रेडक्लिफ लैब्स ने पंजाब में शुरू की जेनेटिक परामर्श सेवाएं

इंडिया न्यूज, बठिंडा: रेडक्लिफ लैब्स ने प्रमुख और अनुभवी विशेषज्ञों के साथ बठिंडा, पंजाब में जेनेटिक काउंसिलिंग सविसेज प्रदान करने की घोषणा की है। रेडक्लिफ लैब्स ने “जिनी-टू जीन” नाम से अपनी स्पेशलाइज्ड सर्विसेज को पहली बार पंजाब में लॉन्च किया है, जो वास्तव में अपनी तरह की पहली पहल है जो डॉक्टर और मरीज के लिए सभी जेनेटिक टेस्टिंग और कंसल्टेंशन के लिए एक बेहतर प्लेटफॉर्म प्रदान करती है।

बठिंडा, पंजाब में इस पहली नई सर्विस को डॉ.श्रेष्ठा अग्रवाल के साथ संजीवनी फेटल मेडिसन एंड जेनेटिक क्लिनिक के लॉन्च किया है। यहां पर नियमित टेस्टिंग के साथ डीएनए आधारित डायग्नोसिस और जेनेटिक्स विशेषज्ञों तक आसान पहुंच प्रदान की गई है। साथ ही ये क्लिनिक रेडक्लिफ जेनेटिक्स का उद्देश्य जेनेटिक्स विशेषज्ञों तक आसान पहुंच और वर्ग में बेस्ट जेनेटिक टेस्टिंग के साथ देश की जेनेटिक्स से संबंधित समस्याओं का समाधान करना है।

81 मिलियन लोगों को हैं अनुवांशिक रोग

पंजाब में इस नई शुरूआत पर प्रतिक्रिया देते हुए ईशान खन्ना, डायरेक्टर- रीप्रोडक्टिव मेडिसन एंड जेनेटिक्स, रेडक्लिफ लैब्स ने कहा कि “हमें बठिंडा में संजीवनी फेटल मेडिसन एंड जेनेटिक क्लिनिक के साथ सहभागिता करते हुए बेहद खुशी है। कई तरह की दुर्लभ बीमारियां द्वारा किसी भी देश में लगभग 6 प्रतिशत से 8 प्रतिशत आबादी को प्रभावित करने का अनुमान है। यहां तक कि देश की 1.35 बिलियन लोगों की आबादी को लेकर एक न्यूनतम अनुमान है कि लगभग 81 मिलियन लोगों को अनुवांशिक रोग हैं।

इसके अलावा, 70 प्रतिशत वंशानुगत असामान्य विकार बचपन में खुद ही सामने आ जाते हैं। इसके अलावा, पंजाब भी उत्तर भारत के अन्य हिस्सों की तरह ही विशेष रूप से आनुवंशिक विकारों में बहुत अधिक होने के लिए जाना जाता है और इसमें करीबी संबंधों में विवाह प्रमुख भूमिका निभाते हैं, जिनके चलते दुर्लभ बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है। पंजाब के इस पहले क्लिनिक में हम जिनी के माध्यम से हमारे जेनेटिक काउंसलर के माध्यम से इस संबंध में सभी सेवाओं को उपलब्ध करवा रहे हैं।

जेनेटिक्सिस्ट्स के बीच के अंतर को दूर करने में करेगा मदद

जिनी, एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जिसमें भारत भर के डीएम जेनेटिक्सिस्ट्स और सीनियर बोर्ड-सर्टीफाइड काउंसलर्स की एक टीम शामिल है। यह प्लेटफॉर्म भारत के हर हिस्से के डॉक्टर्स और क्लिनीकिल जेनेटिक्सिस्ट्स के बीच के अंतर को दूर करने में मदद करेगा ताकि टेस्टिंग और जेनेटिक्स पर प्रशिक्षण पर मार्गदर्शन किया जा सके।

रिपोर्ट मार्गदर्शन और समर्थन के लिए, पंजाब के आनुवांशिक विकारों से प्रभावित मरीजों को एक प्रमाणित जेनेटिक्सिस्ट और एक जेनेटिक काउंसलर को आपके पास लाएगा। पूरे भारत में ऑनलाइन और ऑफलाइन क्लीनिक चलाने के लिए जेनेटिक्सिस्ट्स को चिकित्सकों से जोड़ा जाएगा, जो अपनी तरह की पहली पहल है।

डॉ. वेरोनिका अरोड़ा, एसोसिएट कंसल्टेंट और एसोसिएट प्रोफेसर, मेडिकल जेनेटिक्स, सर गंगा राम हॉस्पिटल स्टेट्स, जेनेटिक एडवाइजर, रेडक्लिफ लैब्स, आनुवंशिक स्थितियों या जन्मजात विसंगतियों से प्रभावित बच्चों के होने के जोखिम वाले लोगों की पहचान करने से परामर्श की अनुमति मिलती है जिसका उद्देश्य प्रजनन निर्णयों को सूचित करना है। यह प्रक्रिया या तो पूर्वधारणा या प्रारंभिक प्रसवपूर्व अवस्था में होती है।

परीक्षण प्रमुख शहरों में हैं उपलब्ध

बीटा थैलेसीमिया जैसे ऑटोसोमल रिसेसिव रोगों के लिए कैरियर स्क्रीनिंग के परिणामस्वरूप कई देशों में काफी कमी आई है। इस तरह के परीक्षण अब सभी प्रमुख शहरों में उपलब्ध हैं और इन विकारों के बारे में जागरूकता बढ़ रही है। कठिन तथ्य यह है कि भारत की अधिकांश आबादी छोटे शहरों में रहती है और स्वास्थ्य सेवा तक उनकी पहुंच कम है।

इस तरह के परीक्षण का प्रावधान और उपलब्धता इस ज्ञान के अंतर को पाटने में एक लंबा रास्ता तय करेगी। इस प्रकार, बेहतर मानव संसाधन और बेहतर रोगी देखभाल के विकास के लिए टियर 2 और टियर 3 शहरों में विशेषज्ञ आनुवंशिक सलाह और परीक्षण के अवसर अत्यंत महत्वपूर्ण हैं।

इस प्लेटफॉर्म के अन्य लाभों में प्रमाणित काउंसलर्स और जेनेटिक्सिस्ट्स द्वारा तकनीकी टीम के साथ चिकित्सकों के लिए तकनीकी मार्गदर्शन शामिल है। इसके अलावा, प्लेटफॉर्म पर जेनेटिक्सिस्ट्स जेनेटिक्स और जेनेटिक टेस्टिंग परीक्षण के मूल सिद्धांतों पर सरकारी और निजी संस्थानों के साथ ऑनलाइन प्रशिक्षण भी देंगे। इसके अलावा, यह भारत के जेनेटिक्सिस्ट्स के लिए रोगियों के लिए सही जेनेटिक टेस्टिंग का समर्थन करने के लिए प्लेटफॉर्म में शामिल होने की संभावनाएं पैदा करेगा।

विभिन्न परीक्षणों को करने के सुसज्जित है यह लैब

नोएडा स्थित नई रेडक्लिफ जेनेटिक्स लैब नवजात स्क्रीनिंग जैसे विभिन्न परीक्षणों को करने के लिए अच्छी तरह से सुसज्जित है, जो क्लिीनिक लक्षणों के प्रकट होने से पहले कुछ मेटाबोलिक स्थितियों के जोखिम की पहचान करने के लिए जन्म के 48 घंटों के बाद किए गए शिशुओं के लिए एक साधारण स्क्रीनिंग टेस्ट है।

ये एक नॉन-इनवेसिव प्रीनेटल स्क्रीनिंग, जो कि माता-पिता को उनकी गर्भावस्था के बारे में सूचित निर्णय लेने में मदद करने के लिए भ्रूण में कुछ क्रोमोसोमल यानि गुणसूत्र संबंधी असामान्यताओं की जांच करने की एक विधि है; मार्कर स्क्रीनिंग, एक बॉयोकैमिकल टेस्ट है जिसे गर्भावस्था के पहले और दूसरे तिमाही के दौरान करवाने की सलाह दी जाती है। और इसका उपयोग यह निर्धारित करने के लिए किया जाता है कि क्या बढ़ते बच्चे को आनुवंशिक स्थिति में कोई नकारात्मक बदलाव होने का कोई खतरा है।

ये भी पढ़ें:  देश के कई राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

Latest news
Related news