5 दिन, 1768 रन, 37 विकेट और पाकिस्तान की शर्मनाक हार,अंग्रेजों ने किया पकिस्तान के साथ क्रूरता

इंडिया न्यूज़ (दिल्ली) : ज्ञात हो, नवंबर में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच वनडे सीरीज खेली गई थी। T20 वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम और क्रिकेट में उसके सबसे बड़े दुश्मन कहे जाने वाले ऑस्ट्रेलिया के बीच वनडे था। उम्मीद थी कि स्टेडियम खचाखच भरा हुआ होगा, लेकिन हैरानी तब हुई जब MCG पर मैच देखने के लिए सिर्फ 10,406 दर्शक ही पहुंचे, जो 1979 (12,077) के बाद सबसे कम थे। दिग्गज कहने लगे थे कि वनडे क्रिकेट अंत की ओर है। कुछ ही दिन बाद इंग्लैंड पाकिस्तान पहुंचा और बोरिंग कहे जाने वाले टेस्ट के पहले ही दिन पाटा पिच पर गेंदबाजों की धज्जियां उड़ाते हुए सिर्फ 75 ओवरें में वर्ल्ड रिकॉर्ड 506 रन ठोक डाले। इंग्लिश बल्लेबाजों की बेरहम बैटिंग से पूरी दुनिया हैरान थी। जानकारी दें, इससे पहले किसी भी टेस्ट मैच के पहले दिन इतने रन नहीं बने थे।

पाकिस्तान कभी नहीं भूलेगा ये हार

जानकारी दें, बेन स्टोक्स की टीम ने पाकिस्तानी गेंदबाजों के साथ खिलवाड़ नहीं किया था, बल्कि उन्हें बल्ले तले रौंदा था। भावनाओं को कुचला था। लेकिन यह तो बस शुरुआत थी। टेस्ट में रोमांच की पराकाष्ठा अभी बाकी थी। 5 दिन में बहुत कुछ देखने को मिला। जो रूट की पाकिस्तानी सूरमा गेंदबाजों को चिढ़ाती बाएं हाथ से बैटिंग दिखी तो T20 के धाकड़ बल्लेबाज हैरी ब्रूक्स को टेस्ट में तूफान लाते देखा गया। बाबर सेना का ताकतवर पलटवार दिखा तो आखिरी दिन बेन स्टोक्स ने करिश्माई कप्तानी ने जीत की मुहर लगाते हुए टेस्ट को अमर कर दिया।

टीम पहली पारी दूसरी पारी
इंग्लैंड 657 264/7
पाकिस्तान 579 268

पाकिस्तान की गेंदबाजी हुई एक्सपोज़

आपको बता दें, मैच के 5 दिन में 1768 रन बने, जबकि 37 विकेट गिरे। इस दौरान 7 बल्लेबाजों ने शतक जड़े। यह हार पाकिस्तान को इसलिए भी बड़ा दर्द दे गई, क्योंकि उसने 800 से अधिक रन बनाने के बावजूद मैच गंवाया है। यह अपने आप में शर्मनाक रिकॉर्ड है। इंग्लैंड की इस अमर गाथा के कई किरदार रहे। शुरुआत पहली गेंद से हुई थी। उसके दोनों ओपनरों जैक क्राउली (111 गेंदों में 122 रन) और बेन डकेट (110 गेंदों में 107 रन) ने अपनी बेखौफ बैटिंग से पाकिस्तान की गेंदबाजी और बाबर आजम की कप्तानी को एक्सपोज कर दिया। युवा सनसनी नसीम शाह और तोप गेंदबाज हारिस रऊफ इंग्लिश बल्लेबाजों के आगे हवा हो गए।

पहले दिन इंग्लैंड ने पाकिस्तानी गेंदबाजों को पानी पिलाकर कर मारा

रिजल्ट ये रहा कि क्राउली और डकेट की शुरुआत को ओली पोप (104 गेंदों में 108 रन) और हैरी ब्रूक्स (116 गेंदों में 153 रन) ने आगे बढ़ाया और पहले ही दिन 506 रन बने। हालांकि, अगले दिन पाकिस्तानी बॉलर्स ने जरूर वापसी की, लेकिन इंग्लैंड ने पहली पारी में वनडे अंदाज में 101 ओवरों में सभी विकेट खोकर 657 रन ठोके। पूरी दुनिया तमाशा देख रही थी। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष रमीज राजा खराब पिच के सवाल पर बिफरते दिखे, लेकिन वह इस बात का जवाब नहीं दे सके कि उनके पास टेस्ट लायक पिच क्यों नहीं थी।

बाबर की सेना ने भी खूब किया पलटवार

जवाब में पाकिस्तान ने भी पलटवार किया। इंग्लिश टीम के धाकड़ गेंदबाज भी रावलपिंडी के मैदान पर बेअसर दिख रहे थे। शफीक (203 गेंदों में 114 रन) और पाकिस्तान के पूर्व कप्तान इंजमाम उल हक के भतीजे इमाम उल हक (207 गेंदों में 121 रन) ने साहस दिखाया और पहले विकेट के लिए 225 रन जोड़े। इसके बाद बाबर आजम ने 168 गेंदों में 136 रनों की पारी खेली। इस तरह से पाकिस्तान ने पहली पारी में 155.3 ओवरों में सभी विकेट खोकर 579 रन बनाए। यहां तक पाकिस्तान के हौसले बुलंद थे कि उसने जवाब दिया है।

इंग्लैंड ने दिखाया क्रूर रूप

आपको बता दें, इस टेस्ट मैच में कहानी ने तब अलग मोड़ ले ली, जबकि दूसरी पारी में भी इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने वही क्रूर रूप अपनाया। उसने 35.5 ओवरों में 7 विकेट पर 264 रन बनाए। जैक क्राउली (50), जो रूट (73) और हैरी ब्रूक्स (87) ने एक बार फिर पाकिस्तानी गेंदबाजों को तहस-नहस करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। खासकर जो रूट ने मैदान पर जिस तरह से पाकिस्तानी गेंदबाजों का मजाक बनाया वह इतिहास याद रखेगा। दाएं हाथ के बल्लेबाज रूट बाएं हाथ से बल्लेबाजी करते हुए बताने की कोशिश की कि तुम्हारे गेंदबाजों का तो मैं बाएं हाथ से भी खेल सकता हूं।

स्टोक्स ने खेला बड़ा दांव

खैर, इंग्लैंड ने जब पाकिस्तान को 343 रनों का लक्ष्य दिया तो यह थोड़ा रिस्की लगा, क्योंकि पाकिस्तान ने पहली पारी में 550 से अधिक रन बनाए थे। उसके पास समय भी खूब था, लेकिन बेन स्टोक्स को अपने गेंदबाजों पर भरोसा था। मैच के आखिरी दिन का खेल शुरू हुआ तो पाकिस्तान के पास 8 विकेट थे। अजहर अली और इमाम उल हक ने खूंटा गाड़ रखा था, लेकिन जब जेम्स एंडरसन और रॉबिनसन ने विकेट झटकते हुए इंग्लैंड को सफलता दिलाई तो लगा पाकिस्तानी आसानी से घुटने टेक देगा, लेकिन ऐसा हुआ नहीं।

पाकिस्तान भी लड़कर घुटने टेका

आपको बता दें, पाकिस्तान के लिए साद शकील (76 रन, 159 गेंद), मोहम्मद रिजवान (92 गेंद, 46 रन), आगा सलमान (64 गेंद, 30 रन) आखिरी दम तक लड़ते रहे। जब तक ये मैदान पर थे तो पाकिस्तान जीतते दिख रहा था, लेकिन बेन स्टोक्स की कप्तान की दाद देनी होगी। उन्होंने आक्रमण फील्डिंग और गेंदबाजी में बदलाव लाते हुए पाकिस्तान को हार के लिए मजबूर करने में कामयाबी हासिल की। इंग्लैंड के लिए ओली रोबिनसन और जेम्स एंडरसन ने 4-4 विकेट झटके तो बेन स्टोक्स और जैक लीच ने एक-एक विकेट लेते हुए ऐतिहासिक जीत में अहम भूमिका निभाई। रनों की बौछार के बीच बाबर को यह 74 रनों की हार सालों साल सताती रहेगी।

Latest news
Related news