देखिए कैसे किसानों ने कैसे किया सचिवालय का घेराव

हाइलाइट्स (Karnal Kisan Mahapanchayat)
सुरक्षा को लेकर पुलिस पूरी तरह से अलर्ट, धारा-144 लगाई गई
करनाल समेत 5 जिलों में आज रात 12 बजे तक इंटरनेट बंद
गुरुनाम सिंह चढ़ूनी बोले- मिनी सेक्रेटेरिएट का घेराव करेंगे

Karnal mini secretariat gherao live updates:

करनाल जिला सचिवालय का घेराव करते हुए किसानों ने पक्का मोर्चा जमा लिया है। वहीं खाना, पानी और कपड़े मंगवाए हैं। लंबे संघर्ष की तैयारी है। राकेश टिकैत का कहना है कि न्याय मिलने तक संघर्ष जारी रहेगा।

Kisan Mahapanchayat live updates:

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा- हमने गेट पर कब्जा कर लिया है। अब हम आराम करना चाहते हैं, बातचीत के लिए टाइम नहीं है। वह बाद में भी हो सकती है। बता दें कि किसान प्रदर्शनकारियों ने करनाल में मिनी सचिवालय के आसपास घेराव किया है।

Karnal mini secretariat gherao live updates:

किसान नेता योगेंद्र यादव ने कहा कि हमारा संकल्प था कि मिनी सचिवालय का घेराव करेंगे। हमने तमाम मुश्किलों के बाद घेराव कर लिया और अब हमारी पहली प्राथमिकता है कि हम घेराव को सफल करें और उसके बाद हम निर्णय लेंगे कि कितनी देर बैठना है।

करनाल।
हरियाणा सरकार ने करनाल मिनी सचिवालय के घेराव के मुद्दे पर बातचीत और चर्चा के लिए किसानों की 11 सदस्यीय समिति को आमंत्रित किया है। विभिन्न किसान संगठनों के साथ-साथ अनुसूचित किसान महापंचायत द्वारा आज किए गए करनाल लघु सचिवालय के घेराव के आह्वान को देखते हुए हरियाणा, विशेषकर करनाल में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। स्थिति से निपटने के लिए करनाल जिले के विभिन्न स्थानों पर 10 अर्धसैनिक बलों सहित अतिरिक्त बल की 40 कंपनियां तैनात की गई हैं। हरियाणा सरकार ने कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए करनाल जिले में सोमवार को दोपहर 12.30 बजे से मंगलवार (7 सितंबर) की रात 11.59 बजे तक मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया है। हरियाणा के चार और जिलों कुरुक्षेत्र, कैथल, जींद और पानीपत में एसएमएस सहित इंटरनेट सेवाएं बंद रहेंगी। सभी नवीनतम अपडेट के लिए indianews.in के साथ बने रहें।

अनाज मंडी के मंच से किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल के जिला सचिवालय घेराव के ऐलान के बाद किसानों ने कूच किया। राजेवाल ने मंच से ऐलान किया था कि किसान पहले मार्च निकालेंगे और फिर जिला सचिवालय का घेराव करेंगे। सभी किसान नेताओं ने अनाज मंडी में मंच पर जाने से पहले एक दुकान में मीटिंग की और घेराव का फैसला लिया। मीटिंग के बाद किसान नेता महापंचायत के मंच पर पहुंचे।

दो दौर की वार्ता के बाद भी बाहर आ गए थे सारे किसान नेता

इससे पहले दो दौर की वार्ता के बाद चढूनी-टिकैत समेत 11 सदस्य उठकर कुछ देर के लिए बाहर आए थे। बाहर आकर किसान नेताओं ने कहा था कि – जो हम मांग रहे वह प्रशासन नहीं दे रहा और जो प्रशासन दे रहा वह हम नहीं ले रहे। पहली वार्ता के बाद भी एक ब्रेक भी लिया गया था। दूसरे दौर की वार्ता के बाद भी जब बात नहीं बनी तो सभी किसान नेता उठकर बाहर आ गए। हालांकि कुछ ही देर बाद प्रशासन ने किसान नेताओं को तीसरे दौर की वार्ता के लिए भीतर बुला लिया। अब तीसरे दौर की वार्ता भी विफल हो गई है।

टिकैत का ट्वीट- लघु सचिवालय पहुंचे

वहीं किसान नेता टिकैत ने ट्वीट किया कि वह किसान साथियों के साथ लघु सचिवालय करनाल में पहुंच चुके हैं। पुलिस ने हिरासत में जरूर लिया था। किसान साथियों के साथ सचिवालय पर उपस्थित हूं। लड़ाई जारी रहेगी।

Latest news
Related news