संयुक्त राष्ट्र में भारत ने कश्मीर मसले पर तुर्की के बाद पाकिस्तान को भी दिया करारा जवाब

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली, (UNGA Indian Pakistan): भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) में तुर्की के बाद पाकिस्तान को भी करारा जवाब दिया है। दरअसल पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने यूएनजीए के 77वें सत्र में जम्मू-कश्मीर का मुद्दा उठाया और इस पर उन्होंने झूठ बोलने की कोशिश की।

भारतीय राजनयिक मिजिटो विनिटो ने इस पर पाक पीएम को उनके देश में फैले आतंकवाद की याद दिलाई। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले तुर्की ने यूएनजीए में कश्मीर का मसला उठाया था, तब भी भारत ने साइप्रस का मुद्दा उठाकर उसे करारा जवाब दिया था। बता दें कि साइप्रस कश्मीर के लिए दुखती रग है।

झूठ के लिए पाक पीएम का यूएनजीए जैसे मंच को चुनना दुखद

मिजिटो विनिटो ने कहा कि पाकिस्तान एक ओर आतंक को बढ़ावा देता है और दूसरी ओर वह शांति की बात करता है। यह हैरानीजनक है कि पाक पीएम ने भारत पर झूठे आरोप मढ़ने के लिए यूएनजीए जैसे सम्मानित मंच को चुना। शहबाज शरीफ ने अपने ही देश में वहां की करतूतों को छिपाने व भारत के खिलाफ एक्शन को उचित ठहराने के लिए ऐसा किया है जिसे दुनिया का कोई देश कभी नहीं मान सकता।

अल्पसंख्यक समुदाय का मुद्दा पूरी तरह झूठ

मिजिटो विनिटो ने कहा, जो देश अपने पड़ोसियों से शांति की हिमायत करता है, वह कभी सीमा पार आतंकवाद को प्रायोजित नहीं करेगा। शांति चाहने वाला देश मुंबई पर 2008 में हुए अब तक सबसे बड़े हमलों के गुनहगारों को भी पनाह नहीं देगा। भारतीय राजनयिक ने यह भी कहा कि शहबाज शरीफ ने जो भारत में अल्पसंख्यक समुदाय का मुद्दा उठाया है वह पूरी तरह झूठ है।

भारत पर आरोप के बजाय पहले अपने गिरेबां में झांके पाक

विनिटो ने कहा, भारत पर आरोप लगाने के बजाए पाकिस्तान पहले अपने गिरेबां में झांके। उन्होंने कहा, पाक पीएम को अपने देश में रह रहे हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार पर लगाम लगानी चाहिए। विनिटो ने कहा, पाकिस्तान में हजारों युवा महिलाओं का अपहरण करके उनसे जबरन संबंध व निकाह किए जाते हैं। ऐसी घटनाओं से हम पाक से क्या उम्मीद कर सकते हैं।

जानिए शहबाज शरीफ ने कश्मीर पर क्या कहा

पाकिस्तान के पीएम ने यूएनजीए में कहा कि कश्मीर में जब से धारा-370 हटाई गई है उसके बाद से वहां शांति की गुंजाइश कम हो गई है। उन्होंने यह भी कहा था कि भारत को हिंदू राष्टÑ बनाने की कवायद चल रही है और वहां अल्पसंख्यकों पर अत्याचार हो रहे हैं। इसी के साथ शाहबाज शरीफ ने यूएन में स्थायी सदस्य जोड़ने का भी विरोध किया। उन्होंने कहा कि इससे व्यवस्था बिगड़ सकती है।

ये भी पढ़े : देश के कई राज्यों में जारी रहेगी बारिश, अलर्ट के चलते कई जगह स्कूल बंद

ये भी पढ़े : सरकार का फोकस अब ग्रीन ग्रोथ और ग्रीन जॉब्स पर : प्रधानमंत्री

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

 

Latest news
Related news