Navratri Fasting Tips: अगर आपने भी रखा है नौ दिन का व्रत, तो उपवास खोलने के बाद न करें इन चीजों का सेवन

Navratri Fasting Tips: नवरात्रि का पर्व कल खत्म हो रहा है। नवरात्रि के नौ दिनों में मां भगवती के नौ स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है। इस दौरान व्रत रखने वाले लोग नौ दिन तक सिर्फ फलाहार पर ही रहते हैं। नवमी के दिन इस व्रत को कन्या पूजन और हवन आदि के बाद खोला जाता है। बता दें कि इस दौरान जिन लोगों ने व्रत रखा है वह नवरात्रि के आखिरी दिन महानवमी को इस उपवास को खोलेंगे। लेकिन व्रत खोलने के बाद लोग अचानक से अनाज खाते हैं या फिर ऐसी कई खाद्य सामग्रियों का सेवन करते हैं, जो कि शरीर के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। तो आइए आज जानते हैं उपवास खोलने के तुरंत बाद किन चीजों का सेवन करें और किन चीजों का सेवन करने से बचें।

न करें तेल वाली चीजों का सेवन

नौ दिनों के इस व्रत में कई लोग दिन में केवल एक ही बार खाते हैं। इसलिए जब इनका व्रत खुलता है तो इन्हें कुछ भी अच्छा खाने का मन करने लगता है। अधिकतर लोग चटपटा और मसालेदार खाना पंसद करते हैं। लेकिन इस तरह का खाना आपका शरीर व्रत के तुरंत बाद ठीक से पचा नहीं पाता है। ऐसे में पेट में दर्द तथा गैस की समस्या हो सकती है। इसीलिए व्रत खोलने के बाद तेल वाली चीजों का सेवन न करें।

न खाएं खट्टे फल और हैवी फूड

व्रत खोलने के बाद किसी भी तरह के खट्टे फल का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से आपको एसिडिटी की समस्या हो सकती है। उपवास खोलने के बाद शरीर में शुगर लेवल की काफी कमी होने के आसार रहते हैं। तो ऐसे में कई बार घबराहट महसूस होने लगती है। इसलिए उपवास खोलने के तुरंत बाद हैवी खाने से बचें। वहीं, व्रत खोलने के बाद ज्यादा खाना भी शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

कॉफी और चाय का न करें सेवन

व्रत खोलने के तुरंत बाद कॉफी और चाय को बिल्कुल भी न पिएं। इतने दिन भूखा रहने के बाद आप उपवास खोलकर अगर तुरंत चाय या कॉफी पीते हैं, तो इससे आपको एसिडिटी की समस्या उत्पन्न हो सकती है।

व्रत खोलने के बाद करें इन चीजों का सेवन

उपवास खोलने के बाद शरीर को हाइड्रेट रखने के लिए सबसे पहले एक गिलास पानी, दही, जूस, शिकंजी या दही और नारियल पानी पी सकते हैं। शरीर में जल की मात्रा को संतुलित बनाए रखें। ऐसे आपके शरीर में एनर्जी बनी रहती है। व्रत खोलने के बाद भरपूर मात्रा में प्रोटीन युक्त आहार का सेवन करें।

Also Read: Maha Navami 2022: अष्टमी-नवमी के दिन करें मां भगवती का हवन, जानें साम्रगी

Latest news
Related news