दलहन- तिलहन पर फोकस करें किसान : कृषि मंत्री

कर्नाटक में मुख्यमंत्री-रैत विद्या निधि योजना का सीएम व केंद्रीय कृषि मंत्री ने किया शुभारंभ
इंडिया न्यूज, बेंगलुरू:
कर्नाटक सरकार की मुख्यमंत्री-रैत विद्या निधि योजना का शुभारंभ रविवार को मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई और केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किया। इस योजना के तहत किसानों के बच्चों को छात्रवृत्ति देना प्रारंभ किया गया है। तोमर ने विद्यार्थियों के बैंक खातों में छात्रवृत्ति की राशि सीधे हस्तांतरण की प्रक्रिया शुरू की, वहीं मुख्यमंत्री, केंद्रीय कृषि मंत्री व केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री सुश्री शोभा करंदलाजे ने प्रतीकात्मक रूप से कुछ विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति वितरित की। इस अवसर पर तोमर ने कहा कि देश में आॅर्गेनिक खेती व नारियल की खेती को बढ़ावा देने के साथ ही दलहन व तिलहन के मामले में आत्मनिर्भरता के लिए केंद्र सरकार मिशन मोड पर तेजी से काम कर रही है। पाम आॅयल की खेती बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार ने हाल ही में 11 हजार करोड़ रुपए का मिशन प्रारंभ किया है।
किसानों ने बनाया आत्मनिर्भर: तोमर
तोमर ने कहा कि हमारे किसानों ने घनघोर परिश्रम किया है, जिसके कारण खाद्यान्न से आज हम अपने देश का पेट तो भर ही रहे हैं, दुनिया की आवश्यकता की पूर्ति भी कर रहे हैं, लेकिन अब देश में खेती का रकबा व इसमें काम करने वाले लोग कम नहीं होना चाहिए। कृषि मंत्री ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय कहा करते थे- हर हाथ को काम, हर खेत को पानी। श्री लाल बहादुर शास्त्री ने कहा- जय जवान, जय किसान। भारतरत्न अटल बिहारी वाजपेयी ने इसमें जय विज्ञान को भी जोड़ा और अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रहते ये तीनों तो है ही, उन्होंने सबका साथ- सबका विकास, सबका विश्वास भी इसमें जोड़ा है। इस मंत्र के साथ देश आगे बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री ने किसानों की आमदनी दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है, इसके लिए केंद्र व राज्य सरकारें मिलकर काम कर रही हैं, जिससे हम अगले वर्ष तक यह लक्ष्य प्राप्त करने में जरूर सफल होंगे।
छोटे किसानों के लिए चलाई योजनाएं
तोमर ने कहा कि छोटे किसानों की ताकत बढ़ाने के लिए प्रधानमंत्री जी ने 6,850 करोड़ रुपए की लागत से 10 हजार नए एफपीओ बनाने की योजना चलाई है। पीएम किसान योजना के अंतर्गत अब तक 11.37 करोड़ किसानों को 1.58 लाख करोड़ रुपए उनके बैंक खातों में दिए जा चुके हैं। किसान क्रेडिट कार्ड योजना के माध्यम से किसानों को साहूकारी पर निर्भरता कम करने के लिए सालभर में 16 लाख करोड़ रूपए देने का लक्ष्य रखा गया है।
किसानों की भलाई के लिए कर रहे कार्य : बोम्मई
मुख्यमंत्री बोम्मई ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी देश का सतत विकास सुनिश्चित कर रहे हैं। केंद्र सरकार द्वारा प्रारंभ की गई योजनाओं को कर्नाटक में समय-सीमा में लागू किया जा रहा है तथा योजनाओं के उद्देश्यों को हासिल किया जा रहा है। श्री बोम्मई ने कहा कि किसानों के बच्चों के लिए प्रारंभ की गई छात्रवृत्ति योजना के कोष को एक व्यय के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए, वास्तव में यह एक निवेश है जो हम किसानों के लिए कर रहे हैं और इसका रिटर्न न केवल कर्नाटक को बल्कि पूरे देश में वापस मिलेगा। उन्होंने यह भी कहा कि एक राजनेता की निगाहें अगले चुनाव पर होती है जबकि एक दूरदर्शी व्यक्ति अगली पीढ़ी की तलाश करता है।

Latest news
Related news