नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने शुरू किया एयरलाइन्स का विशेष ऑडिट

इंडिया न्यूज़ (दिल्ली):यात्री विमानों में खराबी की बढ़ती संख्या को ध्यान में रखते हुए नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने निर्धारित उड़ान ऑपरेटरों का एक विशेष ऑडिट शुरू किया है ताकि यह पता लगाया जा सके कि एयरलाइंस इस संबंध में निर्धारित मानकों का पालन कर रही हैं या नहीं.

19 जुलाई को शुरू हुआ,विशेष ऑडिट पर्याप्त और उपयुक्त रूप से योग्य और अनुभवी जनशक्ति की उपलब्धता पर ध्यान केंद्रित करेगा,जिसमें प्रशिक्षण और ड्यूटी समय सीमा,हैंगर्स,स्टोर,स्पेयर,उपभोग्य सामग्रियों,विशेष उपकरण और उपकरण जैसी सुविधाएं शामिल हैं.

ऑडिट का फोकस,बेड़े में सभी प्रकार के विमानों के रखरखाव डेटा,गुणवत्ता आश्वासन प्रणाली (आंतरिक ऑडिट और गुणवत्ता मूल्यांकन के लिए),पुर्जों की कमी के कारण ग्राउंडेड एयरक्राफ्ट,मल्टीपल मिनिमम इक्विपमेंट लिस्ट (एमईएल) और रखरखाव नियंत्रण केंद्र होंगे.

ट्रांजिट के दौरान टर्न-अराउंड समय की पर्याप्तता,स्पॉट चेक और पीआईबी सिफारिशों (इंजीनियरिंग से संबंधित) के कार्यान्वयन के माध्यम से विशेष ऑडिट के फोकस क्षेत्र में भी शामिल है.

डीजीसीए के 18 जुलाई के आदेश के अनुसार,ऑडिट टीमों का नेतृत्व एक अधिकारी द्वारा किया जाना है जो कि उप निदेशक (उड़ान) योग्यता के पद से नीचे नहीं है और इसमें उड़ान योग्यता निदेशालय (मुख्यालय/क्षेत्र) के दो अन्य अधिकारी शामिल होंगे,टीम लीडर ऑडिट पूरा होने के अगले दिन डीजीसीए मुख्यालय को ऑडिट की रिपोर्ट उपलब्ध कराएगा.

डीजीसीए की टीमों ने हाल ही में विभिन्न अनुसूचित एयरलाइनों की उड़ानों की स्पॉट जांच की,उन्होंने पाया कि उड़ान के लिए एक विमान के “रिलीज” के लिए प्रमाणन के लिए योग्य कर्मियों को एयरलाइंस द्वारा तैनात नहीं किया जा रहा था,प्रत्येक प्रस्थान से पहले एक विमान को रखरखाव इंजीनियर द्वारा जांचा और प्रमाणित किया जाता है,डीजीसीए ने कहा कि मौके की जांच में पाया गया कि एयरलाइंस के विमान रखरखाव इंजीनियरों की टीम “रिपोर्ट की गई खराबी के कारण” की गलत पहचान कर रही थी.

Latest news
Related news