महिला स्व-सहायता समूहों सम्मेलन में शामिल हुए पीएम मोदी, कहा- ‘मेरा ये प्रयास रहता है जन्मदिन पर मां के पास जाऊं’

PM Modi in Sheopur: PM Modi Said - I Could Not Go To My Mom On My Birthday, But Lakhs Of Mothers Of The Region Are Blessing Me

PM Modi in Sheopur: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज अपने जन्मदिन के मौके पर कूनो नेशनल पार्क में चीते छोड़े हैं। जिसके बाद वह श्योपुर जिले के कराहल पहुंचे हैं। जहां पर पीएम महिला स्व-सहायता समूहों के सम्मेलन में शामिल हुए। प्रधानमंत्री योजना के तहत इस दौरान उन्होंने चार कौशल केंद्रों का लोकार्पण किया। यहां पर सभा को संबोधित करते हुए पीएम ने अपने जन्मदिन के मौके पर अपनी मां को याद किया।

पीएम ने सभा को संबोधित कर किया मां को याद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि “मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मेरे जन्मदिन का उल्लेख किया। मुझे तो याद रहता नहीं है। आमतौर पर मेरा यह प्रयास रहता है कि मेरी मां के पास जाऊं। उनके चरण छूकर आशीर्वाद लूं। लेकिन आज मैं मां के पास तो नहीं जा सका, लेकिन मध्यप्रदेश के आदिवासी अंचल के, अन्य समाज के गांव-गांव में मेहनत करने वाली यह लाखों माताएं आज मुझे यहां आशीर्वाद दे रही हैं। यह दृश्य जब मेरी मां देखेगी, उसे संतोष होगा कि बेटा उसके पास नहीं गया लेकिन लाखों माताओं ने मुझे आशीर्वाद दिया है। आपका आशीर्वाद हमारे लिए प्रेरणा है।”

देश की माताएं-बहनें हैं मेरा सबसे बड़ा रक्षा कवच

उन्होंने आगे कहा कि “देश की माताएं-बहनें और बेटियां मेरा सबसे बड़ा रक्षा कवच है। वह शक्ति का स्रोत हैं।  पिछले 8 साल में स्वयंसहायता समूहों को सशक्त बनाने में हमने पूरी मदद की है। आठ करोड़ से अधिक बहनें पूरे देश में इस अभियान में जुड़ चुकी हैं। आठ करोड़ परिवार इस काम के साथ जुड़े हैं। हर ग्रामीण परिवार से कम से कम एक महिला इस अभियान से जुड़े। मध्यप्रदेश की भी 40 लाख से ज्यादा महिलाएं स्वयंसहायता समूहों से जुड़ी हैं।”

ग्रामीण बहनों के बनाए गए उत्पाद देश के लिए हैं अनमोल

इसके अलावा पीएम मोदी ने कहा कि “महिला उद्यमियों को संभावनाएं बनाने के लिए वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट के जरिए हम प्रत्येक जिले के लोकल उत्पादों को बड़े बाजारों में पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं। इसका सबसे बड़ा लाभ महिला स्वयंसहायता समूहों को मिला है। कुछ देर पहले मुझे कुछ महिलाओं से बात करने का मौका मिला। ग्रामीण बहनों के बनाए यह उत्पाद पूरे देश के लिए अनमोल है।”

पीएम मोदी ने आगे अपने संबोधन में कहा कि “मुझे खुशी है कि यहां पर मध्यप्रदेश में हमारे शिवराज सिंह की सरकार ऐसे उत्पादों को बाजार तक पहुंचाने के लिए विशेष प्रयास कर रही है। सरकार ने अनेक ग्रामीण बाजार स्वयंसहायता समूहों की महिलाओं के लिए ही बनाए हैं। इन बाजारों में स्वयंसहायता समूहों ने करीब 500 करोड़ रुपये से ज्यादा के उत्पादों की बिक्री है। इतना सारा पैसा आपकी मेहनत से गांव की बहनों के पास पहुंचा है।”

चीतों के स्वागत में बजाएं जोरदार तालियां

75 साल बाद देश में चीते लौटने पर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि “75 साल बाद चीता फिर से हमारी धरती पर लौट आया है। कुछ देर पहले मुझे कूनो में चीतों को छोड़ने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। हम पूरे विश्व को संदेश देना चाहते हैं। आज जब आठ चीते हमारी देश की धरती पर लौट आए हैं। दूर अफ्रीका से आए हैं, लंबा सफर करके आए हैं, हमारे बहुत बड़े मेहमान आए हैं। इन मेहमानों के सम्मान में हम सब अपनी जगह पर खड़े होकर दोनों हाथ ऊपर करके स्वागत करें। जोर से ताली बजाएं। जिन्होंने हमें चीते दिए हैं, उन देशवासियों का भी हम धन्यवाद करते हैं। उन्होंने लंबे अरसे बाद हमारी मनोकामना पूरी की है।”

Also Read: चीता प्रोजेक्ट पर हमलावर हुई कांग्रेस, कहा- ‘राष्ट्रीय मुद्दों को दबाने के लिए पीएम ने किया तमाशा’

Latest news
Related news