने 2,000 मतों के मामूली अंतर से जीत हासिल की। सिंघा अब सेब की खेती करने वालों के विरोध का नेतृत्व कर रहे हैं.

2007 के परिसीमन अभ्यास के बाद से, कुमारसैन, कोटगढ़ और नारकंडा के क्षेत्र ठियोग निर्वाचन क्षेत्र का हिस्सा हो गए थे। इस विलय के बाद किसान बेल्ट और मजबूत हो गया है। सिंघा ने विरोध प्रदर्शनों के लिए अपनी आवाज देकर एक समर्थन आधार बनाया है, स्थानीय लोगों का मानना ​​है कि वह स्टोक्स की तरह ही एक “योग्य नेता” हैं.

उपज का दाम नही मिलना मुख्य कारण

हिमाचल की राजनीती के जानकारों के अनुसार एक विधायक जो सत्ताधारी दल से नहीं आता है, उसके हाथ बंधे होते हैं। लेकिन सिंघा जनता के हर दुख-दर्द में उनके साथ खड़े रहने वाले नेता है। भूस्खलन हो या कोई और आपदा सिंघा हमेशा जनता के बीच होते है.

सेब के किसानों का सबसे बड़ा मुद्दा है की उनकी उपज सही कीमत पर नहीं बिक रही है। स्थिति और खराब होने की आशंका है। किसानों को एक दीर्घकालिक समाधान की जरुरत है। आगमी चुनाव में भाजपा को अपने बेहतर संगठन और कुछ योजनाओ का फायदा मिल सकता है। जबकि कांग्रेस अंतर्कलह से जूझ रही है.

कांग्रेस अंदरूनी कलह का सामना कर रही

हिमाचल के सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहे वीरभद्र सिंह की मृत्यु के बाद से, कांग्रेस में अंदरूनी कलह और बढ़ चूका है। पार्टी में बड़े नेता राज्य में सुरक्षित सीट ढूंढ रहे है.

ठियोग से कांग्रेस के टिकट के लिए मजबूत दावेदार दिवंगत भाजपा नेता और सीट से तीन बार विधायक रहे राकेश वर्मा की पत्नी इंदु वर्मा मानी जा रहे है। जिन्होंने जुलाई में कांग्रेस का दामन थाम लिया था। राकेश वर्मा ने 1993 में अनुभवी स्टोक्स को हराया था, और इंदु को उनकी लोकप्रियता का फायदा मिलनी की उम्मीद है.

कांग्रेस नेता दीपक राठौर भी इस सीट पर कांग्रेस के टिकट के लिए मजबूत दावेदार माने जा रहे है। कुलदीप युवा नेता हैं, जो दिल्ली में पार्टी नेतृत्व के करीबी माने जाते हैं। सत्तारूढ़ भाजपा, जो कांग्रेस के भीतर असंतोष को भुनाने की कोशिश कर रही है, उसका मानना ​​​​है कि कम्युनिस्ट पार्टी कही रेस में नही है.

हिमाचल भाजपा को कवर करने वाले पत्रकारों के अनुसार, साल 2017 में ठियोग की सीट पर सीपीएम की जीत को ज्यादा महत्व नहीं दिया जाना चाहिए। यह दोबारा होने वाला नही है। पत्रकारों ने अनुसार, सरकार ने कार्टन की कीमतों में बढ़ोतरी का ध्यान रखा है, जिससे सेब उत्पादकों को फायदा होगा। केंद्र और राज्य दोनों स्तरों पर कई अन्य नीतियां हैं जिससे किसान बीजेपी की तरफ जा सकते है। कांग्रेस में एकता नहीं है और यह चुनाव में स्पष्ट हो जाएगा.

Latest news
Related news