एलआईसी शेयर में आया 5 प्रतिशत का उछाल, जानिए क्या हैं इसके संकेत

इंडिया न्यूज, नई दिल्ली:
देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी एलआईसी के शेयरों में आज 5 प्रतिशत की तेजी देखी गई है। इंट्रा डे में एलआईसी के शेयर ने आज 709.70 रुपए का उच्चतम स्तर टच किया है। जबकि बीते दिन यह 674.30 पर बंद हुआ था। एलआईसी के शेयरों आए इस एकाएक उछाल के बाद निवेशकों में फिर से आशा की किरण जागी है।

पिछले एक महीने में एलआईसी का शेयर 25 प्रतिशत से ज्यादा टूटा चुका है। वहीं आज 15 जून को ही इसमें एंकर निवेशकों का लॉक इन पीरियड भी खत्म हो रहा है। इसके मद्देनजर निवेशकों में पहले से भय था जिस कारण एलआईसी के शेयरों में भारी बिकवाली चल रही थी।

बाजार विशेषज्ञों की माने तो एलआईसी के शेयर में लम्बी अवधि के नजरिए से अच्छा मुनाफा हो सकता है। शेयर में काफी गिरावट आ चुकी है। इस कारण अब नीचे की ओर सपोर्ट आ रहा है। आज इसमें रीट्रेसमेंट लेवल से रिकवरी है। लंबी अवधि में निवेशकों को अच्छा रिटर्न मिल सकता है। इसलिए हर गिरावट पर कुछ शेयर जोड़ सकते हैं।

25 प्रतिशत से ज्यादा टूटा चुका एलआईसी का शेयर

बता दें कि बीमा कंपनी एलआईसी देश के इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा 21000 करोड़ का आईपीओ लेकर आई थी। यह आईपीओ काफी सुर्खियों में भी रहा था। काफी सारे निवेशकों को इसका इंतजार था। लेकिन एलआईसी आईपीओ बाजार के काफी उतार चढ़ाव वाले दिनों में दबकर रह गया।

LIC

17 मई को एलआईसी के शेयर अपने प्राइस बैंड 949 के मुकाबले 8 प्रतिशत डिस्काउंट पर लिस्ट हुए थे। 17 मई के बाद से इस शेयर में लगातार गिरावट जारी है। एलआईसी के शेयर ने इसी हफ्ते सोमवार को 663 रुपये का रिकॉर्ड लो टच किया था। वहीं आज यह शेयर 709 रुपए लगाकर दोबार नीचे 691 रुपए पर आ गया है। यानि कि अभी भी एलआईसी का शेयर लगभग 25 प्रतिशत से ज्यादा डिस्काउंट पर है।

निवेशकों को 1.53 लाख करोड़ का नुक्सान

कढड के समय कंपनी का वैल्युएशन 6 लाख करोड़ आंका गया था लेकिन अब इसकी मार्केट कैविटल घटकर 4.47 लाख करोड़ पर आ गई है। यानी कि निवेशकों को लगभग 1.53 लाख करोड़ का नुक्सान हो चुका है।

ये भी पढ़ें : क्रिप्टो बाजार धड़ाम, बिटकाइन समेत इन क्रिप्टोकरंसी में आई गिरावट

ये भी पढ़े : फेड के फैसलों से पहले निवेशक सतर्क, सेंसेक्स में मामूली गिरावट

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे !

ये भी पढ़े : फिर से बढ़ सकते हैं पेट्रोल ओर डीजल के भाव, ये रही बड़ी वजह

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

Latest news
Related news