पैरालम्पिक तीरंदाजी में हरविंदर ने जीता कांस्य

Harvinder won bronze in Paralympic Archery: नई दिल्ली। कैथल के निशानेबाज हरविंदर सिंह ने पैरालम्पिक की तीरंदाजी स्पर्धा में भारत को पहला पदक दिलाया है। हरियाणा के कैथल गांव के सिंह ने टाई ब्रेकर में परफेक्ट 10 का निशाना लगाकर इसमें जीत हासिल की जबकि प्रतिद्वंद्वी केवल सात का ही निशाना लगा सका। हरविंदर ने पुरुषों के व्यक्तिगत रिकर्व वर्ग में कांस्य पदक के लिए रोमांचक शूटआफ में कोरिया के किम मिन सू को मात दी। बता दें कि दुनिया के 23वें नंबर के खिलाड़ी सिंह ने 2018 पैरा एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता था। पटियाला स्थित पंजाब यूनिवर्सिटी में अर्थशास्त्र के छात्र हरविंदर सिंह ने कांस्य पदक के प्लेआफ में 5.3 से बढ़त बना ली थी। सिंह ने परफेक्ट 10 लगाया जबकि किम 8 ही स्कोर कर सके। सिंह ने 26. 24, 27. 29, 28. 25, 25. 25, 26. 27, 10. 8 से जीत दर्ज की।
सेमीफाइनल में वह अमेरिका के केविन माथेर से 4. 6 से हार गए थे।
पहले दौर में हरविंदर सिंह ने इटली के स्टेफानो ट्राविसानी की चुनौती शूटआउट में 6-5 (10-7) से समाप्त की। वह तीसरे सेट में सात का निशाना लगाकर 4-0 की बढ़त गंवा बैठे लेकिन उन्होंने वापसी करते हुए 5-5 से बराबरी की और शूट आॅफ में पहुंचे। इसके बाद उन्होंने रूसी पैरालंपिक समिति के बाटो सिडेंडरझिएव को 6.5 से हराया। मुकाबले में 0.4 से पिछड़ने के बाद उन्होंने 5.5 से बराबरी की और शूटआफ में 8.7 से जीत दर्ज की।

डेंगू के कारण खराब हो गए थे पैर

हरियाणा के कैथल जिले में मध्यम वर्ग किसान परिवार के सिंह जब डेढ़ साल के थे तो उन्हें डेंगू हो गया था और स्थानीय डॉक्टर ने एक इंजेक्शन लगाया जिसका प्रतिकूल असर पड़ा और तब से उनके पैरों ने ठीक से काम करना बंद कर दिया।

हरियाणा के एकमात्र खिलाड़ी

टोक्यो में पैरा आर्चरी के रिकर्व इवेंट में खेलने वाले हरविंद्र सिंह हरियाणा के एकमात्र खिलाड़ी हैं। इनके अलावा रिकर्व इवेंट में उतर प्रदेश निवासी विवेक चिकारा, कंपाउंड इवेंट में जम्मु कश्मीर निवासी राकेश कुमार, राजस्थान निवासी श्याम सुंदर और उतरप्रदेश निवासी ज्योति का चयन हो गया है। हरविंद्र सिंह ने सोनीपत कैंप में पैरालंपिक की तैयारी की है। 21 से 27 फरवरी तक दुबई में हुई इस विश्व रैंकिंग प्रतियोगिता में हरविंद्र ने टीम इवेंट में गोल्ड हासिल किया था। इससे पहले 2019 में नीदरलैंड में हुई प्रतियोगिता में पैरालंपिक का कोटा जीत लिया था। बता दें कि कंपाउंड इवेंट में 50 मीटर और रिकर्व इवेंट में 70 मीटर पर निशाना लगाना होता है।

SHARE
Latest news
Related news