Coronavirus: चीन में 30 हजार के पार पहुंचे कोरोना के मामले, फिर भी लॉकडाउन के खिलाफ सड़कों पर भारी प्रदर्शन

Coronavirus in China: चीन में एक बार से कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी है। हर रोज चीन में 30,000 के पार कोविड केस सामने आ रहे हैं। जिसे देखते हुए चीन के कई शहरों में लॉकडॉउन लगा दिया गया है। मगर कोविड के इतने अधिक केस सामने आने के बाद भी लोगों को पाबंदियां मंजूर नहीं हैं। कोविड प्रतिबंधों के खिलाफ चीन में प्रदर्शन अब तेज हो गया है। कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं के खिलाफ बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर उतर आए हैं। हजारों प्रदर्शनकारी शंघाई की सड़कों पर मौजूद हैं।

सामने आई एक रिपोर्ट के अनुसार पुलिस की कारों में लोगों को ढकेला जा रहा है। वहीं नानजिंग और बीजिंग में भी यूनिवर्सिटी में छात्र जोरदार प्रदर्शन कर रहे हैं। ये विरोध प्रदर्शन सुदूर उत्तर-पश्चिमी शहर उरुमकी में शुरू होकर अब कई शहरों में फैल चुका है। वहीं उरुमकी में एक इमारत में आग लगने से 10 लोगों की जान चली गई है। जिसके बाद लॉकडाउन के नियमों की धज्जियां उड़ा दी गई हैं।

प्रदर्शनकारियों ने लगाए ‘शी जिनपिंग, पद छोड़ो’ के नारे

बता दें कि कोविड प्रतिबंधों के कारण मौतों के आरोप को चीनी अधिकारियों ने खारिज कर दिया है। शुक्रवार देर रात उरुमकी के अधिकारियों ने असामान्य माफी जारी की थी। जानकारी दे दें कि चीन के सबसे बड़े शहर शंघाई में ‘कम्युनिस्ट पार्टी, पद छोड़ो’ और ‘शी जिनपिंग, पद छोड़ो’ जैसे नारे प्रदर्शनकारी सड़कों पर लगाते हुए नजर आ रहे। वहीं इस प्रदर्शन में कुछ लोग सफेद बैनर के साथ सामिल हुए। जबकि काफी लोगों ने उरुमकी आग में मारे गए लोगों के लिए मोमबत्तियां जलाईं। साथ ही फूल भी रखे।

जीरो कोविड पॉलिसी की शुरू से हो रही आलोचना

आपको बता दें कि विश्लेषकों के मुताबिक ऐसा प्रतीत होता है कि जीरो-कोविड पॉलिसी के प्रति बढ़ते असंतोष को सरकार ने समझने में बड़ी गलती की। शी जिनपिंग की सख्त जीरो कोविड पॉलिसी को शुरूआत से ही आलोचनाओं का शिकार होना पड़ रहा है। जिनपिंग ने हाल ही कहा था कि इस पॉलिसी को फिलहाल हटाया नहीं जाएगा।

Also Read: AIIMS की बायोकेमिस्ट्री विभाग में अध्ययन, कैंसर पीड़ितों के उपचार में बेहद कारगार है त्रिफला

Latest news
Related news