मिशन गुजरात 2022 : बीजेपी में टिकट के लिए उम्र का बंधन नहीं

अभिजीत भट्ट । गांधीनगर
गुजरात में बीजेपी 2022 ( Mission Gujarat 2022: No age bar for ticket in BJP) के विधानसभा चुनाव में 150 से ज्यादा सीटें जीतने के लिए तेजी से आगे बढ़ रही है। फिर भी भाजपा अध्यक्ष सीआर पाटिल ने अपने संगठन की टीम में सबसे ज्यादा युवाओं को मौका दिया है। यह देखते हुए भाजपा विधानसभा में भी युवाओं को ज्यादा टिकट दे सकती है।
सीआर पाटिल की गुजरात भाजपा के अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति के बाद, विधानसभा उपचुनाव और स्थानीय निकाय चुनाव हुए। इस चुनाव में पाटिल के फामूर्ले के अनुसार टिकटों का आवंटन किया गया था। इसके अलावा पेज प्रेसिडेंट समेत नेताओं के प्रचार के लिए खास रणनीति भी तैयार की गई, जिससे बीजेपी को जबर्दस्त जीत मिली। इस चुनाव के नतीजों के विश्लेषण और रिपोर्ट के आधार पर विधानसभा चुनाव का फॉमूर्ला तैयार किया जा रहा है।

क्या है गुजरात बीजेपी का फॉर्मूला

इस फॉर्मूले को देखते हुए भाजपा संगठन और सरकार के वरिष्ठ नेता के बीच टिकट आवंटन जैसे महत्वपूर्ण फैसलों में कुछ मापदंड घोषित करने को लेकर चर्चा चल रही है। पाटिल और उनकी टीम 2022 के विधानसभा चुनाव में 150 से ज्यादा सीटें हासिल करने के लक्ष्य की दिशा में काम कर रही है। जिसमें भाजपा में युवाओं को अधिक अवसर देने के लिए एक सूत्र पर काम किया जा रहा है, जिसमें विधानसभा में लगातार 3 बार चुने गए विधायकों को टिकट नहीं दिया जाना चाहिए। लेकिन जिस विधायक का प्रदर्शन अच्छा हो उसे टिकट देना अपवाद है। हालांकि, पाटिल ने 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को विधानसभा टिकट नहीं देने का मानदंड नहीं बताया। इसे देखते हुए बीजेपी में टिकट के लिए उम्र का कोई बंधन नहीं होगा।
जैसा कि आगामी गुजरात विधानसभा चुनावों के लिए टिकट के लिए गतिविधियां शुरू हो गई है, राज्य अध्यक्ष पाटिल को चुनाव से एक साल पहले स्पष्टीकरण देना पड़ा। लेकिन बीजेपी ने ऐसा बयान दिया है कि एक तरफ उसने घोषणा की है कि 60 साल की उम्र विधानसभा टिकट के लिए नहीं है और दूसरी तरफ दोबारा टिकट न देने की व्यवस्था भी कर रही है। लगातार तीन कार्यकाल के लिए चुने गए। यानी ज्यादातर वरिष्ठ विधायक घर पर बैठ सकते हैं।

गुजरात बीजेपी पर पकड़ बना चुके हैं पाटिल

चर्चा है कि पाटिल अब गुजरात भाजपा पर हावी हो रहे हैं। इस बात से भी इनकार किया जा रहा है कि पाटिल ने गुजरात में 150 से अधिक विधानसभा सीटें जीतने के अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह का खुद का फैसला लेने का विश्वास जीता है, क्योंकि पाटिल को वर्तमान में भाजपा के राज्य के गठन के लिए चुना गया था। टीम। रत्नाकर को जगह दी गई है।
जब सीआर पाटिल भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बने, तो पेज प्रेसिडेंट कमेटी का गठन हुआ, जिसे काफी सफलता मिली। पाटिल के राष्ट्रपति बनने के बाद पहला स्थानीय निकाय चुनाव हुआ था जिसमें एक नियम रखा गया था कि 60 वर्ष से अधिक उम्र के नेताओं को टिकट नहीं दिया जाएगा और जिन्होंने 3 बार चुनाव लड़ा था। नतीजा यह रहा कि कई वरिष्ठ नेताओं के टिकट कट गए।
उस समय भी नेताओं ने क्षेत्र की संसदीय समिति पर सवाल उठाए थे। स्थानीय नेताओं ने सवाल किया कि क्या इस फैसले को विधानसभा और लोकसभा चुनाव के दौरान लागू किया जाएगा। सीआर पाटिल ने तब उत्तर दिया कि स्थानीय निकाय चुनावों के नियम राज्य संसदीय समिति द्वारा तय किए जाते हैं। जबकि विधानसभा और लोकसभा चुनाव के नियम केंद्रीय संसदीय समिति द्वारा तय किए जाते हैं।

अब कटेंगे वरष्ठि नेताओं के टिकट

अब नेताओं के बीच यह बवाल है कि विधानसभा चुनाव में स्थानीय निकाय चुनाव का नियम लागू हुआ तो कई वरिष्ठ नेताओं के टिकट काटे जाएंगे। इसी का नतीजा है कि कुछ नेताओं ने दिल्ली का दौरा भी शुरू कर दिया है। बीजेपी में ऐसे कई नेता हैं जिन्होंने तीन बार से ज्यादा चुनाव लड़ा है। ऐसे नेताओं ने अब अपना टिकट बचाने की कोशिश शुरू कर दी है।
पाटिल ने अगले गुजरात विधानसभा चुनाव में 150 से ज्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है, ऐसे में अगर केंद्रीय संसदीय समिति भी इन नियमों और फॉमूर्ले से सहमत हो जाए तो कोई आश्चर्य नहीं होगा।
ऐसे में सीआर पाटिल के स्थानीय निकाय चुनाव में हिस्सा लेने वाले युवाओं को तरजीह देने की संभावना है। वहीं ‘आप’ भी नौ युवाओं को मौका दे रही है। फिर भाजपा को भी युवाओं को अधिक मौके देने होंगे।

Latest news
Related news