सत्ता की लड़ाई : तालिबान और हक्कानी नेटवर्क में झड़प, गोलीबारी में सह-संस्थापक अब्दुल गनी बरादर घायल

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली:
Afghanistan में तालिबान के कब्जे के बाद जिस बात के कयास लगाए जा रहे थे, अब वो खुलकर सामने आ रही है। काबुल पर तालिबान ने कब्जा तो आसानी से कर लिया लेकिन सरकारन बनाना और चलाना उनके लिए बहुत आसान नहीं होगा। चुंकि अब काबुल में तालिबान का कोई विरोधी नहीं रह गया है, इसलिए सत्ता पर आसानी होने के लिए तालिबान में ही 2 गुट उभर गए हैं।
जी हां, सत्ता की कुर्सी को लेकर तालिबान और हक्कानी नेटवर्क आपस में ही भिड़ गए हैं। वहीं यह खबर भी सामने आ रही है कि तालिबान के सह-संस्थापक अब्दुल गनी बरादर और हक्कानी गुट के बीच बीती रात झड़प हुई है और इसमें गोली भी चली है। पंजशीर आॅब्जर्वर की रिपोर्ट माने तो हक्कानी गुट की ओर से गोली चलाई गई है और इस झड़प में अब्दुल गनी बरादर घायल भी हो गए हैं।
पंजशीर आब्जर्वर के अनुसार सत्ता संघर्ष को लेकर काबुल में बीती रात तालिबान के दो वरिष्ठ नेताओं के बीच गोलीबारी हुई। इसमें मुल्ला बरादर कथित तौर पर घायल हो गए हैं और उनका पाकिस्तान में इलाज चल रहा है। वहीं नॉर्दन अलायंस ने भी ट्वीट कर जानकारी दी है कि बरादर ने तालिबानियों को पंजशीर में नहीं लड़ने और काबुल आने के लिए कहा है। अलायंस का कहना है कि सत्ता के लिए इन लोगों में आपस में लड़ाई जारी है।

Latest news
Related news