सावधान! Ransomware Attack कर हैकर्स कर रहे है पैसों की मांग

इंडिया न्यूज़, नई दिल्ली :

Ransomware Attack : इंटरनेट की दुनिया काफी विशाल है कुछ लोग इंटरनेट का इस्तेमाल अच्छे कामो के लिए करते है तो वहीं कुछ लोग इंटरनेट पर स्कैम कर मासूम लोगों को अपने जाल में फ़साने की फ़िराक में रहते है। हाल ही में सामने आई एक रिपोर्ट के अनुसार हैकर्स सीनियर सिटीजन और मिडिल एज्ड लोगों को टारगेट कर रहे हैं। हैकर्स Ransomware अटैक के जरिए इन लोगों को निशाना बना रहे हैं और फिर उनसे पैसों की मांग कर रहे है।

Ransomware ऐसे करता है इनफेक्ट (Ransomware Attack)

Ransomware यूजर के डिवाइस को इनफेक्ट करके उसका कंट्रोल ले लेता है और उसे लॉक कर देता है। डिवाइस को अनलॉक करने के लिए हैकर्स पैसे की मांग करते हैं। हैकर्स इस काम को अंजाम देने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे है। क्यों की आजकल सोशल मीडिया का इस्तेमाल काफी बड़ गया है। इसी के चलते हैकर्स भी इस बात को समझ गए है और वह भी सोशल मीडिया के जरिए लोगों को अपना शिकार बना रहे है।

ग्लोबल रिपोर्ट की मने तो लोगों को टारगेट करने के लिए हैकर्स Instagram और TikTok जैसे पॉपुलर ऐप्स का यूज कर रहे है। साइबर सिक्योरिटी कंपनी Avast के रिसर्चर के अनुसार हैकर्स 65 साल या उससे अधिक उम्र और 25 से 35 साल के उम्र वाले लोगों को प्राइमरली टारगेट कर रहे हैं। (Ransomware Attack)

लैपटॉप या कंप्यूटर यूज़र्स को है ज्यादा खतरा

हैकर्स उन लोगों को खासकर टारगेट किया जाता है जो लैपटॉप या कंप्यूटर से ऑनलाइन आते हैं। इनको Ransomware अटैक के जरिए टारगेट किया जाता है। जबकि मोबाइल से ऑनलाइन आने वाले ज्यादातर एज ग्रुप के लोगों को मोबाइल बैंकिग Trojans, एडवेयर, डाउनलोडर और FluBot SMS स्कैम के जरिए टारगेट किया जा रहा है। (Ransomware Attack)

Avast Threat Labs ने जारी किया डाटा

Avast Threat Labs डेटा के अनुसार कंपनी एवरेज 1.46 मिलियन Ransomware अटैक को 2021 के हर महीने में ब्लॉक कर रही है। FluBot काफी तेजी से मोबाइल पर ज्यादातर देश में फैल रहा है। इसमें भारत भी शामिल है। हैकर्स सोशल इंजीनियरिंग टैक्टिस का यूज करके विक्टिम के डिवाइस में मैलिशियस और दूसरे अनवाटंड ऐप्स इंस्टॉल करवा देते हैं। Instagram और TikTok के जरिए यूजर्स को मेलिशियस लिंक वाला मैसेज भेजा जाता है। यूजर्स के इसपर क्लिक करते ही उनके डिवाइस में मैलेशियस ऐप इंस्टॉल हो जाता है और हैकर आसानी से उसे कंट्रोल कर सकते हैं। (Ransomware Attack)

Also Read : ओप्पो जल्द लॉन्च करेगा अपनी नई OPPO Reno7 Series, लॉन्च से पहले सामने आई स्पेसिफिकेशन्स

Also Read : OnePlus 10 Pro के लीक्स में सामने आए कैमरा फीचर्स, जानिए क्या होगा ख़ास

Connect With Us : Twitter | Facebook Youtube

Latest news
Related news