कब्जे के बाद यूक्रेन ने की फिर वापसी, लाइमैन शहर से खदेड़े रूसी सैनिक

इंडिया न्यूज, Keev News। Russia-Ukraine War: पिछले काफी लंबे समय से चल रहे रूस और यूक्रेन के युद्ध का अंत कब होगा इसके बारे में तो कोई नहीं जानता लेकिन रूस के सामने यूक्रेन का इतने लंबे समय तक टिक पाना यूक्रेन के लिए बड़ी बात है। अमेरिका सहित यूरोप के कई देश यूके्रन की मदद कर रहे हैं। यही कारण है कि यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लादिमीर जेलेंस्की अभी तक डटे हुए हैं।

वहीं एक दिन पहले ही रूस ने यूक्रेन के चार हिस्सों को अपने देश में मिला लिया है। जिसके बाद शनिवार को रूस की सेना को यूक्रेन के लाइमैन शहर से वापस पिछे हटना पड़ा। यह लाइमैन शहर वही है जिसपर रूस कब्जा कर चुका था, लेकिन यूक्रेन की ओर से जवाबी हमले के बाद पुतिन की सेना को पीछे हटना पड़ा।

रूसी सेना को ओस्किल नदी के पार धकेला

लाइमैन यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खार्किव से 160 किलोमीटर (100 मील) दक्षिण पूर्व में है। यूक्रेन की सेना ने जवाबी हमले के बाद रूसी सेना को ओस्किल नदी के पार धकेल दिया है। लाइमैन परिवहन का प्रमुख केंद्र भी है। रूस के लिए यह जमीनी रास्ते के जरिए संचार और रसद पहुंचाने का आसान रास्ता भी था।

लाइमैन से रूस को खदेड़ने के बाद यूक्रेन संभावित रूप से अब लुहान्सक क्षेत्र में आगे बढ़ सकता है। लुहान्सक उन चार क्षेत्रों में से एक है जिसे रूस ने जनमत संग्रह के बाद अपनी सीमा में शामिल कर लिया है।

हमले में 20 नागरिकों की मौत

वहीं बताया जा रहा है कि पुतिन की ओर से सैन्य की आंशिक तैनाती के ऐलान के बाद रूस भी यूके्रन पर हमला तेज कर दिया है। यूके्रन में एक क्षेत्रीय अधिकारी ने कहा है कि रूसी बलों ने देश के पूर्वोत्तर में नागरिकों के काफिले पर गोलाबारी की, जिसमें 20 लोग मारे गए।

खारकीव क्षेत्र के गवर्नर ओलेह सिनीहुबोव ने बताया कि शनिवार को उन लोगों पर हमले किए गए, जिन्हें गोलाबारी से बचाने के लिए वहां से हटाया जा रहा था। उन्होंने कहा कि यह ऐसी निर्मम कार्रवाई है जिसके न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता।

खारकीव क्षेत्र से पीछे हटी रूसी सेना

पिछले महीने यूके्रन के एक सफल जवाबी हमले के बाद रूसी सेना खारकीव क्षेत्र के अधिकांश हिस्से से पीछे हट गई है, लेकिन इस क्षेत्र में गोलाबारी जारी रखी है। इस सप्ताह बमबारी काफी तेज हो गई, क्योंकि रूस ने अपने पूर्ण या आंशिक नियंत्रण के तहत पूर्व और दक्षिण में चार यूक्रेनी इलाकों को अपने कब्जे में ले लिया है।

ये भी पढ़े : उत्तर प्रदेश के कानपुर में श्रद्धालुओं से भरी ट्राली तालाब में पलटी, 25 की मौत

ये भी पढ़े : ‘दिल्ली का सपनों का सौदागर’ फिर 2014 जैसी हार का स्वाद चखेगा : स्मृति ईरानी

ये भी पढ़े : स्वच्छता सर्वेक्षण-2022: छठी बार भी मध्य प्रदेश का इंदौर बना स्वच्छता का सिरमौर, राष्ट्रपति से मिला सम्मान

ये भी पढ़े : चीन के साथ ल्हासा-काठमांडू रेल प्रोजेक्ट की शुरुआत कर फंसा नेपाल

ये भी पढ़े : रूस-यूक्रेन युद्ध के एटमी वार में तब्दील होने की आशंका, जानें क्यों पोलैंड बांट रहा आयोडीन की गोलियां?

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtub

Latest news
Related news