वेट लॉस से लेकर डायबिटीज तक कंट्रोल करेंगी पुदीने की चाय, जानें बनाने का तरीका और इसके फायदे

(इंडिया न्यूज़, Mint tea will control everything from weight loss to diabetes): पुदीना का सबसे ज्यादा इस्तेमाल गर्मियों होता है क्योंकि ये काफी ठंडा होता है। खाने में खुशबू से लेकर चटनी में पुदीना का भरपूर इस्तेमाल होता है। इसके साथ ही चाय की चुस्की लेने के लिए पुदीना का इस्तेमाल होता है। पुदीने में एंटी-माइक्रोबाल, एंटीवायरल, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीट्यूमर और एंटी एलर्जिक जैसी कई प्रॉपर्टीज होती है।

आप ने पुदीना को कई तरह से इस्तेमाल किया होगा लेकिन क्या आप ने मोटापे से लेकर डायबिटिज तक को पुदीना कंट्रोल करने में मदद करती है। आइए जानते हैं आखिर कैसे बनाई जाती है पेपरमिंट टी और क्या है इसे पीने से मिलने वाले फायदे।

कैसे बनाएं पेपरमिंट की चाय

पेपरमिंट की चाय बनाने के लिए सबसे पहले एक बर्तन में 2 कप पानी डालकर अच्छी तरह से उबाल लें। पानी में उबाल आने पर गैस की फ्लेम हल्की करके पानी में लगभग चार या पांच पुदीने की पत्तियां डालकर बर्तन को ढककर चाय को अच्छी तरह से उबलने दें। 5 मिनट बाद इसे कप में छानकर इसका सेवन करें। स्वाद की लिए आप इसमें शहद और नींबू भी मिला सकते हैं।

वेट लॉस कंट्रोल होगा

पुदीने की चाय का नियमित सेवन करने से वेट लॉस में मदद मिलती है। ये चाय शरीर से टॉक्सिक निकालकर बजन कम करने में मदद करता है। इसके सेवन मात्र से ही व्यक्ति का पेट भरा हुआ रहता है उसे भूख नहीं लगती। इससे वेट कंट्रोल में रहता है।

माउथ फ्रेशनेस के लिए

पेपरमिंट टी पीने से सांसों को तरोताज़ा रखा जा सकता है इससे मुँह में बदबू नहीं आएगी। अगर आपको मुँह में बदबू आने की समस्या लगे तो आप पुदीने की पत्तियों से बनी चाय पी सकते है।

डायबिटीज करें कंट्रोल

पेपरमिंट टी डायबिटीज कंट्रोल करने का भी प्रभावी तरीका हो सकती है। इसमें मौजूद सेनोलिन यौगिक और एंटीऑक्सीडेंट गुण टाइप 2 मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। यह एंटीऑक्सीडेंट स्तर को बनाए रखने और टाइप 2 मधुमेह के कारण होने वाले रोगों को रोकने में भी मदद करते हैं।

पंचन की समस्या को करे दूर

पेपरमिंट टी गैस, सूजन और अपच जैसे पाचन संबंधी परेशानियों को दूर करने में मदद करती हैं। इसकी चाय का नियमित रूप से सेवन पाचन को दुरुस्त करने के साथ पेट की कई समस्याओं से भी राहत दिलाता है। इसकी चाय आपके पाचन तंत्र को आराम देती है और पेट दर्द को कम करती है। ये मांसपेशियों के संकुचन को भी रोकती है और पेट दर्द को दूर करने में मदद करती है।

Latest news
Related news