बिना ऑपरेशन किडनी स्टोन से पाएं निजात, जानिए कैसे?

इंडिया न्यूज, Health Tips in Hindi: आज के समय में लोगों में किडनी स्टोन यानी पथरी एक गंभीर समस्या है। पथरी का दर्द असहनीय होता है। शरीर में पथरी किडनी या गॉल ब्लैडर दोनों में किसी भी जगह पर बन सकती है। आमतौर पर किडनी में बनने वाली पथरी दवाइयों की मदद से यूरिन के जरिए बाहर निकल जाती है, लेकिन गॉल ब्लैडर यानी पित्त की थैली में बनने वाली पथरी ऑपरेशन से बाहर निकालती है। लेकिन आपको पता है बिना ऑपरेशन के भी पथरी का इलाज किया जा सकता है। तो चलिए जानते हैं कुछ घरेलू उपायों के बारे में जो इस परेशानी से बाहर निकाल सकते हैं।

किडनी स्टोन क्या है?

  • हमारी किडनी रक्त को साफ करने के दौरान उसमें मौजूद सभी अपशिष्ट उत्पादों और गैर जरूरी पोषक तत्वों को अलग उन्हें पेशाब के जरिये शरीर से बाहर निकाल देती हैं। लेकिन रक्त में अपशिष्ट उत्पादों की मात्रा और पोषक तत्वों की मात्रा अधिक होने पर या किडनी के ठीक से काम न करने की वजह से यह अपशिष्ट उत्पाद किडनी में ही जमा होने लगते हैं जिसकी वजह किडनी में पथरी की समस्या हो जाती है।
  • किडनी में बनने वाली पथरी खनिज और एसिड लवण से बनती है। आमतौर पर किडनी में बनी पथरी पेशाब के जरिये शरीर से बहार निकल जाती है, लेकिन काफी जब यह पेशाब के जरिये शरीर से बाहर नहीं निकल पाती तो पथरी रोगी को ऑपरेशन का सहारा भी लेना पड़ता है।

किडनी स्टोन कितने प्रकार की होती है?

What are the types of kidney stones?

हां, किडनी स्टोन कई प्रकार का होता है। किडनी स्टोन के चार प्रकार होते हैं जिस बारे में बहुत ही कम लोगो को जानकारी है। किडनी स्टोन के सभी चार प्रकार निम्न वर्णित किये गये हैं।

  • सिस्टीन स्टोन: सिस्टीन स्टोन महिलाओं और पुरुषों दोनों में हो सकता है। यह किडनी स्टोन एक वंशानुगत रोग है जो कि सिस्टीन के किडनी से मूत्र में रिसाव की वजह से होता है। बाकी किडनी स्टोन के मुकाबले यह किडनी स्टोन काफी दुर्लभ होता है। बता दें कि सिस्टीन एक गैर-जरूरी अमीनो एसिड है जो कि प्रोटीन बनाने और अन्य चयापचय कार्यों के लिए महत्वपूर्ण होता है। यह बीटा-केराटिन में पाया जाता है। यह नाखून, त्वचा और बालों में मिलने वाला एक मुख्य प्रोटीन है। सिस्टीन कोलेजन बनाने के लिए महत्वपूर्ण होता है।
  • कैल्शियम स्टोन: कैल्शियम स्टोन, किडनी स्टोन का सबसे साधारण प्रकार है। यह किडनी स्टोन कैल्शियम, आक्सलेट या फॉस्फोरस जैसे कैमिकल के मेल से बनता है। जो व्यक्ति कम पानी पीते हैं या आक्सलेट और फॉस्फोरस वाला आहार ज्यादा लेते हैं उन्हें इसकी समस्या अधिक होती है, 80 प्रतिशत लोग इसी किडनी स्टोन के शिकार होते हैं।
  • यूरिक एसिड स्टोन: यूरिक एसिड किडनी स्टोन महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक पाया जाता है। यह किडनी स्टोन तब होता है जब पेशाब में यूरिक एसिड की मात्रा अधिक हो जाए। प्युरिन युक्त आहार लेने की वजह से यूरिक एसिड स्टोन की समस्या सबसे अधिक होती है। प्यूरिन एक बेरंग पदार्थ होता है जो कि पशु प्रोटीन में सबसे ज्यादा पाया जाता है। तो जो व्यक्ति अधिक मात्रा में मांसाहार लेते हैं उन्हें यूरिक एसिड स्टोन होने की आशंका अधिक बनी रहती है।
  • स्ट्रुवाइट स्टोन: स्ट्रुवाइट स्टोन पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में सबसे अधिक पाया है। जो महिलाएं मूत्र पथ संक्रमण से जूझ रहीं होती है उन महिलाओं को यह किडनी स्टोन होने की आशंका सबसे ज्यादा होती है। इस किडनी स्टोन होने का मतलब होता है कि अब मूत्र पथ संक्रमण काफी आगे बढ़ चुका है और इसकी वजह से किडनी संक्रमित हो चुकी है। इस किडनी स्टोन की वजह से पेशाब से जुड़ी समस्याएं बढ़ने लगती है। इस स्ट्रुवाइट किडनी स्टोन से छुटकारा पाने के लिए सबसे पहले संभावित संक्रमण से छुटकारा पाना होता है।

ये भी पढ़ें : इन कारणों से बढ़ता है शरीर में यूरिक एसिड, जानिए लक्षण और बचाव के उपाय

किडनी स्टोन के लक्षण?

पसलियों के नीचे और पीठ में असहनीय दर्द महसूस होना। ऐसा असहनीय पेट दर्द जो कि जांघ तक महसूस हो। ऐसा पेट या पीठ दर्द जो कि कभी धीमा हो और अचानक से तेज होने लगे। पेशाब का रंग बदलना। पेशाब में खून आना। पेशाब से काफी बदबू आना। सामान्य से पेशाब कम या ज्यादा आना।

पेशाब की इच्छा महसूस होने पर भी पेशाब न आना। झागदार पेशाब आना। पेशाब की यह समस्या प्रोटीन लोस को दशार्ती है। भूख न लगना। रक्तचाप उच्च होना। कमजोरी महसूस करना। मतली या उल्टियां आना। लगातार पेट खराब रहना। घबराहट होकर पसीना आना। ठंड के साथ तेज बुखार होना।

किडनी स्टोन से पाना है छुटकारा तो इन चीजों का करें सेवन?

If you want to get rid of kidney stone, then consume these things?

  • मूली: स्टोन के मरीजों के लिए मूली खाना काफी कारगर साबित होता है। इसके लिए मूली को पानी में उबालकर पीने से पथरी निकल जाती है। पित्ताशय की पथरी में भी मूली बहुत फायदेमंद होती है।
  • गाजर: पथरी के मरीजों के लिए गाजर खाना बहुत फायदेमंद होता है। गाजर में एंटीआॅक्सीडेंट गुण होते हैं, जो फ्री रेडिकल्स से बचाते हैं। रोजाना गाजर का जूस पिएं। पथरी के मरीजों को गाजर का जूस पीने से फायदा होता है।
  • कलौंजी: अगर आप किडनी स्टोन की समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो कलौंजी का इस्तेमाल करें। इसका सेवन आपके लिए फायदेमंद रहेगा। पथरी की समस्या को दूर करने के लिए कलौंजी एक बेहतरीन औषधि है। रोजाना सुबह एक चम्मच इसका सेवन करने से किडनी में पथरी बनने से रोकता है।
  • नारियल पानी: नारियल पानी पीने से इंसुलिन बढ़ता है। मूत्र की मात्रा बढ़ाता है और गुर्दा समारोह में सुधार करता है। पथरी में नारियल पानी का सेवन काफी फायदेमंद साबित होता है। यह किडनी स्टोन की समस्या को दूर करता है।
  • धनिया: धनिया न सिर्फ आपके खाने का स्वाद बढ़ाता है बल्कि पथरी के इलाज में भी इसका इस्तेमाल काफी कारगर होता है। धनिया में डिटॉक्सीफिकेशन गुण होते हैं जो आपके शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में काफी कारगर होते हैं। किडनी की समस्या और पथरी से पीड़ित लोगों के लिए धनिया के बीज और हरा धनिया दोनों ही बहुत फायदेमंद होते हैं।
  • केला: अगर आप पथरी की समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो केले का सेवन शुरू कर दें। केले में विटामिन बी भरपूर मात्रा में मौजूद होता है। यह शरीर में स्टोन को बनने से रोकता है और बने स्टोन को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ने में मदद करता है। अगर किडनी के मरीज रोजाना 100 या 150 ग्राम विटामिन बी का सेवन करते हैं तो उन्हें किडनी स्टोन कभी नहीं होता है।
  • सेब: अगर आप पथरी की समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं तो सेब आपके लिए एक बेहतर विकल्प है। रोजाना सेब खाने से भी पथरी के दर्द में आराम मिलता है। अगर आप रोजाना एक गिलास सेब का जूस पीना शुरू कर दें तो इससे पथरी नहीं बनती है।
  • जौ का पानी: पथरी की समस्या में जौ बहुत फायदेमंद होता है। जौ के पानी में पाए जाने वाले पोषक तत्व पथरी को दूर करने में काफी कारगर होते हैं। जिन लोगों को किडनी की समस्या है उन्हें इसका रोजाना सेवन करना चाहिए। इसके लिए जौ को पानी में भिगोकर रख दें। इस पानी को पीने से पथरी निकल जाती है।

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

Latest news
Related news