India News हरियाणा के मंच पर बोलीं Renu Bhatia, महिलाओं को अंदर से मजबूत होने की है जरूरत

RENU BHATIA : पानीपत के समालखा में बुधवार इंडिया न्यूज पर ‘हम महिलाएं’ कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें कई महिलाएं मंच पर पहुंचीं। इस दौरान इंडिया न्यूज हरियाणा के मंच पर हरियाणा महिला आयोग की अध्यक्ष रेणु भाटिया भी मंच पर पहुंची। उन्होंने महिलाओं के बारे में कई अहम मुद्दों पर चर्चा की।

प्रश्न : आप चेयरपर्सन हैं, तो आपको क्या लगता है कि हरियाणा में महिलाएं कितनी सशक्त हैं?

उत्तर : आप पिछले कुछ सालों से बदलाव देख रहे हैं। मेरा मानना है कि हर महिला अपने आप में हमेशा से सशक्त थी लेकिन अपने आपको जागरूक नहीं करती थी। जिस दिन हर महिला अपने आप को अंदर से जागृत कर देगी, उसे कहीं भी कोई विघ्न नहीं आएगा। आयोग की बात करें तो मैं महिलाओं में सेल्फ कॉन्फिडेंस की कमी पाती हूं। आप कितनी पढ़ी लिखी है, या कितने पैसों वाली हैं या कितनी गरीब है, ये मान्य नहीं करता।

लेकिन आप कितनी कॉन्फिडेंट है, अपने आप में, ये ज्यादा मान्य रखता है। हमारे पास कुछ केस ऐसे आते हैं जिसमें महिला इतनी पढ़ी लिखी होती कि उतनी मैं भी पढ़ी लिखी नहीं। लेकिन उसमें कॉन्फिडेंट की कमी होती है। ये कॉन्फिडेंट कैसे आएगा, इस पर जरूर सोचे। आपके अंदर काफी सारी शक्तियां मौजूद हैं। मैं जब 10वीं कक्षा में पढ़ती थी तब मेरे ताया जी ने मेरा विवाह किया क्योंकि वे बहुत बुजुर्ग थे।

उस समय मैं नाबालिग थी। उन्होंने सोचा कि मैं चला गया तो पता नहीं मेरे बच्चे इसकी शादी करेंगे या नहीं। शादी हुई और जल्द ही 2 बेटियां व एक बेटा भी हो गया। मैं बाद में कभी कभी दादा जी को कहती थी कि मैं आप पर केस करूंगी, आपने मेरा बाल विवाह करवाया है। यहां बात है शिक्षा की।

उस समय कहां इतनी शिक्षा हुआ करती थी। लेकिन मेरी सास ने मुझे शिक्षा के लिए जागरूक किया। मेरी सास ने 12वीं करवाई और मेरठ यूनिवर्सिटी से गे्रजुएशन करवाया। यही यहीं, इसके बाद, मुझे मास्टर करने के लिए मेरी सास ने लंदन भेजा। ऐसी सास को मैं बार बार नमन करती हूं। शिक्षा के साथ आपके अंदर का कॉन्फिडेंट आता है।

प्रश्न : रेनू जी, हर किसी के जीवन में कुछ समय ऐसा आता है जब आगे रास्ता ही नहीं दिखता, उस समय में खुद को कैसे मोटिवेट करते हैं?

उत्तर : देखिए, मैं प्रेक्टिकल बताती हूं। मुझे मेरी ताई जी ने पाला है। लेकिन वे बार बार कहती थी कि मैं सुंदर नहीं हूं, पता नहीं मेरी शादी होगी या नहीं। इससे मेरा कॉन्फिडेंस गिरता रहा। चाची डराती थी कि जो बच्चा फेल हुआ, उससे बर्तन साफ करवाउंगी। डर के कारण मैं इतना पढ़ी कि मैं फर्स्ट आ गई। इससे मुझमें हिम्मत आई।

एक दिन मेरी मुलाकात किसी मॉडल से हुई, उन्होंने कहा कि कितनी सुंदर हो एक्टिंग क्यों नहीं करती हो। कुछ समय बाद उस मॉडल तबोसम जी ने मुझे दिल्ली बुलाया और कहा कि आप जींस पहनकर आना। तब तबोसम जी ने अपने फोटोग्राफर को कहा कि इस लड़की का मेकअप करवाओ और इसकी 8-10 फोटो खींचो।

इसके बाद एक महीना दिल्ली से एक और कॉल आता है और कहते हैं कि आपको फोटोजेनिक फेस आॅफ द इयर का अवार्ड मिला है। मुझे पूरे एक साल का कई मैगजीन के कवर पेज का कॉन्ट्रैक मिला। तब मैं बार बार अपनी चाची को याद करती थी, जो कहती थी कि आप सुंदर नहीं है। यहां मैं आपको बैरियर्स के बारे में बता रही हूं। आपको गर्व होना चाहिए कि आप लड़की हो, एक वूमेन हो।

Latest news
Related news