सिद्धू मूसेवाला की हत्या से पहले बनाया गया था फुलप्रूफ प्लान, पहले जुटाई बुलेटप्रूफ गाड़ी की जानकारी फिर मंगवाई AN-94

इंडिया न्यूज, New Delhi News। Sidhu Moosewala Murder Case : बीती 29 मई को पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की गोलियां मारकर हत्या कर दी गई थी। इस हत्या की जिम्मेदारी लारेंस बिश्नोई गैंग के द्वारा ली गई थी। इसके बाद पंजाब और दिल्ली पुलिस के द्वारा कई आरोपियों को गिरफ्त में लिया था। अब पंजाब पुलिस दिल्ली की तिहाड़ जेल से आरोपी लारेंस बिश्नोई को पंजाब लाई है और रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है।

इसी कड़ी में अब बड़ा खुलासा हुआ है। सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार पंजाब पुलिस की एसआईटी की जांच में सामने आया है कि मूसेवाला की हत्या से पहले उसकी बुलेटप्रूफ गाड़ी की भी रेकी की गई थी। गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई (Gangster Laurence Bishnoi) और गोल्डी बरार (Goldie brar) के शूटर्स ने जालंधर में जाकर सिद्धू मूसेवाला की गाड़ी के शीशे कितने एमएम के हैं। गाड़ी को कैसे तैयार किया गया है आदि की जानकारी जुटाई थी।

जालंधर जाकर जुटाई थी बुलेटप्रूफ गाड़ी की जानकारी

आपको बता दें कि बुलेटप्रूफ गाड़ी जालंधर में तैयार की जाती है और सिद्धू मूसेवाला की गाड़ी भी वही तैयार करवाई गई थी। सिद्धू की हत्या से पहले फुलप्रूफ प्लान बनाया गया था। ये बात दिल्ली पुलिस की जांच में भी सामने आई है और पंजाब पुलिस की एसआईटी के सूत्रों से भी यह जानकारी मिली है। यही नहीं शूटर्स ने यह भी पता किया था कि उसकी बुलेटप्रूफ गाड़ी में पीछे बाक्स है या नहीं।

जनवरी में मूसेवाला की हत्या करने गए थे शूटर

इसके अलावा जनवरी के महिने में शूटर्स सिद्धू मूसेवाला (Sidhu Moosewala) की हत्या करने गए थे लेकिन 8 सुरक्षाकर्मी आधुनिक हथियारों के साथ देखकर वापस लौट गए थे। इसके बाद हत्या के लिए पूरा प्लान बनाया गया। सिद्धू मूसेवाला कौन सी बुलेटप्रूफ गाड़ी में आता-जाता है। गाड़ी को कहां तैयार करवाया गया है।

उसके साथ कौन-कौन रहता है। उनके पास कौन से हथियार है। सूत्रों की माने तो इसलिए लारेंस बिश्नोई और गोल्डी बरार ने अपने गुर्गों को AN-94 जैसे अत्याधुनिक हथियार मुहैया करवाए। क्योंकि बुलेटप्रूफ गाड़ी में होने पर भी AN-94 से हत्याकांड को अंजाम दिया जा सके।

बुलेटप्रूफ गाड़ी के कारण ही किया गया था AN-94 राइफल का इस्तेमाल

AN-94 असाल्ट राइफल दो शॉट बर्स्ट आपरेशन का आप्शन देती है। यानी एक के पीछे एक करके दो गोलियां तेजी से निकलती हैं। जिनके निकलने के समय में माइक्रोसेकेंड्स का अंतर होता है। पुलिस के सूत्रों की माने तो इस राइफल से अगर बुलेटप्रूफ गाड़ी के शीशे पर एक के बाद एक फायर किए जाते तो टूट जाता।

सिद्धू गानों और गानों में हथियारों के इस्तेमाल से करता था हमें चैलेंज : गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई

बता दें कि गैंगस्टर लारेंस बिश्नोई अब पंजाब पुलिस के 7 दिन रिमांड पर है। बताया जा रहा है कि एक बार ये प्लान बनाया गया था कि सिद्धू को घर में घुसकर मारा जाए। लारेंस का कहना है कि सिद्धू न सिर्फ उसके विरोधी गैंग के साथ जुड़ा हुआ था, बल्कि वो अपने गानों और गानों में हथियारों के इस्तेमाल से हम लोगों को चैलेंज करता था।

लारेंस ने जेल से छूटे अपने भाई अनमोल को भी पहले ही भेज दिया था बाहर

जानकारी अनुसार सिद्धू मूसेवाला की हत्या की साजिश जेल में बैठे लारेंस ने कनाडा में बैठे गोल्डी बराड़ के साथ फोन पर रची थी। सिद्धू की हत्या की प्लानिंग के बाद सबसे पहले लारेंस बिश्नोई ने जेल से छूटे अपने भाई अनमोल को गोल्डी बराड़ की मदद से भारत से फरार करवाया।

भांजे सचिन बिश्नोई को भी भेजा देश से बाहर

इसके अलावा लारेंस ने अपने भांजे सचिन बिश्नोई को भी भारत से गोल्डी बराड़ की मदद से फरार करवाया। सचिन फिलहाल देश के बाहर किसी दूसरे देश में बैठा हुआ है। लारेंस का भाई अनमोल और भांजा सचिन जैसे ही देश से फरार हुए दोनों गोल्डी बराड़ के साथ जुड़े और प्लानिंग हुई। फिर पंजाब के मानसा में सिद्धू की हत्या को अंजाम दिया गया।

ये भी पढ़ें : नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद कार्तिकेय शर्मा ने केंद्रीय राज्यमंत्री डा. जितेंद्र सिंह से की मुलाकात, डा. सिंह ने शाल ओढ़ाकर बढ़ाया मान

ये भी पढ़ें : राहुल गांधी से पूछताछ के विरोध में देशभर में प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ता, रेणुका चौधरी ने पुलिसकर्मी का कालर पकड़ा

ये भी पढ़ें : विरोध के चलते 22 ट्रेनें रद्द, 5 के समय में बदलाव

ये भी पढ़ें : क्‍या है अग्निपथ स्‍कीम, अग्निवीरों को इतना मिलेगा वेतन, जानिए कैसे करें अप्‍लाई

हमारे साथ जुड़ें :  TwitterFacebook | YouTube

Latest news
Related news