कर्तव्य पथ के उद्घाटन में शामिल हुईं कंगना रनौत, कहा- “मैं नेतावादी हूं, न कि गांधीवादी”

Kangana Ranaut Termed Herself Netawadi Not Gandhiwadi, Said Struggles Of Netaji Bose and Veer Savarkar Were Denied

Kangana Ranaut: बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत अपनी फिल्मों के अलावा अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में छाई रहती हैं। कंगना ने हाल ही में खुद को ‘नेतावादी’ यानि की नेताजी सुभाष चंद्र बोस की अनुयायी बताया है। दिल्ली में संशोधित राजपथ-कर्तव्य पथ के उद्घाटन में गुरुवार को कंगना रनौत शामिल हुई थीं। इस दौरान उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस और वीर सावरकर के संघर्षों को पूरी तरह से नकारा है। उन्होंने कहा कि देश ने सिर्फ ‘भूख हड़ताल और दांडी मार्च’ करके आजादी हासिल नहीं की थी।

मैं नेतावादी हूं, गांधीवादी नहीं- कंगना

कंगना रनौत ने कहा कि “मैंने हमेशा कहा है कि मैं नेतावादी हूं, गांधीवादी नहीं। हर किसी का अपना सोचने का एक तरीका होता है और मेरा मानना यह है कि नेताजी और कई अन्य क्रांतिकारियों जैसे वीर सावरकर जी के संघर्ष को पूरी तरह से नकार दिया गया। सिर्फ उस पक्ष को ही दिखाया गया था कि भूख हड़ताल और दांडी मार्च करके हमने आजादी हासिल की है। ऐसा नहीं है।”

सत्ता के भूखे नहीं थे नेताजी

कंगना ने कहा कि “लाखों लोगों ने बलिदान दिया। नेताजी ने विश्व युद्ध 2 में भाग लेकर भारत की विकट स्थिति को सामने लाने के लिए दुनियाभर में अभियान चलाया था। उन्होंने एक सेना भी बनाई और इस प्रकार से अंग्रेजों पर दबाव बनाने में सक्रिय भागीदारी निभाई। वह सत्ता के भूखे नहीं थे। वह आजादी के भूखे थे और उन्होंने देश को आजाद करवाया।”

कर्तव्य पथ पर चलेंगी कई पीढ़ियां

इसके साथ ही एक्ट्रेस ने कर्तव्य पथ के नाम को लेकर पूछे गए सवाल पर कहा कि “यह जो रास्ता है कर्तव्य पथ, इस पर आने वाली कई पीढ़ियां चलेंगी। अगर आप इसका राजपथ नाम रखेंगे तो यह वैसा रास्ता होगा। ये कर्तव्य पथ है, ये मार्गदर्शन है।”

Also Read: बॉलीवुड बायकॉट ट्रेंड पर पंकज त्रिपाठी ने रखी अपनी राय, कहा- आत्म-मूल्यांकन की है जरूरत

Latest news
Related news