पुतिन ने पीएम मोदी को क्यों कहा-मेरे प्यारे दोस्त कल आपका जन्मदिन है लेकिन मैं विश नहीं कर सकता?

इंडिया न्यूज, Samarkand News। SCO Summit : शुक्रवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्टÑपति पुतिन ने शंघाई सहयोग संगठन के वार्षिक शिखर सम्मेलन में मुलाकात की। इस दौरान दोनों देशों के नेताओं की बीच काफी देर तक बातचीत होती रही। वहीं इस बातचीत के दौरान रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पीएम मोदी को एडवांस में हैप्पी बर्थडे बोलने से इनकार कर दिया। पुतिन इसके पीछे रूसी परंपरा का हवाला दिया।

हम जानते हैं कल आप जन्मदिन मनाने वाले हैं

विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के दौरान पुतिन ने कहा कि उन्हें इस बारे में जानकारी है कि पीएम मोदी कल अपना जन्मदिन मनाने वाले हैं। पुतिन ने पीएम से कहा, “मेरे प्यारे दोस्त, कल आप अपना जन्मदिन मनाने वाले हैं और हमें इस बारे में पता है।” प्रधानमंत्री मोदी का जन्मदिन 17 सितंबर को होता है।

रूसी परंपरा में नहीं है एडवांस विश करने का रिवाज

मुस्कुराते हुए पुतिन ने मोदी से कहा कि उन्हें पता है कि भारतीय प्रधानमंत्री शुक्रवार को अपना जन्मदिन मनाएंगे, लेकिन यह रूसी परंपरा नहीं है कि पहले से ही जन्मदिन की बधाई दी जाए। उन्होंने कहा, “हमें पता है कि कल आपका जन्मदिन है। लेकिन मैं आपको विश नहीं कर सकता है क्योंकि रूस की परंपरा इसकी इजाजत नहीं देती। मैं मित्र देश भारत को शुभकामनाएं देता हूं।”

रूस में क्यों एडवांस में नहीं किया जाता बर्थड विश?

बता दें कि रूस में एडवांस में हैप्पी बर्थडे बोलने को अपशकुन माना जाता है। रूसी लोग किसी को भी एडवांस में बर्थडे विश नहीं करते हैं। रूसी आमतौर पर अपनी डेट से पहले जन्मदिन नहीं मनाते हैं, क्योंकि इसे अपशकुन माना जाता है।

ऐसी मान्यता है कि जो व्यक्ति अपना जन्मदिन पहले ही मनाना शुरू कर देता है, वह असली जन्म तिथि तक जीवित नहीं रहने का जोखिम उठाता है। रूसी लोग मानते हैं कि जन्मदिन की पूर्व संध्या पर, जन्मदिन मनाने वाला व्यक्ति बीमारियों की चपेट में सबसे जल्द आ सकता है।

40वां जन्मदिन भी नहीं मनाते रूसी

इसके अलावा रूस में एक और परंपरा है कि लोग अपना 40वां जन्मदिन नहीं मनाते हैं, क्योंकि वे इसे बैड लक मानते हैं। यह एक अपशकुन माना जाता है, क्योंकि, एक ईसाई मान्यता के अनुसार, अंतिम संस्कार के 40वें दिन, आत्मा अंत में पृथ्वी छोड़ देती है।

हम यूक्रेन संघर्ष को जल्द खत्म करना चाहते हैं

इससे पहले दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर चर्चा की। भारत ने यूक्रेन पर आक्रमण के लिए अब तक रूस की आलोचना नहीं की है। भारत बातचीत के जरिए संकट के समाधान पर जोर दे रहा है।

मोदी और पुतिन की बैठक के दौरान यूक्रेन युद्ध का मुद्दा भी उठा। रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने प्रधानमंत्री मोदी से कहा कि वे भारत चिंताओं से अवगत हैं। उन्होंने कहा कि वे यूक्रेन संघर्ष को जल्द खत्म करना चाहते हैं।

हम तो शांति चाहते हैं लेकिन यूक्रेन युद्ध चाहता है

उज्बेकिस्तान के ऐतिहासिक शहर समरकंद में द्विपक्षीय बैठक के दौरान पुतिन ने पीएम मोदी से कहा, “मैं यूके्रन में संघर्ष पर आपकी स्थिति और आपकी चिंताओं के बारे में भी जानता हूं। हम चाहते हैं कि यह सब जल्द से जल्द खत्म हो।

हम आपको वहां क्या हो रहा है, इसकी सारी जानकारी देते रहेंगे।” रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पीएम मोदी से आगे कहा कि वह चाहते हैं कि यूक्रेन में संघर्ष जल्द से जल्द समाप्त हो, लेकिन यूक्रेन है जो युद्ध लड़ना चाहता है।

जल्द युद्ध को समाप्त करने का करेंगे प्रयास

रूसी राष्ट्रपति ने कहा कि वह यूक्रेन में संघर्ष को जल्द से जल्द खत्म करना चाहते हैं और समझते हैं कि भारत की युद्ध को लेकर अपनी चिंताएं हैं। उन्होंने कहा कि वह इसे जल्द से जल्द खत्म करने की पूरी कोशिश करेंगे।

ये भी पढ़ें : आम के विधायक अमानतुल्लाह खान के 5 ठिकानों पर एंटी करप्शन ब्यूरो की रेड, कैश और हथियार मिले

ये भी पढ़ें : एससीओ के मंच पर पीएम मोदी ने पाक और चीन पीएम से बनाई दूरी, औपचारिक मुलाकात से भी बचे

ये भी पढ़ें : पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह 19 को कर सकते हैं PLC के BJP में विलय होने की घोषणा

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube
Latest news
Related news