Kartik Maas Ka Mahatva जाने कब से शुरु हो रहा है कार्तिक मास

Kartik Maas Ka Mahatva कार्तिक महीना एक पारंपरिक हिंदू कैलेंडर में 8वां महीना है जिसका उत्तर भारत में पालन किया जाता है। कार्तिक माह 2021 21 अक्टूबर से शुरू होकर 19 नवंबर को समाप्त होगा। करवा चौथ और दिवाली इस महीने में मनाए जाने वाले सबसे महत्वपूर्ण त्योहार हैं।

इस कैलेंडर का मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान, हरियाणा, बिहार और छत्तीसगढ़ और अन्य उत्तर भारतीय राज्यों में पालन किया जाता है। इन क्षेत्रों में एक महीने की गणना पूर्णिमा या पूर्णिमा के अगले दिन से अगली पूर्णिमा तक की जाती है। हिंदी कैलेंडर में चालू वर्ष शक 2078 है।

कार्तिक मास में क्या करें (Kartik Maas Ka Mahatva)

*लोग सुबह जल्दी घर पर स्नान करते हैं या पवित्र नदियों में पवित्र स्नान करते हैं। फिर वे भगवान विष्णु के पवित्र नामों का जाप करते हैं या दामोदरस्तकम का जाप करते हैं।
*लोग सुबह विष्णु और सूर्य को अर्घ्य या पूजा करते हैं।
*इस महीने में विष्णु के पवित्र ग्रंथों का पाठ करना मेधावी होता है।
*कुछ लोग महीने में केवल शाकाहारी खाना ही खाते हैं। कुछ लोग पूरे महीने में केवल एक बार भोजन करने का विकल्प चुनते हैं।
* इस महीने में दान करना शुभ माना जाता है। केले और आंवले का दान करने से सफलता और मान-सम्मान की प्राप्ति होती है।
* इस महीने में लोग उड़द की दाल, मसूर, करेला (करेला), बैंगन (बैंगन) और हरी सब्जियों से परहेज करते हैं, कुछ हिंदू समुदाय इससे परहेज करते हैं।

कार्तिक मास में जरूर करें तुलसी पूजन (Kartik Maas Ka Mahatva)

सनातन परंपरा में तुलसी के पौधे को बहुत पवित्र माना गया है। जिसकी पूजा वैसे तो हम सभी पूरे साल करते हैं, लेकिन कार्तिक मास में इसकी आराधना का विशेष महत्व है।

आयुर्वेद में तुलसी को रोगहर कहा गया है और दूसरी ओर यह तुलसी यमदूतों के भय से मुक्ति प्रदान करती है। कार्तिक मास में एक मास तक तुलसी के सामने दीपदान करने पर अत्यधिक पुण्य की प्राप्ति होती है।

कार्तिक मास में दीपदान का है बहुत महत्व (Kartik Maas Ka Mahatva)

कार्तिक मासह में दीप दान का बहुत महत्व होता है। इस पूरे मास में प्रतिदिन किसी पवित्र नदी या तीर्थ स्थल या मंदिर या फिर घर में रखी हुई तुलसी के पास दीपदान का बहुत महत्व है।

दीपदान शरद पूर्णिमा से प्रारंभ होकर कार्तिक पूर्णिमा प्रतिदिन किया जाता है। मान्यता है कि दीपदान से सिर्फ घर का ही नहीं जीवन का अंधेरा भी दूर होता है और माता लक्ष्मी प्रसन्न होकर साधक के घर को धन-धान्य से भर देती हैं।

कार्तिक माह में इन चीजों का करें दान

प्रत्येक मास की तरह कार्तिक मास में कुछ चीजों के दान का विशेष महत्व है। इस पूरे मास में ब्राह्मण या फिर किसी जरूरतमंद को दान देने का बहुत पुण्य फल मिलता है। कार्तिक मास में तुलसी दान, अन्न दान, गाय दान एवम आंवले के पौधे के दान का विशेष महत्व है।

कार्तिक रोहिणी नक्षत्र

कार्तिक माह में रोहिणी नक्षत्र के दिन भगवान कृष्ण की विशेष पूजा और पूजा की जाती है। पूजा अच्छे स्वास्थ्य और लंबी उम्र के लिए की जाती है।
चतुर्थी व्रत या संकष्टी गणेश चतुर्थी कार्तिक माह 2021 में 24 अक्टूबर को
चतुर्थी व्रत या संकष्टी गणेश चतुर्थी कार्तिक माह 2021 में 24 अक्टूबर को है। उत्तर भारतीय कैलेंडर के अनुसार चंद्रोदय या चंद्रोदय का समय शाम 7:51 बजे है। इस विशेष चतुर्थी को करवा चौथ के रूप में भी मनाया जाता है।

कार्तिक मास 2021 कृष्ण और शुक्ल पक्ष

कार्तिक मास कृष्ण पक्ष 19 अक्टूबर से 4 नवंबर, 2021 तक है
कार्तिक मास शुक्ल पक्ष 5 नवंबर से 19 नवंबर, 2021 तक है।

उत्तर भारत में कार्तिक मास की एकादशी का व्रत

रमा एकादशी – 1 नवंबर
प्रबोधिनी एकादशी – 15 नवंबर

उत्तर भारत में कार्तिक मास प्रदोष व्रत

प्रदोष – 2 नवंबर
प्रदोष – 16 नवंबर

उत्तर भारत में हिंदी पंचांग में कार्तिक अमावस्या

4 नवंबर को अमावस्या है।
अमावस्या 4 नवंबर को सुबह 5:30 बजे शुरू होती है और 5 नवंबर को 1:19 बजे समाप्त होती है।
दिवाली और लक्ष्मी पूजा 4 नवंबर को होती है।

हिंदी कैलेंडर में कार्तिक पूर्णिमा

पूर्णिमा 19 नवंबर 2021 को है।
पूर्णिमा 18 नवंबर को सुबह 11:33 बजे शुरू होती है और 19 नवंबर को दोपहर 1:18 बजे समाप्त होती है। त्रिपुरारी पूर्णिमा 18 नवंबर को मनाई जाती है।
पूर्णिमा व्रत 18 नवंबर को है।

उत्तर भारत में कार्तिक माह 2021 में त्यौहार और शुभ दिन

करवा चौथ – 24 अक्टूबर
अहोई अष्टमी – 28 अक्टूबर
राधा अष्टमी – 29 अक्टूबर
गोवत्स द्वादशी – 1 नवंबर
धनतेरस – 2 नवंबर
धन्वंतरि जयंती – 2 नवंबर
यम दीप दान – 2 नवंबर
काली चौदस – 3 नवंबर

(Kartik Mas 2021 )

दिवाली – 4 नवंबर
लक्ष्मी पूजा – 4 नवंबर
गोवर्धन पूजा – 5 नवंबर
भाई दूज – 6 नवंबर
पांडव पंचमी – 9 नवंबर
छठ पूजा – 8 नवंबर से 11 नवंबर
गोपाष्टमी – 12 नवंबर
आंवला नवमी – 13 नवंबर
अक्षय नवमी – 13 नवंबर
कुष्मांडा नवमी – 13 नवंबर
वैकुंठ चतुर्दशी – 17 नवंबर
तुलसी विवाह – 15 नवंबर से 19 नवंबर
त्रिपुरारी पूर्णिमा – 18 नवंबर
देव दिवाली – 19 नवंबर
कार्तिक, जिसे कार्तिक के नाम से भी जाना जाता है, गुजराती कैलेंडर में पहला महीना है और गुजराती नव वर्ष महीने के पहले दिन मनाया जाता है। यह 5 नवंबर 2021 को है।

उत्तर भारतीय हिंदू कैलेंडर में अगला महीना मार्गशीर्ष महीना है।

(Kartik Mas 2021)

Read Also : Protein For Brain इस प्रोटीन की मदद से अब दिमाग से बुरी यादें मिटाना होगा आसान

Connect With Us : Twitter Facebook

Latest news
Related news