स्ट्रगल के दिनों को याद कर भावुक हुईं मृणाल ठाकुर, मॉल के बाथरूम में बदले कपड़े, लोकल में किया सफर

Mrunal Thakur became emotional Remembering the Struggle days, changed clothes in Bathroom Of Mall, Travelled In Local

Mrunal Thakur: बॉलीवुड एक्ट्रेस मृणाल ठाकुर इन दिनों अपनी फिल्म ‘सीतारामम्’ की वजह से सुर्खियों में छाई हुई हैं। इस फिल्म के बाद बॉलीवुड में मृणाल ने एक बड़ी कामयाबी हासिल कर ली है। ‘बाटला हाउस’, ‘जर्सी’ और ‘सुपर 30’ जैसी फिल्मों से मृणाल ठाकुर ने बॉलीवुड में अरपनी पहचान बनाई है। मृणाल ठाकुर ने 10 साल के लंबे स्ट्रगल के बाद इस मुकाम को हासिल किया है। अपने स्ट्रगल के दिनों को याद कर एक्ट्रेस भावुक हो गई हैं।

आपको बता दें कि साउथ फिल्म ‘सीतारामम’ को लेकर इन दिनों खूब चर्चा की जा रही है। हिंदी भाषा में भी दर्शक इस फिल्म को काफी पसंद कर रहे हैं। मुंबई में फिल्म की सफलता को लेकर शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस हुई। इस दौरान अपने स्ट्रगल के दिनों को याद कर मृणाल ठाकुर भावुक हो गईं। एक्ट्रेस ने कहा कि “आज जिस मॉल में मैं खड़ी हूं। यहां पर संघर्ष के दौरान मैंने काफी वक्त बिताया है। लेकिन, संघर्ष कर रहे युवाओं से मेरा बस यही कहना है कि हिम्मत नहीं हारनी है। हर विफलता आने वाली सफलता की तरफ बढ़ा एक और कदम है।”

इनफिनिटी मॉल में घंटो बिताया वक्त

मुंबई अंधेरी स्थित इनफिनिटी मॉल के पीवीआर थियेटर में फिल्म की सफलता को लेकर प्रेस कांफ्रेंस की गई। इस दौरान मृणाल ठाकुर ने भावुक होते हुए कहा कि “इनफिनिटी मॉल ऐसी जगह है जहां पर मैं आकर घंटो-घंटो बैठती थी। उन दिनों मैं टाउन में रहती थी। अंधेरी आने के लिए टाउन से वडाला लोकल ट्रेन से आती और वहां से ट्रेन बदलकर अंधेरी और फिर अंधेरी स्टेशन से बस पकड़ कर इंफिनिटी मॉल आती थी। ‘उन दिनों अंधेरी में मेरा कोई दोस्त नहीं था जिसके घर जाकर मैं टाइम पास कर सकूं। सारे ऑडिशन अंधेरी में ही होते थे।”

सफलता के लिए धैर्य ही आपका सबसे बड़ा साथी

एक्ट्रेस ने बताया कि “मैं इनफिनिटी मॉल पहुंचकर इसके बाथरूम में ड्रेस चेंज करती थी, उसके बाद ऑडिशन के लिए जाती थी। कभी-कभी दो ऑडिशन के बीच काफी लंबे समय का अंतराल होता था, तब इनफिनिटी मॉल में ही आकर टाइम पास करती थी। अगर दो-तीन घंटे का समय होता था तो यहीं कोई ना कोई फिल्म देख लेती थी। मेरा यही कहना है कि धैर्य ही आपका सबसे बड़ा साथी है और यही आपके काम भी आता है।”

सफलताअसफलता दोनों को समान रूप से करें ग्रहण

उन्होंने कहा कि “धीरज के साथ लगातार मेहनत ही मुझे यहां लेकर आई है। हड़बड़ी से जीवन में कुछ भी हासिल नहीं होता। मुझे इंडस्ट्री में आए दस साल हो गए लेकिन सिनेमा में अभी कुछ अरसा पहले ही मैंने कदम रखा है। मैं बस धीरे धीरे सीढ़ियां चढ़ती गई और आज यहां तक पहुंच गई।” फिल्म की सफलता और असफलता को लेकर मृणाल ठाकुर ने कहा कि “एक बात मुझे ‘सुपर 30’ की शूटिंग के दौरान ऋतिक रोशन ने बताई थी कि सफलता मिले या असफलता, दोनों को समान रूप से ग्रहण करना चाहिए। दोनों मामलों में हमारी प्रतिक्रिया एक समान होनी चाहिए। सुख का भोग नहीं करेंगे तो दुख का भोग भी नहीं करना होगा। मैं भी अब इसी भाव को अपने मन में रखने लगी हूं।”

Also Read: आयुष्मान खुराना की ‘ड्रीम गर्ल’ की रिलीज डेट आई सामने, इस दिन आ रही है पूजा

Latest news
Related news