भारत-अमेरिका के बीच टू प्लस टू वार्ता जल्द

इंडिया न्यूज, वाशिंगटन :

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा है कि भारत और अमेरिका के बीच चौथी वार्षिक टू प्लस टू वार्ता नवंबर में वाशिंगटन में होगी। उन्होंने बताया कि अभी तारीख तय नहीं हुई है। टू प्लस टू वार्ता दोनों देशों के विदेश और रक्षा मंत्रियों के बीच होती है। वाशिंगटन के तीन दिवसीय दौरे के दौरान भारत के विदेश सचिव श्रृंगला यहां पत्रकारों के साथ बात कर रहे थे। उन्होंने यह भी बताया कि पाकिस्तान ने ही तालिबान को संरक्षण देकर पाला-पोसा है और अब भारत और अमेरिका की अफगानिस्तान में पाकिस्तान पर नजर है। उन्होंने बताया कि तालिबान ने संकेत दिया है कि वह अफगानिस्तान में भारत के हितों का ध्यान रखेगा। श्रृंगला ने कहा कि अफगानिस्तान को लेकर दुनिया के सभी देश सक्रिय हैं और हम भी ऐसे सभी देशों के संपर्क में हैं। सभी देश भारत और अमेरिका दोनों ही स्थितियों पर गहनता से नजर रखे हुए हैं। विदेश सचिव ने कहा, हमें आतंकियों के अफगानिस्तान में खुलेआम घूमने को लेकर चिंता है। भारत की अध्यक्षता में अफगानिस्तान पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव में जैश ए मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा सहित सभी प्रतिबंधित संगठनों का उल्लेख है। श्रृंगला ने कहा तालिबान के साथ हमारा जुड़ाव सीमित ही रहा है। इसके बावजूद उन्होंने संकेत दिया है कि वह भारत के हितों का पूरा ध्यान रखेंगे। दोहा में भारतीय राजदूत की तालिबान से वार्ता के संबंध में जवाब देते हुए कहा कि हमने स्पष्ट कर दिया है कि भारत या अन्य देशों के खिलाफ अफगानिस्तान की जमीन से आतंकवादी गतिविधियां नहीं होनी चाहिए। अमेरिका ने तालिबान को कहा है कि यदि अफगानिस्तान से आतंकी गतिविधियां होती हैं, तो उन्हें ही जवाबदेह ठहराएंगे। वाशिंगटन यात्रा के दौरान विदेश सचिव की अमेरिकी रक्षा अधिकारियों के साथ विभिन्न मुद्दों पर वार्ता हुई। यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल के माध्यम से विभिन्न कंपनियों के प्रतिनिधियों से भी उन्होंने मुलाकात की।

SHARE
Latest news
Related news