Ankita Bhandari Murder: परिजनों ने अंतिम संस्कार करने किया इंकार, दोबारा पोस्टमार्टम कराने की कही बात

Ankita Bhandari Murder: ऋषिकेश में रिसेप्सनिस्ट अंकिता भंडारी की हत्या मामले में लोगों का आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है। शनिवार सुबह ऋषिकेश की चिल्ला नहर से मिले अंकिता के शव को ऋषिकेश के एम्स पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया था। जिसके बाद आज रविवार को अंकिता के पैतृक घाट अलकनंदा नदी के तट पर उसका अंतिम संस्कार होना था। लेकिन मृतक के परिजनों ने अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है। सरकार की कार्यप्रणाली पर अंकिता के परिजनों ने सवाल उठाए हैं। परिजनों के मुताबिक प्राइमरी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में फेरबदल की जा सकती है।

परिजनों ने की दोबारा पोस्टमार्टम की मांग

मामले में मृतक अंकिता भंडारी के भाई का कहना है कि दोबारा पोस्टमार्टम करवाया जाए। जब पोस्टमार्टम की फाइनल रिपोर्ट आ जाएगी, तभी अंकिता का अंतिम संस्कार किया जाएगा। वहीं मामले में अंकिता के पिता का ने कहा है कि रिजॉर्ट में अंकिता का कमरा जल्दबाजी में प्रशासन ने तोड़ दिया। वहां पर कई सबूत मिल सकते थे। अब जब पोस्टमार्टम की फाइनल रिपोर्ट आएगी तभी उनकी बेटी का अंतिम संस्कार होगा। वहीं दूसरी ओर प्रशासन की टीम परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए मनाने में लगी है।

एसडीएम ने दी मामले में जानकारी

प्रशासन ने लोगों का आक्रोश देखते हुए अंतिम संस्कार के दौरान कोई चूक ने हो इसीलिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं। मामले में एसडीएम श्रीनगर अजयवीर सिंह ने जानकारी देते हुए कहा है कि अंकिता के अंतिम संस्कार को लेकर प्रशासन ने पूरी तैयारी कर ली थी। लेकिन परिजनों ने सूर्यास्त के बाद शव पहुंचने के कारण अंत्येष्टि करने से इंकार करते हुए, रविवार को अंतिम संस्कार करने की बात कही थी। जिसके बाद मेडिकल कॉलेज के शवगृह में शव को रखवा दिया गया था।

रिजोर्ट की वीडियोग्राफी कर जुटाए गए सबूत

इसके अलावा अपर पुलिस अधीक्षक पौड़ी शेखर चंद्र सुयाल ने बताया है कि सोशल मीडिया में चल रही हत्याकांड से जुड़े साक्ष्यों को मिटाए जाने की खबर गलत है। पुलिस ने अंकिता के मर्डर से जुड़े सभी साक्ष्य सुरक्षित रखे हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि रिजॉर्ट में साक्ष्यों को मिटाए जाने की खबर भी गलत है टीम ने 22 सिंतबर को ही रिजॉर्ट की वीडियोग्राफी करवा ली थी।

पुलिस के पास मामले में पर्याप्त सबूत

रिजोर्ट में अंकिता के कमरे और पूरे रिजॉर्ट से इलेक्ट्रॉनिक और वैज्ञानिक साक्ष्य जुटाकर फॉरेंसिक टीम ने 23 सितंबर की सुबह ही सुरक्षित रख लिए थे। पुलिस के पास मामले से जुड़े पर्याप्त सबूत हैं। जिसके चलते अपराधियों को सजा मिलेगी। बता दें कि अंकिता भंडारी हत्याकांड की जांच अब एसआईटी कर रही है।

Also Read: Ankita Murder: चिल्ला नहर से 5 दिन बाद मिला अंकिता का शव, पूर्व राज्यमंत्री का बेटा मुख्य आरोपी, SIT करेगी जांच

Latest news
Related news