रांची हिंसा के आरोपिया के पोस्टर लगाने पर झारखण्ड सरकार ने एसएसपी से माँगा स्पस्टीकरण.

पांच जून को झारखण्ड की राजधानी रांची में हुए हिंसा के आरोपियों के पोस्टर चौराहो पर लगाने के सन्दर्भ में झारखंड के गृह सचिव राजीव अरुण एक्का ने रांची के वरीय पुलिस अधीक्षक से सफाई मांगी है ,एसएसपी को लिखे पत्र में गृह सचिव ने कहा की पुलिस द्वारा 14 जून को हिंसा में कथित रूप से शामिल लोगो के पोस्टर चौराहो पर लगाए गए ,ऐसा करना विधिसम्मत नहीं है और माननीय इलाहाबाद उच्च न्यायलय द्वारा दिए गए 9 मार्च 2020 के आदेशों के विरुद्ध है,इस मामले में रांची पुलिस के वरीय पुलिस अधीक्षक को दो दिनों में जवाब देने को कहा गया है.

14 जून को राज्यपाल के आदेश के बाद हिंसा के आरोपियों के पोस्टर चौराहो पर लगाए गए थे ,जिसपर सत्ताधारी झारखण्ड मुक्ति मोर्चा ने आपत्ति दर्ज की थी ,सत्ता में हिस्सेदार कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने तो राज्यपाल पर भाजपा के इशारे पर काम करने का आरोप तक लगा दिया था,इसके बाद रांची पुलिस ने पोस्टर में त्रुटि होने की बात  कहकर पोस्टरों को उतरवा दिया था.

पांच जून को भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा द्वारा पैगंबर पर कथित रूप से की गई विवादित टिपण्णी के विरोध में हुए प्रदर्शन के दौरान हिंसा हुए थी, पुलिस पर 80 राउंड फायरिंग भी की गई थी,इसके बाद 12 थाना छेत्रो में धारा 144 लगाना पड़ा था ,पुलिस ने अब तक 25 मामले दर्ज किए है और 29 लोगो की गिरफ्तारी की है.

Latest news
Related news