पद्म पुरस्कारों की घोषणा, ORS के जनक दिलीप महालनाबिस को मरणोपरांत मिलेगा पद्म विभूषण

(दिल्ली) : भारत सरकार ने बुधवार को 74वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर पद्म पुरस्कारों का ऐलान कर दिया है। बता दें, इस साल 106 हस्तियों के लिए इस पुरस्कार की घोषणा की गई है जिसमें 6 लोगों को पद्म विभूषण, 9 पद्म भूषण और 91 लोगों को पद्मश्री दिए जाएंगे। मालूम हो, ओआरएस (ओरल रिहाइड्रेशन सॉल्यूशन) के जनक दिलीप महालनाबिस को मरणोपरांत पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया है जो कि भारत का दूसरा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार है। सरकार की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, पश्चिम बंगाल के 87 वर्षीय डॉक्टर महालनाबिस ने ओआरएस के व्यापक इस्तेमाल का बीड़ा उठाया, ऐसा अनुमान है कि इसने वैश्विक स्तर पर 5 करोड़ से अधिक लोगों की जान बचाई है। महालनाबिस का पिछले अक्टूबर में कोलकाता में निधन हो गया था।

पद्म विभूषण

बता दें, प्रसिद्ध तबला वादक जाकिर हुसैन, एसएम कृष्णा और श्रीनिवास वर्धन को भारत सरकार की ओर से पद्म विभूषण देने की घोषणा हुई है। इसके अलावा दिलीप महालनाबिस के अलावा मुलायम सिंह यादव और बालकृष्ण दोशी को मरणोपरांत पद्म विभूषण से सम्मानित किया जाएगा।

पद्म श्री

वहीं, अंडबार निकोबार में जोरबा जनजाति के बीच काम करने वाले रतन चंद्र कार को पद्म श्री देने का ऐलान किया गया है। इनके अलावा हीरा बाई लोबी, मुनीश्वीर चंद्र डावर, रामकुई वांगवे न्यूमे, वीपी अप्पकूट्टन पुदुवाल, कपिल देव प्रसाद को पद्म श्री दिया जाएगा।

पद्म पुरस्कार 2023

(1) दिलीप महालनाबिस पद्म विभूषण | चिकित्सा (बाल रोग) | पश्चिम बंगाल | 87 साल
(2) रतन चंद्र कर पद्म श्री | चिकित्सा (चिकित्सक) | अंडमान और निकोबार | 66 वर्ष
(3) हीराबाई लोबी पद्म श्री | सामाजिक कार्य (आदिवासी) | गुजरात | 62 वर्ष
(4) मुनीश्वर चंदर डावर पद्म श्री | मेडिसिन (सस्ती हेल्थकेयर) | मध्य प्रदेश | 76 साल
(5) रामकुइवांगबे न्यूमे पद्म श्री | सामाजिक कार्य (संस्कृति) | असम | 75 साल
(6) वी पी अप्पुकुट्टन पोडुवल पद्म श्री | सामाजिक कार्य (गांधीवादी) | केरल | 99 वर्ष
(7) शंकुरत्री चंद्रशेखर पद्म श्री | सामाजिक कार्य (किफायती हेल्थकेयर) | आंध्र प्रदेश | 79 साल
(8) वदिवेल गोपाल और मासी सदइयां पद्म श्री | सामाजिक कार्य (पशु कल्याण) | तमिलनाडु | जोड़ी
(9) तुला राम उप्रेती पद्म श्री | अन्य (कृषि) | सिक्किम | 98 साल
(10) नेकराम शर्मा पद्म श्री | अन्य (कृषि) | हिमाचल प्रदेश | 59 वर्ष
(11) जनम सिंह सोय पद्म श्री | साहित्य और शिक्षा (हो भाषा) | झारखंड | 72 साल
(12) धनीराम टोटो पद्म श्री | साहित्य और शिक्षा (डेंगका भाषा) | पश्चिम बंगाल | 57 साल
(13) बी रामकृष्ण रेड्डी पद्म श्री | साहित्य और शिक्षा (भाषा विज्ञान) | तेलंगाना | 80 वर्ष
(14) अजय कुमार मंडावी पद्म श्री | कला (लकड़ी पर नक्काशी) | छत्तीसगढ़ | 54 वर्ष
(15) रानी मचैया पद्म श्री | कला (लोक नृत्य) | कर्नाटक | 79 साल
(16) के सी रनरेमसंगी पद्म श्री | कला (गायन – मिज़ो) | मिजोरम | 59 वर्ष
(17) राइजिंगबोर कुर्कलंग पद्म श्री | कला (लोक संगीत) | मेघालय | 60 साल
(18) मंगला कांति रॉय पद्म श्री | कला (लोक संगीत) | पश्चिम बंगाल | 102 साल
(19) मोआ सुबोंग पद्म श्री | कला (लोक संगीत) | नागालैंड | 61 वर्ष
(20) मुनिवेंकटप्पा पद्म श्री | कला (लोक संगीत) | कर्नाटक | 72 वर्ष
(21) डोमर सिंह कुंवर पद्म श्री | कला (नृत्य) | छत्तीसगढ़ | 75 साल
(22) परशुराम कोमाजी खुने पद्म श्री | कला (रंगमंच) | महाराष्ट्र | 70 साल
(23) गुलाम मुहम्मद जाज पद्म श्री | कला (शिल्प) | जम्मू और कश्मीर | 81 वर्ष
( 24) भानुभाई चित्रा पद्म श्री | कला (पेंटिंग) | गुजरात | 66 वर्ष
(25) परेश राठवा पद्म श्री | कला (पेंटिंग) | गुजरात | 54 वर्ष
(26) कपिल देव प्रसाद पद्म श्री | कला (कपड़ा) | बिहार | 68 वर्ष

पद्म पुरस्कार

बता दें, पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कारों में से हैं। वर्ष१ 954 से ये पुरस्कार, हर साल गणतंत्र दिवस के अवसर पर घोषित किए जाते हैं। कला, साहित्य और शिक्षा, खेल, चिकित्सा और सामाजिक कार्य के क्षेत्र के कई गुमनाम नायकों को यह सम्मान दिए जाते हैं।

 

Latest news
Related news