दिल्ली सरकार लगाएगी आक्सीजन उत्पादन संयंत्र

16 सिंतबर तक मांगे आवेदन
इंडिया न्यूज, नई दिल्ली:
कोरोना संक्रमण की पहली तथा दूसरी लहर से बुरी तरह प्रभावित हुई राष्टÑीय राजधानी की सरकार इस बार किसी तरह की कौताही बरतने के मूढ़ में दिखाई नहीं दे रही। संभावित तीसरी लहर की आशंका के मध्यनजर दिल्ली सरकार ने इस बार कई ठोस कदम उठाने का निर्णय लिया है। जहां अस्पतालों में आईसीयू बेड की संख्या बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है वहीं इस बार आक्सीजन की किसी तरह से कमी न रहे इसपर भी सरकार का फोकस है। इसी के चलते सरकार ने आॅक्सीजन उत्पादन संयंत्र लगाने और क्रायोजेनिक टैंकर खरीदने के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 16 सितंबर है। इस नीति का उद्देश्य भविष्य में किसी भी आपात स्थिति से प्रभावशाली तरीके से निपटना है। ज्ञात हो कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान राष्टÑीय राजधानी में आक्सीजन को लेकर त्राहिमाम मचा था। जिसके बाद सरकार ने आक्सीजन का उत्पादन बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास किए हैं। जानकारी देते हुए एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि सरकार का लक्ष्य 50 मीट्रिक टन प्रति यूनिट की न्यूनतम क्षमता वाले तरल आक्सीजन उत्पादन संयंत्र स्थापित करना है। इसके तहत न्यूनतम 10 एमटी और अधिकतम 50 एमटी क्षमता के नन-कैप्टिव आक्सीजन उत्पादन संयंत्र (पीएसए / एयर सेपरेशन यूनिट प्रौद्योगिकी) की स्थापना होगी, जब तक कि कुल 100 मीट्रिक टन क्षमता का निर्माण पूरा नहीं हो जाता।

Latest news
Related news