क्या गुजरात में खत्म होगा कांग्रेस के 25 साल का वनवास?

– 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले गुजरात में प्रवेश कर सकते हैं प्रशांत किशोर
– प्रशांत किशोर की टीम ने गुजरात में कांग्रेस के लिए शुरू किया चुनावी सर्वे
– कांग्रेस विधायकों की बैठक में प्रशांत किशोर के नाम पर भी चर्चा हुई
अभिजीत भट्ट । गांधीनगर
आने वाले दिनों में चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को कांग्रेस पार्टी को फिर से सीटें दिलाने की बड़ी जिम्मेदारी दी जा सकती है, जो गुजरात में नेतृत्वहीन और लगातार हार का सामना कर रही है। पता चला है कि इस संबंध में कांग्रेस नेता भरतसिंह सोलंकी और प्रशांत किशोर के बीच बैठक भी हुई थी। कुछ दिन पहले हुई कांग्रेस विधायकों की बैठक में भी प्रशांत किशोर के मुद्दे पर चर्चा हुई थी। उधर, पता चला है कि प्रशांत किशोर की टीम ने कांग्रेस के चुनाव को लेकर भी सर्वे शुरू कर दिया है।
अगर प्रशांत किशोर को गुजरात कांग्रेस की जिम्मेदारी दी जाती है तो सबसे बड़ी चुनौती यह होगी कि कांग्रेस गुजरात में 25 साल का वनवास खत्म कर पाएगी या नहीं। गुजरात में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के साथ ही कांग्रेस ने एक नए संगठन के गठन की तैयारी शुरू कर दी है, जिसके चलते गांधीनगर में कांग्रेस विधायकों और वरिष्ठ नेताओं की एक महत्वपूर्ण बैठक हुई। बैठक में संगठन को मजबूत करने के साथ ही गुजरात कांग्रेस प्रभारी और प्रदेश अध्यक्ष पर जल्द फैसला लेने की जरूरत पर भी चर्चा हुई। कांग्रेस विधायकों की बैठक में बड़ा फैसला लिया गया है।
राहुल गांधी 2022 के चुनाव में गुजरात कांग्रेस के स्टार प्रचारक होंगे। हालांकि प्रशांत किशोर को लेकर अभी तक कोई आधिकारिक फैसला नहीं हुआ है, लेकिन कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस आलाकमान गुजरात कांग्रेस की कमान रणनीतिकार प्रशांत किशोर को सौंपकर नया खेल खेलने को तैयार है। हाल ही में कांग्रेस विधायकों की एक बैठक हुई थी, जिसमें विधायकों को उनके अलावा अन्य विधानसभा सीटों की जिम्मेदारी दी गई है। उसने 2022 के विधानसभा चुनाव में 125 सीटें जीतने का भी लक्ष्य रखा है। बैठक करीब चार घंटे तक चली।
बैठक में गुजरात कांग्रेस के संगठन प्रभारी, विधानसभा में विपक्ष के नेता और प्रदेश अध्यक्ष के पद पर जल्द निर्णय के मुद्दे पर भी चर्चा हुई। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मधुसूदन मिस्त्री के दिल्ली जाने और हाईकमान से मांग करने के साथ विधायकों ने पदों पर तत्काल नियुक्ति के लिए हाईकमान को अभ्यावेदन देने के लिए विधायक को दिल्ली भेजने पर सहमति व्यक्त की। गुजरात में एक के बाद एक कांग्रेस की हार के बाद 2022 के चुनाव के लिए संगठन बदलना जरूरी हो गया है, जब आलाकमान से मौजूदा अध्यक्ष और विपक्ष के नेता पर फैसला करने की मांग की जा रही है। राज्य विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस द्वारा बैठकों की एक श्रृंखला शुरू की गई है, जिसके तहत कांग्रेस नेता भरतसिंह सोलंकी ने दिल्ली में चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के साथ बैठक की। भरतसिंह और प्रशांत किशोर के बीच मुलाकात करीब दो घंटे तक चली। इस बैठक में आगामी विधानसभा चुनाव पर चर्चा की गई।
प्रशांत किशोर ने 2012 के गुजरात विधानसभा चुनाव में मोदी के लिए काम किया था। वह 2014 के लोकसभा चुनावों में भाजपा के चुनाव अभियान की कमान संभालने के बाद से सुर्खियों में हैं। इस चुनाव में भाजपा ने पहली बार अकेले पूर्ण बहुमत हासिल किया है। बीजेपी ने 282 सीटों पर जीत हासिल की।
Latest news
Related news