मोबाइल के बजाय एक दूसरे से बात करें छात्र : कार्तिक शर्मा

इंडिया न्यूज, अंबाला, (Kartik Sharma) : युवा सांसद कार्तिक शर्मा ने आज अंम्बाला सिटी के डीएवी कॉलेज (लाहौर) में पहुंचकर छात्रों को सफलता का मंत्र दिया। विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए उन्होंने अपने कॉलेज के दिनों को याद किया और कहा कि मोबाइल से निकलकर एक दूसरे से बात करें, मुद्दों पर चर्चा करें। उन्होंने कहा, पहले युवा कॉमन रूम्स में हम बैठ कर चर्चा करते थे तो आप भी सोशल मीडिया को कुछ समय के लिए दूर रख वास्तविक जीवन को जीएं। अपने विचारों का आदान-प्रदान करें। युवाओं से सांसद कार्तिक शर्मा ने कहा कि आप खुद की सोच और सीखने की क्षमता को रुकने मत दो, देखना सफलता आपके कदम चूमेगी।

डीएवी ने देश को कई प्रधानमंत्री दिए

कार्तिक शर्मा ने विद्यार्थियों से यह भी कहा कि अज्ञानी होना गलत नहीं, अज्ञानी बने रहना गलत है। उन्होंने कहा, डीएवी वह संस्थान है जिसने देश को कई प्रधानमंत्री दिए और यह विश्व की सबसे बड़ी सामाजिक संस्था है। इसके विश्वभर में सबसे ज्यादा स्कूल व छात्र हैं। मेरा सौभाग्य है कि एक महान महापुरुष की ओर से स्थापित इस शिक्षण संस्थान में आने का मौका मिला। यह हमारा डीएवी कॉलेज लाहौर आज भी लाहौर की उन यादों की उस सभ्यता को जिंदा रखे हुए है जो विभाजन के बाद हमसे अलग हो गया था।

नई तकनीक से नए अवसर तलाशने की जरूरत

कार्तिक शर्मा ने कहा, आज युवाओं को नए अवसर नई तकनीक के माध्यम से तलाशने की जरूरत है। युवा अपनी सोच को बड़ा करें, आपके पास मौकों की कोई कमी नहीं है। हरियाणा क्षेत्रफल के हिसाब से बेशक छोटा प्रदेश है, पर यहां युवाओं में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। हरियाणा से हर साल 40 से ज्यादा युवा यूपीएससी में चयनित होते हैं।

सीएम मनोहर लाल ने पिता की बात को आगे रखा

मेरे पिता पूर्व केंद्रीय मंत्री विनोद शर्मा ने व्यवस्था के खिलाफ एक लड़ाई की शुरुआत की थी। नौकरियों में इंटरव्यू प्रणाली खत्म करने को लेकर और मेरिट के आधार पर नौकरी। आज मुझे खुशी है कि प्रदेश की मनोहर लाल की सरकार ने पिछले 8 साल में पूर्व केंद्रीय मंत्री विनोद शर्मा की बात को आगे रखा और आज दोनों ही चीजों को करने का काम किया।

अम्बाला की नींव रखने में कॉलेज का अहम योगदान

राज्यसभा सांसद ने मीडिया से भी बातचीत की और कहा कि यह हमारे लिए गर्व और सम्मान की बात है कि डीएवी कॉलेज ऐतिहासिक जगह है। अम्बाला की नींव रखने में उक्त कॉलेज का अहम योगदान है। अम्बाला का डीएवी कॉलेज लाहौर कि यादों को आज बहु बरकरार रखे हुए है।

संस्थान अम्बाला के लोगों के लिए मंदिर की तरह

अम्बाला के लोगों के लिए यह संस्थान मंदिर की तरह है। यहां से अम्बाला के बच्चे हमारे साथी पढ़कर गए हैं। इस कॉलेज के लिए जो कुछ भी बन पड़ेगा, हम हमेशा करते रहेंगे। प्रदेश के युवाओं को संदेश देते हुए सांसद कार्तिकेय शर्मा ने कहा कि कभी सीखना न छोड़ें, हमारी शिक्षा प्रणाली हमें सीखना सिखाती है। शिक्षा खत्म होने के बाद भी सीखने की लालसा कम नहीं होनी चाहिए, हमेशा सीखते रहें।

Also Read:  दिल्ली की झुग्गी-बस्ती वालों को पीएम मोदी का तोहफा, सौंपी पक्के घरों की चाबी

Connect With Us : Twitter, Facebook

Latest news
Related news