एसएफजे के पन्नू पर एफआईआर

सीएम ने प्रतिबंधित संगठन की किसी भी साजिश का उचित जवाब देने की दी चेतावनी
इंडिया न्यूज, चंडीगढ़:
पंजाब पुलिस के द्वारा राज्य में हिंसा का माहौल पैदा करने की लगातार कोशिशों के कारण और हाल ही में पंजाब कें मुख्यमंत्री को मारने की धमकी देने के लिए आईएसआई से समर्थन प्राप्त खालिस्तान के प्रमुख गुरपतवंत सिंह पन्नू के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पन्नू को राज्य की शांति स्थिरता और सांप्रदायिक सदभावना को भंग करने की किसी भी कोशिश के विरुद्ध कड़ी चेतावनी दी है। इस बात पर जोर देते हुए कि प्रतिबंधित सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) और इसके कथित बने जनरल काउंसलि के द्वारा पंजाब का माहौल खराब करने की किसी भी कोशिश का उनकी सरकार के द्वारा करारा जवाब दिया जाएगा, मुख्यमंत्री ने कहा कि किसी को भी पंजाब की शांति को भंग करने और हमारे लोगों को पुन: आतंकवाद के दिनों में धकेलने की अनुमति नहीं दी जाएगी जिसने हजारों बेगुनाहों की जाने ली। कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि एसएफजे की माहौल खराब करने और विघटनकारी कार्रवाई का उचित जवाब दिया जाएगा। यह जिक्र करने हुए कि गुरुओं की धरती जिन्होंने हमेशा ही मानवता की एकता की विचारधारा का प्रचार किया, पंजाब धर्म, जात, नस्ल के भेदभाव के बिना सभी का घर है, मुख्यमंत्री ने कहा कि धर्म के नाम पर और खालिस्तान की प्राप्ति के लिए शांतिपूर्ण अलगाववादी मुहिम की आड़ में पन्नू की नफरत, फूट और हिंसा को भड़काने की निराशाजनक कोशिशों को पहले ही पंजाब और भारत के लोगों ने पूरी तरह नकार दिया है। जोकि शांति और खुशहाली में रहना चाहते हैं। डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बताया कि पन्नू, उसके साथियों और एसएफजे सदस्यों के खिलाफ गैर कानूनी गतिविधियों (रोकथाम) एक्ट, 1967 की धारा 10 (ए) और 13 (1) और आईपीसी की धारा 153ए 153ए और 124ए के अधीन स्टेट साईबर क्राईम पुलिस स्टेशन एसएएस नगर में एफआईआर (नंबर 34 ) दर्ज की गई की गई है।

Latest news
Related news