तीसरी लहर की आशंका के बीच अहमदाबाद में रैपिड टेस्ट के 35 में से 10 केंद्र बंद

– नगर निगम के शहरी स्वास्थ्य केंद्र में होगा परीक्षण।
– नगर निगम के आठ अंचलों के शहरी स्वास्थ्य केंद्र में जांच की व्यवस्था जारी रहेगी।
– अस्पतालों और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में लगाए जाएंगे 250 और 500 लीटर क्षमता के पीएसए आॅक्सीजन प्लांट।

अभिजीत भट्ट । अहमदाबाद
अहमदाबाद में दूसरी लहर घातक साबित हुई। इलाज के लिए बेड और आॅक्सीजन समेत सुविधाएं लेने के लिए लोगों को लाइन में लगना पड़ा। अब कोरोना ने शहर को विदाई दे दी है। इस बीच, निगम के स्वास्थ्य विभाग ने शहर के विभिन्न क्षेत्रों में स्थापित कोरोना टेस्ट के लिए रैपिड एंटीजन जांच केंद्रों को अचानक बंद कर दिया है। पिछले तीन दिनों में शहर के 35 रैपिड टेस्ट सेंटरों में से 10 को बंद कर दिया गया है। शेष 25 केंद्र भी निकट भविष्य में बंद कर दिए जाएंगे।
वस्त्रपुर झील, पालदी टैगोर हॉल में केंद्र और पूर्वी क्षेत्र समेत शहर में कुल 10 केंद्र बंद कर दिए गए हैं। नगर निगम सूत्रों ने बताया कि अगले सप्ताह के दौरान 35 में से शेष 25 केंद्रों को भी बंद कर दिया जाएगा और शहर के आठ अंचलों के शहरी स्वास्थ्य केंद्र में जांच की व्यवस्था जारी रहेगी। यानी एक जोन में एक सेंटर चालू रहेगा। सूत्रों के मुताबिक, रैपिड एंटीजन टेस्टिंग सेंटर को मजबूरन बंद करना पड़ा है क्योंकि हर दिन मुश्किल से 10 नागरिक ही टेस्ट के लिए आते हैं।
अहमदाबाद नगर निगम द्वारा कोरोना की संभावित तीसरी लहर के लिए तैयारी की जा रही है। स्थायी समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया है। निगम संचालित अस्पताल व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 250 व 500 लीटर क्षमता का पीएसए आॅक्सीजन जेनरेशन प्लांट लगाया जाएगा। निकट भविष्य में साइट पर आॅक्सीजन प्लांट के रख-रखाव का भी कार्य किया जाएगा। इस कार्य के लिए 11 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।
स्थायी समिति के अध्यक्ष हितेश बरोट ने कहा कि कोरोना को दूसरी लहर में सबसे ज्यादा आॅक्सीजन की कमी का सामना करना पड़ा, जिससे आॅक्सीजन की तैयारी शुरू हो गई। इसके लिए अहमदाबाद के विभिन्न सीएचसी और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों और अस्पतालों में करीब 30 आॅक्सीजन प्लांट लगाए जाएंगे। उनका काम वर्तमान में स्वीकृत है और इसे तत्काल लिया जाएगा। यह कार्य वर्तमान में स्थायी समिति में तत्काल लिया जा रहा है।
अहमदाबाद में कोरोना का मामला 10 के भीतर स्थिर है। फिर जिले में लगातार 19वें दिन शून्य मामले सामने आए हैं। शहर में आज एक नया मामला सामने आया है, जबकि 3 मरीज ठीक हो चुके हैं। 22 अगस्त को शहर में कोरोना काल की दूसरी लहर में पहली बार केवल एक मामला सामने आया था। इससे पहले जिले में 14 अगस्त को 3 मामले सामने आए थे। शहर में लगातार 45वें दिन किसी की मौत नहीं हुई। 1 सितंबर 2021 की शाम से 2 सितंबर की शाम तक शहर में 1 नया मामला सामने आया। जबकि शहर में 3 मरीज ठीक हो चुके हैं। वहीं, शहर और जिले में कोरोना के पॉजिटिव मामलों की संख्या 2 लाख 38 हजार 113 पहुंच गई है। जबकि 2 लाख 34 हजार 663 मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं. जबकि मरने वालों की संख्या 3 हजार 411 हो गई है।

Latest news
Related news