गवर्नर कोश्‍यारी को उद्धव ठाकरे ने बताया, महाराष्ट्र में Amazon से भेजा गया ‘पार्शल’ केंद्र सरकार ले वापस

इंडिया न्यूज़ (दिल्ली) : महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी का छत्रपति शिवाजी महाराज के बारे में दिये गए बयान पर सियासी घमासान लगातार जारी है। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे ने गुरुवार को कहा कि केंद्र सरकार उनको वापस ले जाए।

उद्धव ठाकरे ने गवर्नर कोशियारी के संदर्भ में कहा, “मैं केंद्र सरकार से अनुरोध करता हूं कि वह अमेज़न पार्सल वापस ले जो उन्होंने राज्यपाल के रूप में भेजा है।” उन्होंने उन्हें वृद्ध आश्रम भेजने की सलाह भी दी। कहा, “हम केंद्र से आग्रह करते हैं कि वह एक राज्यपाल के रूप में भेजे गए नमूने को वापस बुलाए और उसे अन्य स्थानों पर या वृद्धाश्रम भेज दे। हम सभी महाराष्ट्र प्रेमियों से उनके बयान का विरोध करने के लिए कहते हैं। अगर वे शामिल होना चाहते हैं तो भाजपा सदस्यों का भी स्वागत करें।” उद्धव ने कहा, “छत्रपति शिवाजी महाराज का अपमान किया जा रहा है और सरकार खामोश बैठी है। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि सीएम कौन है। लेकिन जो शख्स दिल्ली के सहारे सत्ता में है, वो उनके खिलाफ क्या कहेगा।”

शरद पवार ने भी दिया उद्धव का साथ

दूसरी तरफ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने भी छत्रपति शिवाजी महाराज पर हालिया बयान को लेकर महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की आलोचना की और कहा कि उन्होंने ”सारी हदें पार कर दी हैं।” पूर्व केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि ‘‘मुझे लगता है कि राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को फैसला लेना चाहिए। ऐसे लोगों को महत्वपूर्ण पद नहीं दिए जाने चाहिए।’’

राज्यपाल के इस बयान पर मचा है घमासान

आपको बता दें, दरअसल गवर्नर के इस बयान के बाद घमासान मचा है जिसमें राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने पिछले हफ्ते औरंगाबाद में एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि “छत्रपति शिवाजी महाराज ‘पुराने दिनों’ के आदर्श थे। इस युग के आदर्श नितिन गडकरी हैं।” उनका यह बयान महाराष्ट्र में किसी को रास नहीं आया। भाजपा के साथ सत्ता में बैठी शिवसेना शिंदे गुट के विधायक संजय गायकवाड़ ने भी इसका विरोध किया। उन्होंने मांग की कि छत्रपति शिवाजी महाराज को लेकर की गयी टिप्पणी के मामले में महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को राज्य से बाहर कर दिया जाए।

Latest news
Related news