हरियाली बढ़ाने में भारत का अनूठा भागीदार है डेनमार्क : जयशंकर

नॉर्डिक देश के दौरे पर हैं विदेश मंत्री एस जयशंकर
इंडिया न्यूज, कोपेनहेगन:

विदेश मंत्री एस जयशंकर इन दिनों डेनमार्क के दौर पर पहुंचे हुए हैं। यहां पर विदेश मंत्री ने कहा कि भारत और डेनमार्क के रिश्तों के बीच खास बात ये है कि डेनमार्क सिर्फ एक देश है, जिसके साथ भारत की हरित रणनीतिक साझेदारी है। उन्होंने कहा, मध्य यूरोपीय राष्ट्र की ताकत, अनुभव और सर्वोत्तम प्रथाओं के कारण डेनमार्क भारत का बहुत ही अनूठा भागीदार है। डेनमार्क हरित राह पर पहुंचने के लिए भारत जैसे देश के विकास में बहुत मददगार साबित हो सकता है। जयशंकर तीन यूरोपीय देशों स्लोवेनिया, क्रोएशिया और डेनमार्क की अपनी यात्रा के अंतिम चरण में डेनमार्क में हैं। वह इन मुल्कों के साथ द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने और यूरोपीय संघ (एव) के साथ भारत के सहयोग को और मजबूत करने के लिए पहुंचे हैं। जयशंकर ने शनिवार को अपने डेनिश समकक्ष जेप्पे कोफोड के साथ भारत-डेनिश संयुक्त आयोग की बैठक (जेसीएम) की सह अध्यक्षता की। जेसीएम बैठक के बाद जारी एक बयान में विदेश मंत्री ने कहा, डेनमार्क के साथ भारत के संबंधों में जो अद्वितीय है, वह ये है कि डेनमार्क एकमात्र ऐसा देश है जिसके साथ भारत की हरित रणनीतिक साझेदारी है। जयशंकर ने कहा कि हर कोई कहता है कि बिल्ड बैक बेहतर है, लेकिन हम भी वापस हरियाली बढ़ाना चाहते हैं और हरियाली बढ़ाने में, हमें लगता है कि डेनमार्क एक बहुत ही अनूठा भागीदार है, क्योंकि आपके पास ताकत और अनुभव और सर्वोत्तम प्रथाएं हैं जो भारत जैसे देश के विकास के इस चरण में बहुत मददगार हैं। बता दें कि नई दिल्ली में जारी विदेश मंत्रालय की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, जयशंकर की डेनमार्क की ये पहली और 20 सालों में किसी भारतीय विदेश मंत्री की पहली यात्रा थी। उन्होंने कहा कि दोनों देश संयुक्त आयोग के माध्यम से कार्य करते हैं, जिसके जरिए अगले पांच वर्षों के लिए एक संयुक्त कार्य योजना तैयार की जाती है। जयशंकर ने कहा, हमने देखा कि कैसे कोविड के बीच भी संयुक्त कार्य योजना ने काम किया है। उन्होंने यात्रा की सभी समस्याओं को कम करने के लिए पिछले डेढ़ साल में दोनों पक्षों के अधिकारियों को उनके काम के लिए बधाई दी।

SHARE
Latest news
Related news