क्रिकेट जगत में 1 अक्टूबर से लागू हुए आईसीसी के नये नियम, बदल जायेगा खेलने का तरीका

मनीष गोस्वामी दिल्ली 1 अक्टूबर 2022:  अक्टूबर का महीना क्रिकेट जगत के लिए खास होने जा रहा है। आईसीसी ने खेल के नियमों में कुछ बदलाव किये है, जो 1 अक्टूबर से लागू होने जा रहा है। इस नये नियम के लागू होने से खेल का रूप बदल जायेगा।  आईसीसी के नये नियम अक्टूबर में होने वाले महिला एशिया कप, भारत और साउथ अफ्रिका टी20 श्रृंखला, टी20 वर्ल्ड कप 2022 के मुकाबलों में देखने को मिलेगा। आईसीसी के नये नियम में सबसे खास नियम मांकड़िग को ऑफिशियल रन आउट बनाना है। भारत के पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली की अगुवाई वाली समिति ने क्रिकेट के नियमों में बदलाव की सिफारिश की थी।

क्रिकेट के नये नियमों की सूचि

  1. गेंद को चमकाने के लिए लार के इस्तेमाल पर स्थायी रूप से प्रतिबंध लगाया गया है। कोरोना महामारी के चलते गेंद को चमकाने के लिए लार के उपयोग पर अस्थायी रोक लगाई गई थी। यह नियम पिछले दो साल से क्रिकेट में चल रहा था, लेकिन अब इसे स्थायी कर दिया गया है।
  2. विकेट के गिरने पर अब नये बल्लेबाज को ही स्ट्राइक लेना होगा। क्रिकट के पुराने नियम के अनुसार कैच आउट होने से पहले अगर दोनों बल्लेबाज एक दूसरे को क्रॉस कर लेते थे, तो नया बल्लेबाज नॉन स्ट्राइकिंग एंड पर आता था और मौजूद बल्लेबाज स्ट्राइक लेता था। अब नये नियम के मुताबिक हर हाल में नये बल्लेबाज को ही स्ट्राइक लेना होगा।
  3. नये नियम के मुताबिक टेस्ट और एकदिवसीय मुकाबलों में अब नये बल्लेबाज को दो मिनट के अंदर स्ट्राइक लेना होगा। टी20 मुकाबले में 90 सेकेंड की मौजूदा समय सीमा पहले की तरह ही जारी रहेगी। ऐसा ना होने पर अब फिल्डिंग टीम का कप्तान टाइम आउट विकेट की अपील कर सकता है।
  4. नये नियम के मुताबिक गेंद फेंकने से पहले नॉन-स्ट्राइकर पर अगर बल्लेबाज क्रीज छोड़ता हैऔर गेंदबाज गेंद फेंकने से पहले नॉन स्ट्राइकिंग एंड पर खड़े बल्लेबाज की गिल्लियां बिखेर देता है तो वह ऑफिशियल रन आउट माना जायेगा। पुराने नियम के मुताबिक इसे मांकडिंग कहते थे और इसे खेल भावना के विपरीत माना जा था।
  5. गेंदबाज के गेंद डालने के दौरान अगर क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम कोई अनुचित हरकत करती है तो अंपायर उस गेंद को ‘डेड बॉल’ करार देगा और साथ ही बल्लेबाजी करने वाली टीम को पांच पेनल्टी रन भी दिए जाएंगे।
  6. बल्लेबाज अब बल्लेबाजी के दौरान पिच नहीं छोड़ सकता है। गेंद अगर पिच से बाहर गिरती है तो बल्लेबाज उसे बाहर जा कर नहीं खेल सकता है। उस गेंद को अब अंपायर डेड बॉल करार देगा। बल्लेबाज के शरीर का कोई न कोई हिस्सा पिच के अंदर रहना होगा।
  7. एकदिवसीय मुकाबले में अब धीमी ओवर गति होने पर क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम को सजा मिलेगी। क्षेत्ररक्षण टीम को एक अतिरिक्त फील्डर 30 गज के दायरे में रखना होगा। हालांकि यह नियम आईसीसी पुरुष विश्व कप 2023 के बाद से लागू किया जाएगा। टी20 क्रिकेट में पहले से ही यह नियम लागू है।
Latest news
Related news