जल्द कांग्रेस की सदस्यता ले सकते हैं  प्रशांत किशोर 

पीके के कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें तेज 
इंडिया न्यूज, दिल्ली
नई दिल्ली। चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर जल्द कांग्रेस की सदस्यता ले सकते हैं। जन्माष्टमी के दिन कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल के घर पर हुई एक अहम बैठक के बाद ये अटकलें तेज हुई हैं। बैठक में कांग्रेस के जी-23 ग्रुप के नेता शामिल हुए थे। इस दौरान प्रशांत किशोर को महासचिव पद पर नियुक्त करने के पार्टी के फैसले को लेकर चर्चा हुई। हालांकि पार्टी के अधिकतर नेता प्रशांत किशोर को कांग्रेस में शामिल करने के सख्त खिलाफ हैं। कुछ इस निर्णय के समर्थन में हैं। हो सकता है कि ये सभी नेता प्रशांत किशोर का खुलकर विरोध करें। जी-23 ग्रुप के नेता चुनाव से जुड़े अहम फैसले लेने के लिए ‘आउटसोर्सिंग’ से निराश हैं।  सूत्रों के अनुसार बैठक के दौरान कुछ नेताओं ने विरोध जताते हुए कहा कि कांग्रेस 135 साल पुरानी संस्था है न कि कोई स्टार्ट-अप है जहां कोई फैंसी विचारों के साथ आए और उसे शामिल कर लिया जाए। उन्होंने कहा, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन या आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी के बिना उनकी रणनीति नहीं चल पाएगी। हमने 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में उनकी प्रभावशीलता देखी है जब उन्होंने कांग्रेस-सपा गठबंधन के लिए काम किया था। उन्होंने आगे कहा कि प्रशांत किशोर को पार्टी में शामिल करने के किसी भी प्रस्ताव पर कांग्रेस वर्किंग ग्रुप की बैठक में चर्चा की जानी चाहिए। सोमवार को हुई बैठक में कपिल सिब्बल के अलावा गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, शशि थरूर, मनीष तिवारी, भूपिंदर सिंह हुड्डा समेत कई नेता मौजूद थे। बताया जा रहा है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एके एंटनी और अंबिका सोनी को प्रशांत किशोर पर पार्टी नेताओं के विचारों के आधार पर एक रिपोर्ट तैयार करने को कहा गया है।
Latest news
Related news