रेसलिंग में दिव्या काकरान ने आधे मिनट में विरोधी को दी पटखनी, कांस्य किया अपने नाम

वैभव शुक्ला, नई दिल्ली, (CWG 2022):

बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों 2022 (CWG 2022) के आठवें दिन भारतीय रेसलरों ने कमाल का प्रदर्शन करते हुए सोना और चांदी तो दिलाई ही साथ ही कांस्य भी देश की झोली में डाले। भारत की महिला पहलवान दिव्या काकरान ने 68 किलोग्राम भारवर्ग में कांस्य पदक जीता है।

दिव्या ने अपनी प्रतिद्वंदी टाइगर लिली को आधे मिनट में ही पटखनी देकर कांस्य अपने नाम किया। बता दें कि दिव्या को क्वार्टरफाइनल में नाईजीरिया की ब्लेसिंग ओबोरूडुडू से तकनीकी श्रेष्ठता (0-11) से हार मिली थी।

ब्लेसिंग तो फाइनल में पहुंच गईं और दिव्या को रेपेशाज खेलने का मौका मिला। दिव्या का यह कॉमनवेल्थ गेम्स में लगातार दूसरा पदक है। 2018 गोल्ड कोस्ट में भी दिव्या ने कांस्य पदक जीता था।

स्टेडियम के बाहर लंगोट बेचते थे पिता

दिव्या के लिए कॉमनवेल्थ तक का सफर आसान नहीं रहा है। वह शुरू से अपने परिवार की आर्थिक स्थिति के कारण संघर्ष करती रही हैं। दिव्या की कुश्ती में शुरू से रुचि थी। जिस स्टेडियम में दिव्या अपने दांव-पेंच से विरोधी को चित करती थी उसी स्टेडियम के बाहर उनके पिता पेट भरने के लिए लंगोट बेचा करते थे।

दिल्ली के मुख्यमंत्री से लगाई थी मदद की गुहार

दिव्या ने 2018 एशियाई खेलों में भी कांस्य पदक जीता था। इन खेलों से भारत लौटने के बाद एक कार्यक्रम में दिव्या ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मदद की गुहार लगाई थी। दिव्या ने कहा था कि, “जब मैं कॉमनवेल्थ गेम्स-2018 में पदक जीतकर लौटी थी तो आपने मुझे बुलाकर कहा था कि आप मेरी मदद करेंगे।

मैंने एशियाई खेलों की तैयारी के लिए मदद मांगी थी लेकिन मुझे मिली नहीं। मैंने एक पत्र भी लिखा था. लेकिन कुछ हुआ नहीं।” दिव्या ने 2020 में नई दिल्ली में आयोजित एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था। उन्होंने 2021 में भी इस चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था। 2017 में वह रजत पदक ही जीत पाई थीं।

ये भी पढ़ें: एशिया कप के लिए टी-20 टीम में वापसी के लिए तैयार केएल राहुल और दीपक चाहर, सोमवार को होना है एशिया कप की टीम का ऐलान

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

Latest news
Related news