कमर तोड़ती महंगाई, आसमान छू रहे दाम

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली:
कोरोना की मार झेल रही आम आदमी की जिंदगी रोजगार और अर्थव्यवस्था का भी दंश झेल रही है। महंगाई के बीच गृहस्थी भी मुंह बाए खड़ी है। पेट्रोल शतक लगा चुका है या कुछ जगह दहलीज पर खड़ा है। रसोई गैस हजार के करीब पहुंच रहा है, सरसों तेल दोहरे शतक पर है। राशन के दाम दिन-ब-दिन आसमान छू रहे हैं। ट्यूशन फीस, किताबें और स्टेशनरी महंगी हो रही है। इलाज महंगा हो रहा। दवाएं 40 प्रतिशत तक महंगी हो गयी हैं।
मार्च 2020 से लेकर सितंबर 2021 के बीच पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस की कीमतों में जबरदस्त वृद्धि हुई है। मार्च 2020 में पेट्रोल 68़ 72 रुपये प्रति लीटर था, जो तीन सितंबर 2021 को 96़ 31 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच गया है़। यानी डेढ़ वर्ष में 27़ 59 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई है़ इसी प्रकार डीजल की कीमत 63़ 56 रुपये से बढ़कर 93़ 71 रुपये प्रति लीटर हो गया है़ इसमें 30़15 रुपये प्रति लीटर हुई है।
घरेलू गैस की कीमत वर्तमान में 942 रुपये हो गयी है। इस माह सब्सिडी भी जीरो रुपये हो गया है। एक सिलिंडर की वास्तविक कीमत 942 रुपये हो गयी है़ जबकि मार्च 2020 में गैस की वास्तविक कीमत 590़ 83 थी़ उस समय गैस पर सब्सिडी 277़ 67 रुपये मिल रही था़। इस दौरान 351़ 17 रुपये प्रति सिलिंडर की वृद्धि हो गयी है। एफएमसीजी आइटमों के दामों में भी वृद्धि हुई है। हर प्रकार की खाद्य सामग्री की कीमत बढ़ गयी है। सरसों तेल लगातार रिकॉर्ड बना रहा है। यह लगभग 200 रुपये तक पहुंच गया है। 105-115 रुपये प्रति लीटर मिलने वाला सरसों तेल वर्तमान में 175-195 रुपये प्रति लीटर मिल रहा है। इसी प्रकार रिफाइंड आॅयल भी 165-210 रुपये प्रति लीटर में मिल रहा है। मूंग दाल 100 से बढ़कर 110, मसूर दाल 65 से 100 रुपये, अरहर दाल 90 से 110 रुपये, चना दाल 65 से 75, चना 50 से 65 रुपये पहुंच गया है। इसी प्रकार अन्य सामग्रियों की कीमतें भी आसमान छू रही हैं। दूध के दामों में भी अच्छी-खासी वृद्धि हो गयी है। दूध में प्रति लीटर चार से पांच रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई है। इस दौरान दो बार दूध के दामों में पहली बार दो रुपये और दूसरी बार दो से तीन रुपये प्रति लीटर की वृद्धि की गयी है।

Latest news
Related news