जमीन पर सोने से ये बीमारियां होती हैं दूर, जानिए कैसे ?

इंडिया न्यूज (Benefits of Sleeping on Floor)
आज के समय में ज्यादातर घरों में बेड होता है। जिसमें लोग गद्दे लगाकर सोते हैं। लेकिन कुछ आरामदायक नहीं होते हैं, जिससे पीठ, कमर, गर्दन में दर्द की समस्या हो जाती है। वहीं कई छोटे शहरों, गांवों में ज्यादातर लोग फर्श पर चटाई बिछाकर सोते हैं। यदि आपको बेड पर सोने में समस्या होती है, तो कुछ दिन जमीन या फर्श पर सोकर देखें। तो चलिए जानते हैं फर्श पर सोने के क्या हैं फायदे।

नींद की कमी होगी दूर

कई बार सोने के लिए यूज किया जाने वाला गद्दा नींद न आने जैसी परेशानी की वजह बनता है। सोने के लिए ठीक सतह के न मिलने से कई लोगों को रात में नींद नहीं आती। ऐसे में फर्श पर सोना सही होता है। शुरूआत में थोड़ी परेशानी जरूर होगी, लेकिन एक बार जब बॉडी को इसकी आदत हो जाएगी तो जमीन पर सोना अच्छा लगेगा।

शरीर को मिलती है ठंडक

फर्श का तापमान ठंडा रहने की वजह से गर्मियों के मौसम में जमीन पर सोने से बॉडी में ठंडक बनी रहने के साथ ब्लड सकुर्लेशन बेहतर होता है जो दिल और दिमाग की सेहत के लिए बेहतर है। जिन लोगों के सोने में ज्यादा गर्मी महसूस होती है, उनके लिए फर्श पर सोना आरामदेह है।

ये भी पढ़ें: जिंदगी में खुद को शांत रखना है, तो ये तरीके अपनाएं

तनाव से मिलती राहत

जमीन पर सोने से तनाव दूर होता है और मिड ब्रेन हेल्थ भी ठीक रहती है। ऐसा करने से व्यक्ति का बॉडी पोस्टर भी बेहतर होता है।

पीठ दर्द में राहत

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर एंड स्ट्रोक की मानें तो पीठ दर्द से पीड़ित लोगों को सख्त बेड पर सोने की सलाह दी जाती है। ऐसे में जमीन पर सोने से पीठ दर्द में राहत मिलती है।

बॉडी पॉश्चर में सुधार

बॉडी पॉश्चर ठीक नहीं होने पर पीठ दर्द की समस्या के साथ रीढ़ की हड्डी की तकलीफ बढ़ जाती है। लेकिन फर्श पर सोने से रीढ़ को सीधा रखना आसान होता है।

ये भी पढ़ें: फिट रहने का आसान उपाय है साइकिलिंग, जानिए कैसे ?

ये लोग जमीन पर सोने से बचें?

  • बुजुर्गों को जमीन पर सोने से बचना चाहिए। जिन लोगों को कोई हेल्थ कंडीशन हो, जैसे चलने-फिरने में समस्या, हड्डियों में दर्द, कमर और पीठ दर्द, एलर्जी आदि में फर्श पर नहीं सोना चाहिए। अर्थराइटिस, आॅस्टियोपोरोसिस में नीचे सोना तकलीफ को बढ़ा सकता है। अगर उठने-बैठने में परेशानी होती है, तो जमीन पर भूलकर भी न सोएं।
  • जमीन पर सोने की इच्छा हो, तो सबसे पहले फर्श को अच्छी तरह से साफ कर लें। इससे गंदगी, बैक्टीरिया हट जाएंगे। आप जिस भी चटाई, मैट्रेस, बिस्तर को जमीन पर बिछाकर सोते हैं, उसे बीच-बीच में साफ करते रहें।
  • प्रेग्नेंसी में जमीन पर सोने में कोई पाबंदी नहीं है, लेकिन कुछ परिस्थितियों में यह नुकसानदेह हो सकता है। प्रेग्नेंसी के चलते रीढ़ की हड्डी थोड़ी कर्व हो सकती है, जिससे जमीन पर सोने से पीठ दर्द हो सकता है। साथ ही पेट का आकार बढ़ने से जमीन पर लेटना, उठना-बैठना मुश्किल हो जाता है। बेहतर यही होगा कि प्रेग्नेंट महिला डॉक्टर की सलाह पर जमीन पर सोये।

ये भी पढ़ें: जानिए सेहत के लिए कितना फादयेमंद है चिया सीड्स

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !
Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

 

Latest news
Related news