शादी का प्रस्ताव, अस्वीकृति और मर्डर, सिप्पी सिद्धू केस किसी दुखद फिल्म से कम नहीं था

इंडिया न्‍यूज। तरुणी गांधी Chandigarh News: हाईकोर्ट के जज की बेटी को एक हैंडसम हंक, नेशनल शूटर और नवोदित वकील सुखमनप्रीत सिंह सिद्धू से प्यार हो जाता है। जिसे चंडीगढ़ में सिप्पी सिद्धू के नाम से जाना जाता है। उच्च न्यायालय के न्यायाधीश के पोते सिप्पी के भी कथित हत्यारे कल्याणी से संबंध हैं।

कल्याणी ने सिप्पी को शादी के लिए प्रपोज किया। जिसे सिप्पी और उसके परिवार ने यह कहते हुए खारिज कर दिया कि लड़की के कुछ अन्य लोगों के साथ भी संबंध थे। सिप्पी ने कल्याणी की कुछ तस्वीरें लीक करने का आरोप लगाया और कल्याणी के माता-पिता को तस्वीरें भेजीं। जिस पर कल्याणी और उसके परिवार को बड़ी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा। यह सब 20 सितंबर 2015 को सिप्पी सिद्धू की हत्या के रूप में सामने आया।

कल्याणी सिंह कौन है?

बता दें कि कल्याणी पोस्ट ग्रेजुएट गवर्नमेंट कॉलेज फॉर गर्ल्स, सेक्टर-42, चंडीगढ़ के गृह विज्ञान विभाग में सहायक प्रोफेसर हैं। कल्याणी सिंह की मां जस्टिस सबीना भी पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में जज रह चुकी हैं। अब वह मुख्य न्यायाधीश के पद पर तैनात हिमाचल उच्च न्यायालय में कार्य कर रही हैं।

जिसके बाद इस मामले में पावर, प्रेशर, प्रेस ने कई भूमिकाएं निभाईं। सिप्पी का मामला वर्ष 2016 में सीबीआई को स्थानांतरित कर दिया गया था। केंद्रीय एजेंसी ने 13 अप्रैल, 2016 को चंडीगढ़ प्रशासन के अनुरोध पर प्राथमिकी दर्ज की। जब सिप्पी की मां ने चंडीगढ़ प्रशासन से इस मामले को सीबीआई को आगे बढ़ाने के लिए कहा।

केस सीबीआई को स्थानांतरित करना चाहते थे : जिप्पी सिद्धू

द संडे गार्डियन सिप्पी के भाई जसमनप्रीत सिंह उर्फ जिप्पी सिद्धू से बात करते हुए कहा, “हम मामले को सीबीआई को स्थानांतरित करना चाहते थे। क्योंकि एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने ‘दबाव में’ होने का हवाला देते हुए संदिग्ध को गिरफ्तार करने में असमर्थता व्यक्त की थी। मेरे भाई की हत्या के मामले की जांच शुरूआती दौर में टाल दी गई थी।

दिसंबर 2020 में सीबीआई द्वारा दायर रद्दीकरण रिपोर्ट में इसका उल्लेख किया गया था। सीबीआई ने कुछ पुलिस अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की सिफारिश की थी। परिवार ने इस मामले में न्याय की गुहार लगाने के लिए तत्कालीन केंद्रीय कानून मंत्री और गृह मंत्री से भी मुलाकात की थी।

महिला की पहचान पोनी टेल से हुई

मेहंदी कलाकार की पहचान करने के बावजूद, जिसका फोन कल्याणी सिंह ने सेक्टर 27 पार्क में सिप्पी सिद्धू को फोन करने के लिए इस्तेमाल किया था और एक महिला निवासी जिसका घर पार्क के पास स्थित था, ने दावा किया था कि महिला की पहचान एक पोनी टेल से हुई थी जो सिप्पी सिद्धू के साथ उसकी हत्या में शामिल थी। सिप्पी के घर से सिप्पी सिद्धू का लैपटॉप भी मिला है, जिसमें आरोपी कल्याणी सिंह की कुछ आपत्तिजनक तस्वीरें हैं। उपरोक्त सभी के बावजूद, पुलिस “उच्च वर्ग के दबाव” के कारण कल्याणी को पकड़ने के लिए सटीक सबूत नहीं ढूंढ पाई।

1991 बैच के एजीएमयूटी कैडर के आईपीएस अधिकारी आर पी उपाध्याय तत्कालीन पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी), चंडीगढ़ थे। 2003 बैच के पंजाब कैडर के आईपीएस अधिकारी सुखचैन सिंह गिल उस समय चंडीगढ़ के एसएसपी थे।

10 लाख तक रखा था इनाम

हालांकि, सीबीआई और सुराग जुटाना चाहती थी, जिसके बाद, लगभग सात महीने बाद, सितंबर 2016 में, सीबीआई के अधिकारियों ने कोई सुराग देने वाले को 5 लाख रुपये का इनाम देने की घोषणा की, जो मामले को सुलझाने में मदद कर सके।

दिसंबर 2021 में सीबीआई ने इनाम को बढ़ाकर ₹10 लाख कर दिया। अंत में, अपने निष्कर्षों के आधार पर, एजेंसी ने सिंह को पूछताछ के लिए बुलाया और उसे गिरफ्तार कर लिया क्योंकि वह अपने जवाबों में कथित रूप से टालमटोल कर रही थी। सीबीआई ने अब उसे 10 दिन की रिमांड पर मांगा है लेकिन कोर्ट ने उसे चार दिन का समय दिया है।

सीबीआई ने विज्ञापन देकर संपर्क करने को कहा था

2017 में, सीबीआई ने अखबारों में एक विज्ञापन निकाला था जिसमें कहा गया था कि यह मानने का एक कारण है कि हत्या के समय सिप्पी के हत्यारे के साथ एक महिला थी। उक्त महिला को भी आगे आकर निर्दोष होने पर हमसे संपर्क करने का मौका दिया जा रहा है।

अन्यथा, यह मान लिया जाएगा कि वह अपराध की पक्षकार थी। दिसंबर 2020 में, सीबीआई ने अदालत में एक अनसुलझी रिपोर्ट दायर की थी और उल्लेख किया था कि जांच को खोलने और जारी रखने की अनुमति दी जा सकती है क्योंकि इससे सिप्पी सिद्धू को खत्म करने के लिए एक महिला की भूमिका के लिए मजबूत संदेह पैदा हुआ है।

सिप्‍पी की मां ने लगाए आरोप

सिप्पी सिद्धू हत्याकांड में हाईकोर्ट के जज की बेटी कल्याणी को गिरफ्तार कर लिया गया है। सिद्धू के परिवार वालों ने कल्याणी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। टीएसजी से बात करते हुए सिद्धू के भाई जिप्पी और मां दीपेंद्र कौर ने कहा कि वे इस मामले में भारत के मुख्य न्यायाधीश से मुलाकात करेंगे। उन्होंने कहा कि सिप्पू हत्याकांड में हम पहले दिन से ही कल्याणी का नाम ले रहे हैं। उसने आरोप लगाया कि कल्याणी और उसका परिवार सिप्पी से नाराज था क्योंकि उसने उससे शादी करने से इनकार कर दिया था।

सिप्पी के भाई जिप्पी ने कहा कि इस हत्या में कल्याणी ही नहीं उसका परिवार भी शामिल है। परिवार ने कहा कि कल्याणी के अन्य लोगों के साथ संबंध थे। सिप्पी ने कल्याणी के पिता को कुछ तस्वीरें भेजी थीं। तब से कल्याणी लगातार सिप्पी के पीछे पड़ी थी। 18 सितंबर से हत्या के दिन तक यानी 20 सितंबर 2015 तक कल्याणी सिप्पी से मिलती रही।

सिप्पी की मां ने कहा कि 20 सितंबर को जब सिप्पी घर से सेक्टर 27 गया तो उसने मुझे बताया कि वह कल्याणी से मिलने जा रहा है। हत्या के बाद कल्याणी पार्क छोड़कर चली गई। सिप्पी की मां ने आरोप लगाया कि सिप्पी की हत्या के बाद कल्याणी ने एक पार्टी की और केक काटा।

ये भी पढ़े : सोने चांदी की कीमतों में आया उछाल, जानिए आप पर कितना असर पड़ेगा

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

ये भी पढ़े : फिर से बढ़ सकते हैं पेट्रोल ओर डीजल के भाव, ये रही बड़ी वजह

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

Latest news
Related news